September 21, 2021
Uncategorized

जगदलपुर सीएसपी रहे देवनारायण पटेल ने पत्नी और बच्चों को गोली मारकर सन् 2014 में खुदकुशी कर ली थी. सरकार फिर शुरू कर सकती है जांच

Spread the love

जिया न्यूज़:-बब्बी शर्मा-कोण्डागाँव,

कोण्डागाँव:-राज्य सरकार पूर्व CSP स्व.देवनारायण पटेल के आत्महत्या प्रकरण को फिर से खोलने जा रही है. पटेल के परिजनों की नए सिरे से जांच की मांग के बाद इस मामले से जुड़ी फाइल तलब की गई है. यदि ऐसा हुआ तो तत्कालीन अतिरिक्त जिला और सेशन जज (फास्ट ट्रैक अदालत) एनेस्टस टोप्पो की मुश्किलें बढ़ सकती हैं. आश्चर्य कि छह साल गुजरने के बाद भी इस मामले में पीड़ित परिवार को न्याय नही मिल सका है।
यह मामला गुजरे 2014 का है जब जगदलपुर CSP रहे, आइपीएस देवनारायण पटेल ने अपने दो बच्चों और पत्नी को गोली मारकर खुदकुशी कर ली थी. इस हादसे में पति-पत्नी की मौत हो गई थी लेकिन छह साल के बेटे आर्यन और ग्यारह साल की बेटी पूनम गंभीर रूप से घायल हो गए थे. इस हादसे के बाद राज्य सरकार ने इसकी मजिस्ट्रेट जांच के आदेश दिए थे. पटेल के आवास से एक सुसाइड नोट बरामद किया गया था जिसमें निलंबन से हताशा जताई गई थी।
CSP पटेल ने चिट्ठी में लिखा था, मैं हमेशा राज्य और अपने विभाग के प्रति प्रतिबद्ध रहा लेकिन एक पियक्कड़ के झूठे दावों की बुनियाद पर ठीक तरह से जांच किए बगैर मुझे बेइज्जत और निलंबित कर दिया गया. मुझे अपनी बात भी नहीं कहने दी गई. लिहाजा निराश होकर मैं अब पूरे परिवार के साथ जा रहा हूं।
इधर हादसे के बाद पुलिस महकमे में हड़कम्प मच गया था और आइपीएस का एक धड़ा न्याय की मांग कर रहा था. उसके बाद छत्तीसगढ़ हाईकोर्ट ने जगदलपुर के CSP देवनारायण पटेल की आत्महत्या के बाद अतिरिक्त जिला और सेशन जज (फास्ट ट्रैक अदालत) एनेस्टस टोप्पो के काम और आचरण की जांच के आदेश दिए थे. कहा जा रहा है कि टोप्पो की तनातनी की वजह से ही पटेल ने परिवार समेत आत्महत्या कर ली थी।
तत्कालीन रजिस्ट्रार जनरल अशोक पंडा ने जारी निर्देश में कहा था कि छत्तीसगढ़ हाईकोर्ट के तत्कालीन चीफ जस्टिस यतींद्र सिंह ने टोप्पो के काम और आचरण की जांच के आदेश दिए थे जिसके तहत एक रजिस्ट्रार को जगदलपुर में बस्तर जिला अदालत पहुंचकर टोप्पो के काम और आचरण की जांच करने के निर्देश दिए थे. गौरतलब है कि पटेल और जज टोप्पो के बीच तनातनी हुई थी. इसके बाद एसपी पटेल को निलंबित कर दिया गया था. इस आदेश से परेशान पटेल ने रात को अपने सरकारी आवास में अपनी पत्नी प्रतिमा और दो बच्चों को गोली मारकर आत्महत्या कर ली थी. एक बच्चा बच गया था जो फिलहाल रिश्तेदारों के साथ रह रहा है. रिश्तेदारों ने अब पुन: मामले की जांच होने और न्याय दिलाने की बात कही है।
उस दौरान विपक्षी कांग्रेस ने यह मुददा उठाया था और निष्पक्ष जांच की माग की थी लेकिन ऐसा नही हो सका था. अब जबकि राज्य में कांग्रेस की सरकार है तो बस्तर जिला के नेताओं ने इसकी जांच पुन: करने का आग्रह किया है।

Related posts

मानवीय संवेदना का निर्वहन करता हुवा टीचर्स एसोसिएशन परिवार
अधिकारों की मांग के साथ सामाजिक सरोकार की भूमिका में संगठन

jia

विशेष आवश्यकता वाले बच्चों का निःशुल्क इलाज करने के कलेक्टर ने दिए निर्देश

jia

एसपी ने जिले में उत्कृष्ट कार्य करने वाले महिला उप. निरी. एवं प्रधान आरक्षक को किया सम्मानित…

jia

Leave a Comment

error: Content is protected !!