September 26, 2021
Uncategorized

गोपालन और कृषि को अधिक लाभ का व्यवसाय बनाने की अभिनव योजना : बसंत ताटी ‘गोधन न्याय योजना’ के फ़ायदे बताते हुए मुख्यमंत्री की दूरदृष्टि की तारीफ़ की ताटी ने

Spread the love

जिया न्यूज़:-पटनम,

पटनम:-छत्तीसगढ़ के मुख्यमंत्री भूपेश बघेल द्वारा हाल ही में घोषित ‘गोधन न्याय योजना’ की तारीफ़ करते हुए वरिष्ठ कांग्रेस नेता और बीजापुर ज़िला पंचायत के सदस्य बसंत ताटी ने कहा कि ऐसी योजना की परिकल्पना अपनी ज़मीन और जड़ों से जुड़ा व्यावहारिक दृष्टिकोण वाला व्यक्ति ही कर सकता है।हम अपनी परंपरा के उस पुराने दौर को देखें,जब कृषि और गोपालन आजीविका के प्रमुख और प्राथमिक व्यवसाय थे।खेती और पशुओं की संख्या के आधार पर किसी की वास्तविक समृद्धि का आकलन किया जाता था।अन्न और गोधन सबसे बड़े धन थे।कृषि और पशुपालन एक-दूसरे के पूरक थे।गायें खेत जोतने के लिये बैल,खाद के लिये गोबर और विभिन्न खाद्य उत्पादों-दही,मठा,घी आदि के लिये दूध देती थीं।इसलिये जिसकी गोशाला में दूधारू गायों की जितनी अधिक संख्या होती थी,वह उतना ही धन-संपन्न माना जाता था।दान-दहेज में भी गायें दी जाती थीं।गोदान को मोक्षदायक पुण्यकर्म माना जाता था। कृषियंत्र न होने से बैल ही कृषिकार्य की रीढ़ होते थे।जुताई,निंदाई,खलिहान में खुँदाई,अनाज और अन्य कृषि उत्पादों की ढुलाई आदि कार्य बैल ही करते थे।कृषि और गोपालन का व्यवसाय सबसे अधिक सम्मान की दृष्टि से देखे जाते थे।तभी तो लोक कवि घाघ की यह कहावत उस काल में अत्यंत प्रसिद्ध था

“उत्तम खेती मध्यम बान।अधम चाकरी भीख निदान।”
ताटी ने ‘गोधन न्याय योजना’ को किसानों और पशुपालकों के लिये अत्यंत आकर्षक, व्यावहारिक और बहु लाभकारी बताया।उनके अनुसार यह कृषकों और पशुपालकों के आर्थिक हितों का संरक्षण करने वाली अभिनव और महत्वाकांक्षी योजना है।इस योजना के तहत पशुपालक गोधन का दैनिक गोबर बेचकर भी लाभ कमा सकेंगे।इसलिये इस योजना की घोषणा से ग्रामीण क्षेत्रों में विशेष रूप से हर्ष व्याप्त है गोपालन को प्रोत्साहित करने वाली यह योजना ग्रामीण अर्थव्यवस्था के ग्राफ को फिर से ऊपर उठाने की दिशा में मील का पत्थर साबित होगी।बसंत ताटी ने मुख्यमंत्री द्वारा इसके पहले शुरू की गयी ‘चार चिन्हारी’ और ‘नरवा,गुरवा,धुरवा बाड़ी योजना’ जैसी सफल योजनाओं का भी ज़िक्र किया

Related posts

मासोड़ी के बेरोजगार दिव्यांग हेमंत को सरकारी मदद की आस,राशनकार्ड भी नहीं है उसके पास

jia

पुल सुरक्षा में तैनात हेड कॉन्स्टेबल आईईडी ब्लास्ट में शहीद

jia

एक महीने से केन्द्र पर खड़ी ट्राली का धान खराब, फफक पड़ा किसान

jia

Leave a Comment

error: Content is protected !!