June 25, 2022
Uncategorized

छत्तीसगढ़ में इस एक बार हर्षोल्लास के साथ हरेली त्यौहार के साथ गोधन न्याय योजना मनाने की शुरुआत

Spread the love

छत्तीसगढ़ में इस एक बार हर्षोल्लास के साथ हरेली त्यौहार के साथ गोधन न्याय योजना मनाने की शुरुआत

रिपोर्टर:-अरुण कुमार सोनी, बेमेतरा छत्तीसगढ़

एंकर :-छत्तीसगढ़ के लोगों के बीच सबसे लोकप्रिय और सबसे पहला त्यौहार हरेली त्यौहार 20 जुलाई को मनायी जायेगी। पर्यावरण को समर्पित यह त्यौहार छत्तीसगढ़ी लोगों का प्रकृति के प्रति प्रेम और समर्पण दर्शाता है। सावन मास की अमावस्या तिथि को मनाया जाने वाला यह त्यौहार पूर्णतः हरियाली का पर्व है ।इसीलिए हिंदी के हरियाली शब्द से हरेली शब्द की उत्पत्ति मानी जाती है। तो वही छत्तीसगढ़ सरकार भी इस वर्ष इस त्यौहार को अलग अंदाज में मनाने की तैयारी में जुट चुकी है ।इस दिन से सरकार गोधन न्याय योजना का भी शुरुआत करने जा रही है। जिसको लेकर लोगो मे भी उत्साह देखा जा रहा है।
किसानों का यह त्यौहार उनकी औज़ार पूजा से शुरू होता है।, किसान आज काम पर नहीं जाते हैं ।घर पर ही खेत के औजार व उपकरण जैसे नांगर, गैंती, कुदाली, रापा इत्यादि की साफ-सफाई कर पूजा करते हैं ।साथ ही साथ बैलों व गायों की भी इस शुभ दिन पर पूजा की जाती है। इस त्यौहार में सुबह – सुबह घरों के प्रवेश द्वार पर नीम की पत्तियाँ व चौखट में कील लगाई जाती है। ऐसा माना जाता है कि द्वार पर नीम की पत्तियाँ व कील लगाने से घर में रहने वाले लोगो की नकारात्मक शक्तियों से रक्षा होती हैं ।हरेली में ग्रामीणों द्वारा अपने कुलदेवताओं का भी विशेष पूजन किया जाता है।, विशेष पकवान जैसे गुड़ और चावल का चिला बनाकर मंदिरों में चढ़ाया जाता है।छत्तीसगढ़ के गाँव मे तो इस पर्व की बड़ी धूम दिखती है साथ ही साथ शहरों में भी आपकों दरवाज़े पर नीम टाँगने की रस्म दिख ही जाएगी और खेती के अलावा अन्य मजदूरी करने वाले लोग भी आज काम पर नही जाते।बारिश के मौसम में आये इस त्यौहार को कुछ लोग अंधविश्वास से जोड़ते है। जैसा कि आज के दिन घर के दरवाज़े पर नीम की पत्तियां लगाने और लोहे की कील ठोकने की परंपरा है। प्रदेश में ज़रूर इन परंपराओं का पालन यह बोल कर किया जाता है की इससे आपके घर से नकारात्मक शक्तियां दूर रहती है। लेकिन इन परंपराओं के पीछे कुछ वैज्ञानिक कारण है।
बारिश के दिनों में गड्ढो नालों में पानी भर जाने से बैक्टीरिया, कीट व अन्य हानिकारक वायरस पनपने का खतरा पैदा हो जाता है और दरवाज़े पर लगी नीम और लोहा उन्हीं हानिकारक वायरस को घर मे घुसने से रोकने का काम करती है।छत्तीसगढ़ी संस्कृति में घर के बाहर गोबर लीपने की वैज्ञानिक वजह भी हानिकारक वायरस से बचना ही है। इसलिये छत्तीसगढ़ के पहले प्रमुख त्यौहार को अंधविश्वास से जोड़ना किसी मायने में सही नहीं। हरेली पर्व का मुख्य आकर्षण गेड़ी होती है ।जो हर उम्र के लोगों को लुभाती है।साल 2020 में करीब 16 सालों बाद छत्तीसगढ़ में मनाए जाने वाले पारंपरिक पर्व ‘हरेली’ के दिन ‘सोमवती अमावस्या’ का संयोग बन रहा है। हरेली पर्व पर गांव-गांव में किसान अपने खेत-खलिहानों में कृषि औजारों की पूजा करते हैं और सोमवती अमावस्या पर भोलेनाथ के भक्त विशेष आराधना करते हैं। चूंकि हरेली के दिन ही 20 जुलाई सोमवार और अमावस्या तिथि एक साथ पड़ रही हैं।, इसलिए इस बार खेत-खलिहानों में पूजा से लेकर शहर के भव्य मंदिरों में शिवभक्ति का नजारा दिखाई देगा।

Related posts

ग्रामीणों ने की कुंदेड़ मे कैम्प खोलने की माँग।
“पूना नर्कोंम” का दिख रहा असर:ग्रामीण समझ रहे हैं विकास का महत्व,

jia

शराब की होम डिलवरी की बात कहकर की गई ठगी
फोन-पे के माध्यम से 4,500/- रूपये की की गई धोखाधड़ी

jia

Chhttisgarh

jia

Leave a Comment

error: Content is protected !!