June 14, 2021
Uncategorized

कोविड 19 नियमों का पालन करते हुए लौह नगरी किरंदुल में हर्षोल्लास के साथ महिलाओं ने घर पर ही हलषष्ठी माँ की व्रत – पूजा।

Spread the love

जिया न्यूज़:-रवि दुर्गा-किरंदुल,

किरंदुल:-कोविड 19 नियमों का पालन करते हुए लौह नगरी किरंदुल में हर्षोल्लास के साथ महिलाओं ने घर पर ही हलषष्ठी मां की व्रत पूजा की गई ।

यह व्रत संतान सुख व सौभाग्य बढ़ाने हेतु किया जाता है। हलषष्ठी का व्रत भाद्रपद के कृष्ण पक्ष की षष्ठी तिथि को स्त्रियों द्वारा किया जाता है। यह व्रत पुत्र प्रदान करने तथा संतान सुख सौभाग्य व दीर्घायु को बढ़ाने वाला है। इस व्रत को करने से नि-संतान स्त्री को भी संतान की प्राप्ति होती है। इस दिन हल से जोती गई जमीन से उत्पन्न वस्तुओं तथा गाय के दूध व उससे बनी सामग्री आदि का त्याग किया गया ।

इस व्रत में फल व बिना बोया अनाज आदि खाने का विधान है। इस दिन को हरछठ के नाम से भी जाना जाता है।

इस दिन भगवान शिव, पार्वती, गणेश, कार्तिकेय व नंदी की पूजा का विशेष महत्व है। हलषष्ठी व्रत के लिए भोजन में तलाब में उगा हुआ चावल, सब्जी – में पपीता, मुनगा, कद्दू, सेम,तोरई, करेला, मिर्च, भैंस का दूध, दही, घी महुआ का सूखा फूल, सेंधा नमक, भोजन करने हेतु महुआ का पत्ता या उससे बना दोना का उपयोग किया गया।

इसकी मनोरम झलक नगर रामपुर कैम्प, लक्ष्मणपुर कैम्प, भरतपुर कैम्प, गजराज कैम्प, व्होरा कैम्प आदि इन सभी जगहों में महिलाओं के द्वारा हलषष्टि माँ के लिये व्रत रखकर पूरे विधि विधान के साथ पूजा की गई ।

Related posts

कोविड-19 संक्रमण के मद्देनजर केवल विद्यालय एवं महाविद्यालय बन्द करने के राज्य सरकार के निर्णय पर अखिल भारतीय विद्यार्थी परिषद ने उठाया सवाल

jia

200 क्विंटल चावल की हेराफेरी में आया नया मोड़ सेल्समैन घेनवा ने फूड इंस्पेक्टर योगेश मिश्रा पर लगाया धमकाने का आरोप

jia

32 गौवंश का परिवहन कर रहे दो लोगो को नगर पुलिस ने किया गिरफ्तार
गौवंशो को कांकेर से ले जाया जा रहा था तेलंगाना

jia

Leave a Comment

error: Content is protected !!