June 23, 2021
Uncategorized

भूपेश सरकार की संवेदनहीनता पर बरसीं पूर्व मंत्री लता उसेन्डी

Spread the love

जिया न्यूज़:-बब्बी शर्मा-कोण्डागाँव,

कोंडागांव जिले के बड़े राजपुर तहसील में ग्राम मारंगपुरी निवासी 40 वर्षीय किसान धनीराम द्वारा आत्महत्या किये जाने की दुखद घटना पर छत्तीसगढ़ भाजपा प्रदेश उपाध्यक्ष व पूर्व मंत्री सुश्री लता उसेंडी ने स्थानीय विश्राम गृह मे आयोजित प्रैसवार्ता में मीडिया प्रतिनिधियों से चर्चा करते हुए प्रदेश सरकार व सरकारी तंत्र को आड़े हाथों लिया.उनकी विफताओं के लिए कटघरे मे खड़ा करते हुऐ सरकार और सरकारी तंत्र पर घोर लापरवाही का आरोप लगाया, उन्होंने कहा कि यह अफसोस की बात है कि अन्नदाता को सरकार की गलत नीतियों की वजह से बद हाली मे ऐसे निराशा जनक कदम उठाने पड़ रहे है । जिस किसान कि दो बेटियां और एक बूढ़ी मां हो और जो अपने घर का इकलौता पालनहार हो, वह उपज न बिक पाने के चलते तनाव ग्रस्त हो कर अपनी इहलीला समाप्त करने का फैसला करता है तो यह सरकार के लिए शर्म की बात है । प्रदेश सरकार और समूचा सरकारी तंत्र मामले पर पर्दा डालने की नीयत से उक्त किसान को अवसादग्रस्त बताने पर तुला रहा, व आत्महत्या के कारण को तोड़ मरोड़ निजी जीवन से जोड़ने की कोशिश में लगा रहा ।

धनी राम मरकाम की कुल जमीन 6.70 एकड़ है । सारी जमीन पर धान बोया गया था जिसकी उपज भी अच्छी रही थी । जिला सहकारी बैंक से तकरीबन ६१००० रुपये कर्ज लिया था । किसान के घरवालों ने बताया की पिछली बार 90 क्विंटल धान बेचे थे और इस बार करीब 100 क्विंटल धान बेचने की उम्मीद थी जिससे बैंक कर्ज उतार कर अपनी बड़ी बेटी की शादी का विचार कर रहे थे । धान खरीदी केंद्र से जानकारी प्राप्त हुई की गिरदावरी उपरांत रकबा घटा देने की वजह से वह सिर्फ 11 क्विंटल धान ही बेच सकते है । इससे आहत किसान ने अगले दिन सुबह अपने ही खेत मे फांसी लगा ली ।

किसान की आत्महत्या का प्रमुख कारण सरकार की गलत नीतियों, धान खरीदी मे पारदर्शिता का अभाव, गिरदावरी व अन्य तमाम तकनीकी खामियों के रूप में सामने आई है । अधिकारी और कर्मचारी सरकार के दबाव मे काम करने को मजबूर है । मृतकों को मानसिक रोगी और अवसादग्रस्त बताने मे लगी सरकार खुद विफलताओं के बोझ और तुगलकी सनक के चलते जनता का विश्वास खो रही है । किसान हितैषी होने का नारा देकर सत्ता में आईं इस सरकार की नीतियों ने आज किसान भाईयो को ही सबसे पहले समाजिक, आर्थिक, मानसिक रूप से प्रताड़ित कर उनका जीवन लीलना शुरू कर दिया है ।

सुश्री उसेंडी ने सरकार से न्यायसंगत रवैया अपनाते सम्बन्धित जिम्मेदारों पर कठोर कार्यवाही करने की मांग की है । इसके साथ ही धान को पुरानी नीति के तहत खरीदने की मांग की है । किसान की बेटी को सरकारी नौकरी, बैंक की कर्ज माफी, ६.७० डिसमिल जमीन के हिसाब से १०० क्विंटल धान खरीदने की मांग के साथ ही परिवार के सदस्यों को उचित मुआवजा देने की मांग की है । मांगें पूरी न होने पर भारतीय जनता पार्टी द्वारा आंदोलन की चेतावनी दी गई है ।
प्रैस वार्ता में भाजपा जिलाध्यक्ष दीपेश अरोरा सहित बालसिंह बघेल, जैनेन्द्र ठाकुर, श्रीमती हेमकुंवर पटेल(नगरपालिका अध्यक्षा), जसकेतु उसेंडी(नगर पालिका उपाध्यक्ष), अश्विनी पाण्डेय, विनय राज, रौनक दीवान, विकास दुआ व अन्य कार्यकर्तागण उपस्थित थे।

Related posts

Chhttisgarh

jia

अंगद की तरह जमे हुए हैं। बाबू…हालात बेकाबू बड़े बाबू तो बड़े बाबू छोटे बाबू शुभानअल्लाह

jia

परिवहन कार्यालय अब पटरी पर,काम होने लगे आसानी से

jia

Leave a Comment

error: Content is protected !!