September 26, 2021
Uncategorized

कोरोनाकाल में सरकार व बस्तर प्रशासन आंगनबाड़ी कार्यकर्ताओं वह स्वसहायता समुह पर अन्याय करना बंद करें–मुक्ति मोर्चा महिला बाल विकास द्वारा संचालित योजनाओं हेतु अनुबंधित स्वसहायता समुहों पर समाग्री एक ही विक्रेता से खरीदने का दबाव बनाना अनुचित कार्य–मुक्ति मोर्चा बस्तर जिले के सभी के स्वसहायता समुह व आंगनबाड़ी कार्यकर्ता ने बस्तर अधिकार मुक्ति मोर्चा से मुलाकात कर न्याय लड़ाई लड़ने हेतु लगाई गुहार– मुक्ति मोर्चा बस्तर के आंगनबाड़ी कार्यकर्ता को कोरोनाकाल में DMF की राशि से मिले विशेष भत्ता व 50लाख का बीमा– मुक्ति मोर्चा

Spread the love

जिया न्यूज़:-जगदलपुर

जगदलपुर:-बस्तर जिले के सभी ब्लाकों के यता समुहों व आंगनबाड़ी कार्यकर्ता के प्रतिनिधि स्वसहायता मंडल जगदलपुर के निवास निषाद समाज भवन में बस्तर अधिकार मुक्ति मोर्चा के संयोजक मंडल के सदस्यों से मुलाकात कर अपनी समस्या बताते हुए कहा कि महिला बाल विकास विभाग के द्वारा संचालित योजनाओं में क्रय की जाने वाली समाग्री हेतु एक ही विक्रेता से स्थानीय अधिकारियों द्वारा क्रय किये जाने का दबाव समूहो पर बनाया जा रहा है जबकि योजनाओं संचालन हेतु अनुबंधित स्वसहायता समुहों के अनुबंध शर्तो में समाग्री क्रय किए जाने की स्वंत्रता अधिकार समूहो को दिया गया है। परन्तु स्थानिय विभाग के कुछ अधिकारियों के द्वारा अनुबंधित शर्तो को ताक में रखते हुए कमिशन खोरी हेतु सभी समाग्री हेतु एक विक्रेता तय किए जाने की दबाव बनाया जा रहा है। जो न्याय उचित नहीं है। बात ना मानने पर कार्रवाई की धमकी दी जा रही है।स्वसहायता समूह व आंगनबाड़ी कार्यकर्ता ने बताया कि एक तरफ कोरोनाकाल में संक्रमित लोगों को सर्वे करने का काम आंगनबाड़ी कार्यकर्ता दिया गया है। पर ना ही इस गंभीर आपातकाल में विशेष कोरोनावरिरसर स्व सहायता समूह के लोगों को ना ही बीमा का प्रावधान कार्यकर्ताओं के लिए किया गया है। कोरोना काल मे आंगनबाड़ी कार्यकर्ता को बिना सुविधाएं दिये डुयटी लगाना अमानवीय कृत्य है। बस्तर अधिकार मुक्ति मोर्चा के संयोजक नवनीत चाँद व जिला संयोजक भरत कश्यप ने सरकार व स्थानीय बस्तर प्रशासन को आड़े हाथ लेते हुए कहा कि महिला बाल विकास विभाग द्वारा शर्तो का उलंघन करते हुए यदि यता समुहों पर एक ही विक्रेता से समाग्री क्रय किए जाने का दबाव बनाया जायेगा तो इसे तानासाही स्व सहायता कहना ग़लत नहीं होगा ना ही भ्रष्टाचार से प्रेरित कदम कहना ग़लत नहीं होगा। वहीं आंगनबाड़ी कार्यकर्ताओं की समस्या। को सुनकर मुक्ति मोर्चा ने मांग स्वरूप अपील करते हुए कहा कि कोरोनाकाल में यह कार्यक्रता भी कोरोनावरियस तरह है। इसलिए इन्हें DMF फंड से विशेष भत्ता व 50लाख का बीमा सरकार व बस्तर के जनप्रतिनिधियों उपलब्ध कराए। यदि स्व सहायता समुहों आंगनबाड़ी कार्यकर्ताओं की जायज मांगों जल्द पूरी नहीं की गई तो बस्तर अधिकार मुक्ति मोर्चा प्रशासन को सौंप आंगनबाड़ी कार्यकर्ताओं एवं स्वसहायता समुहों के साथ मिलकर आंदोलन करेंगे।उक्त बैठक में बस्तर जिले के आंगनबाड़ी कार्यकर्ता व स्वसहायता समुहों का प्रतिनिधि मंडल व बस्तर अधिकार मुक्ति मोर्चा के संयोजक नवनीत चाँद,सहसंयोजक डॉक्टर अमित पीटर, जिला संयोजक भरत कश्यप, , शहर सहसंयोजक मनीष गढ़पाले, डमरू मण्डावी, शैलेन्द्र वर्मा, जोनी नाथ, शोभा गणोंत्री आदि उपस्थित।

Related posts

फेसबुक पर हिन्दू धर्म विरोधी पोस्ट शेयर किये जाने के विरुद्ध सर्व हिन्दू समाज द्वारा बचेली निवासी श्याम शाक्यवार पर करवायी एफआईआर

jia

Chhttisgarh

jia

बीजापुर में कोरोना का कहर,एक ही दिन में 13 मरीज आये सामने

jia

Leave a Comment

error: Content is protected !!