June 18, 2021
Uncategorized

लॉकडाउन का आखिरी दिन, खुलेगा या बढ़ेगा,-अफसरों में आज मंथन

Spread the love

जिया न्यूज़:-अरुण सोनी-बेमेतरा,

बेमेतरा:-दो सप्ताह के सख्त लॉकडाउन के बाद मंगलवार को राजधानी सहित जिला अनलॉक होने जा रहा है। ऐसी स्थिति में जरूरत का सामान खरीदने वालों की शहर के प्रमुख बाजारों में भीड़ उमड़ने की आशंका है। बाजार में अचानक से भीड़ उमड़ने से कोरोना संक्रमण फैलने का खतरा है। अनलॉक होने के बाद बाजारों में भीड़ को नियंत्रित करने कलेक्टर, पुलिस, नगर पालिका तथा प्रमुख अधिकारियों के साथ आज विचार-विमर्श करेंगे। लोगों का कहना है, लॉकडाउन खुलेगा या बढ़ेगा, इस पर आज मंथन होगा।गौरतलब है, इस बार का लॉकडाउन सख्त होने की जानकारी मिलने के बाद लोगों ने पूरे एक सप्ताह के लिए खाने-पीने की जरूरत के हिसाब से सामानों की पहले ही खरीदारी कर ली थी। इस लॉकडाउन में लोगों को एक निश्चित समयसीमा में दूध को छोड़कर अन्य किसी भी तरह के खाने-पीने का सामान नहीं मिला। ऐसी स्थिति में अनलॉक के बाद शहर के प्रमुख थोक और चिल्हर बाजारों में भीड़ उमड़ने की आशंका है। बाजार में पहुंचने वाले लोगों को कंट्रोल करना प्रशासन तथा पुलिस के लिए एक बड़ी चुनौती है।
मंगलवार को लॉकडाउन खुलने की संभावना है। उस हिसाब से अनलॉक के एक दिन पहले शहर में अनाउंस कराकर लोगों को सोशल डिस्टेंसिंग का पालन करने अपील की जाएगी। साथ ही लोगों को बेवजह घर से बाहर न निकलने के लिए कहा जाएगा। सोशल डिस्टेंसिंग का पालन कराने तथा भीड़भाड़ वाले इलाकों को खाली कराने नगर निगम की मदद ली जाएगी।शहर के बाजारों में लोगों की भीड़ एकत्रित न हो, इसे ध्यान में रखते हुए दुकान के बाहर सामान निकालकर बेचने वाले दुकानदारों के खिलाफ कार्रवाई करने की चेतावनी दी है। उक्त कार्रवाई पुलिस व ट्रैफिक विभाग दोनों मिलकर करेंगे।शहर के कई इलाकों में लोग सड़कों पर पसरा बिछाकर सब्जी बेचने के साथ अन्य तरह के कारोबार करते हैं। उन्हें पहले सड़क पर पसरा बिछाकर सब्जी तथा अन्य सामान नहीं बेचने की लिए समझाइश दी जाएगी। समझाइश के बाद भी नहीं मानने वाले लोगों के खिलाफ नगर पालिका तथा पुलिस की संयुक्त टीम द्वारा जब्ती कार्रवाई करने की बात कही है।
इस मामले में बेमेतरा जिले के में लॉकडाउन को आगे बढ़ाया जाए या नहीं, इस पर चर्चा के लिए आज बैठक बुलाई गई है। समीक्षा के बाद निर्णय लिया जाएगा कि लॉकडाउन आगे बढ़ाया जाएगा या नहीं। ऐसे में ये बड़ा सवाल है कि हफ्तेभर की तालेबंदी से मजदूरों, रोज कमाने-खाने वालों के सामने भी दिक्कतें हैं।

Related posts

बड़ी खबर
सिलगेर गोलीकांड को लेकर माओवादियों ने जारी किया प्रेस नोट,

jia

कोविड अस्पताल की जांच करने खुद ही कोविड पेशेंट बन पहुँचे साँसद दीपक बैज…

jia

जंगल में नक्सल-पुलिस के बीच मुठभेड़, भारी मात्रा में नक्सलियों की दैनिक सामग्री जब्त, घटना में एसटीएफ के दो जवान घायल

jia

Leave a Comment

error: Content is protected !!