June 24, 2021
Uncategorized

पौधारोपण कार्य पूर्ण,तार फेन्सिंग अधूरी ,मजदूरी भुगतान अधूरा गीदम रेंज के एक ही कार्य में कई अनियमितता बिना तार फेंसिंग गये पौधा रोपण क्षेत्र को छोड़ दिया गया

Spread the love

जिया न्यूज़:-दंतेवाड़ा/गीदम,

गीदम:-वन परिक्षेत्र कार्यालय गीदम के नागफनी परिसर में नारंगी क्षेत्र 25 हेक्टेयर में किये गये औषधि रोपण कार्य में वन परिक्षेत्र अधिकारी व अन्य कर्मचारियों द्वारा कार्य का मजदूरों को आधा भुगतान समझ से परे है।सवाल उठता है कि कार्य पूर्ण हुआ पर मजदूरी भुगतान अधूरा क्यों हुआ।कार्य पूर्ण हुआ तभी आहरण किया गया।स्थल पर पहुंच कर देखने पर रोड के किनारे का रोपण क्षेत्र खुला हुआ है। तार फेन्सिंग केवल एक ओर लगभग दो सौ मीटर तक ही नजर आ रही है।जो कि प्रथम दृष्टया जंगल से ही प्राप्त लकड़ी के खम्बे बना कर की गयी लग रही हैं। जबकि लकड़ी के खम्बों की जगह सीमेंट के पोल होने चाहिये थे। सारे पौधे खुले पशुओ का निवाला बनने को छोड़ दिये गये है।जबकि पौधा रोपण का सही सुरक्षित तारीका यह है कि पहले तार फेंसिंग की जाये फिर पौधे का रोपण कार्य किया जाये।लेकिन इस तरह के लापरवाही कर के साफ निकल जाना वन विभाग के अधिकारियों के लिये कोई बड़ी बात नही है।वहीं इस कार्य के भुगतान की बात की जाये तो वन विभाग के नियमानुसार कार्य पूर्ण होंने के बाद एक ही में ही पूर्ण भुगतान होता है।वह भी तब जब कार्य पूर्ण रूप से किया जा चुका होता है।जब कार्य पूर्ण कर लिया जाता है उसके पश्च्यात कार्य करने वाले मजदूरों के व्हाउचर बनते हैं। जिसपर सम्बन्धित क्षेत्र के बीट गार्ड,डिप्टी रेंजर,रेंजर के बाद उप वन मण्डलाधिकारी के हस्ताक्षर होते हैं।तय मानकों के हिसाब से कार्य पूर्ण पाये जाने पर वन मण्डलाधिकारी आहरण अनुमति प्रदान करते हैं। चेक कटता है चेक कैश किया जाता है और मजदूरों को पूर्ण भुगतान किया जाता है। लेकिन गुरुवार को जब कई महीनों बाद मजदूरी भुगतान की बारी आई तो मजदूरों को पूर्ण भुगतान की आशा थी। क्योंकि ग्रामीणों को कोरोना काल के इन दिनों काम काज में कमी की वजह आमदनी की कोई राह नही मिल रही है पुराने किये गये कार्यो के पैसो के मिलने से रोजमर्रा की जरूरत पूरा करने आस बंधी हुई थी। लेकिन 3 सितम्बर गुरुवार को भुगतान करने वन परिक्षेत्र अधिकारी सुखदास नाग स्वंय कोरलापाल गांव पहुंचे थे। मजदूरों को भुगतान हेतु बुलवाया गया तथा सरपंच के सामने सभी मजदूरों का भुगतान तो किया गया लेकिन अधूरा। पर अधूरा भुगतान करने के बाद मजदूरों से व्हाउचर में हस्ताक्षर ले लिए गए, गीदम वन परिक्षेत्र अधिकारी सुखदास नाग ने मजदूरों से बाकी का भुगतान अगले माह करने का वादा किया और वापस आ गये। कोरलापाल के एक ही स्थल नारंगी क्षेत्र पर हुए कार्य को ग्रामीणों को दो अलग अलग कार्य बतला कर भुगतान एक तरफ का किया गया वो भी आधा। और दूसरी तरफ का भुगतान बाद में दिया जाएगा इस तरह की बाते बताई गई ।कम दिनों की हाजिरी वालो को भुगतान कर दिया गया लेकिन बाकी बहुत से लोगो का भुगतान नही दिया गया। गौरतलब हैं कि सुखदास नाग हाल ही में बारसूर परिक्षेत्र में लगभग 3 वर्षो का कार्यकाल पूर्ण कर गीदम वन परिक्षेत्र अधिकारी के अतिरिक्त चार्ज पर है।कुछ दिनों पूर्व ही वन प्रबन्धन समिति तोड़मा के द्वारा निर्मित किये जाने वाले ट्री गार्ड निर्माण कार्य को गीदम में महाराष्ट्रीयन लोगो को ठेके में देने का मामला सामने आया था। कार्य की जांच की बात वन मण्डलाधिकारी दंतेवाड़ा संदीप बलगा ने कही है। साथ ही उक्त रोपण के सम्बंध में वन मण्डलाधिकारी संदीप बलगा ने कहा है कि कार्य का भुगतान पूरा करवा दिया जायेगा।

Related posts

अनुसूचित जनजाति मोर्चा प्रदेश महामंत्री नंदलाल मुडामी ने वेक्सीनेशन सेंटर पालनार व कुआकोंडा में दौरा किया गया

jia

मेकाज के डॉक्टर क्यों उतरे विरोध प्रदर्शन के लिए
काली पट्टी बांधकर किया सांकेतिक धरना

jia

नीलगिरी प्लांट में जुआ खेलते 5 गिरफ्तार
16 हजार से अधिक की राशि व 6 मोटरसाइकिल, 02 नग चेक एवं ताश के पत्ते बरामद

jia

Leave a Comment

error: Content is protected !!