September 23, 2021
Uncategorized

विज्ञान प्रसार के रामानुजन यात्रा 2020 राष्ट्रीय गणित दिवस पर हुआ समापन।

Spread the love

जिया न्यूज़:-दंतेवाड़ा,

दंतेवाड़ा:-गणित और विज्ञान के विशेषज्ञों ने पूरे भारत में प्रतिभाशाली और असाधारण गणितीय श्रीनिवास रामानुजन की 133 वीं जयंती पर उनको श्रद्धांजलि दिए। विश्व स्तर पर प्रसिद्ध गणितीय प्रतिभा “अनंत को जानने वाला व्यक्ति” श्रीनिवास रामानुजन की समृद्ध विरासत का जश्न भारत ने उनके मृत्यु शताब्दी पर प्रारंभ हुई रामानुजन यात्रा 26 अप्रैल से 22 दिसंबर 2020 तक साइंस इंडिया टेलीविजन वर्चुअल के माध्यम से मनाया गया। विज्ञान और प्रौद्योगिकी विभाग भारत सरकार के अंतर्गत विज्ञान प्रसार ने श्रीनिवासा रामानुजन के अनुसंधान, गणित और विज्ञान अध्ययन को ध्यान केंद्रित करने केलिए रामानुजन यात्रा 2020 प्रारंभ किया था। राष्ट्रीय गणित सप्ताह 15-22 दिसंबर के दौरान हर साल भारत में मनाया जाता है। 22 दिसंबर को श्रीनिवासा रामानुजन के 133 वीं जयंती और राष्ट्रीय गणित दिवस के अवसर पर रामानुजन यात्रा 2020 का अंतिम समापन समारोह आयोजित किया गया। इस दौरान प्रिंसटन यूनिवर्सिटी अमेरिका के प्रोफेसर पद्मभूषण प्रो मंजुल भार्गव के द्वारा “रामानुजन के रत्न और गणित पर उनके प्रभाव” विषय पर एक विशेष व्याख्यान वेबिनार आयोजित किया गया। इस वेबिनार में विज्ञान प्रसार के निदेशक डॉ नकुल पाराशर ने रामानुजन यात्रा के गतिविधियां के बारे में बताया और इसका महत्व बताया । विज्ञान प्रसार के वैज्ञानिक डॉ टीवी वेंकटेश्वरन ने पूरे कार्यक्रम पर मुख्य भाषण दिया। इंस्टीट्यूट ऑफ मैथमेटिकल साइंसेज चेन्नई के प्रोफेसर डॉ आर रामानुजम ने अतिथि वक्ता प्रो मंजुल भार्गव और गणित में उनके प्रतिष्ठित उपलब्धियों को संबोधन करते स्वागत किया। विज्ञान और प्रौद्योगिकी विभाग भारत सरकार के अंतर्गत भारतीय विज्ञान कांग्रेस संस्था के आजीवन सदस्य तथा आस्था विद्या मंदिर दंतेवाड़ा के शिक्षाविद् अमुजूरी बिश्वनाथ ने इस वेबिनार में हिस्सा लिया और आभासी प्लेटफार्मों के गणितीय पहलुओं के बारे में चर्चा की। जिसमें रामानुजन के अनुकरणीय योगदान अण्डाकार कार्यों, निरंतर अंश, अनंत श्रृंखला और संख्याओं के विश्लेषणात्मक सिद्धांत के बारे में उल्लेखनीय हुआ। यह हमारे लिए बहुत प्रेरणा और गर्व की बात है कि दुनिया भर के गणितज्ञ उसके विभिन्न अप्रकाशित पत्रों का अध्ययन करना जारी रखते हैं। यह कार्यक्रम सह-आयोजकों इंटरनेशनल सेंटर फॉर थियोरेटिकल साइंसेज टीआईएफआर बेंगलुरु, पाई मैथेमेटिक्स एसोसिएशन चेन्नई, रामानुजन मैथमैटिकल सोसाइटी, जीआईटीएएम यूनिवर्सिटी विशाखापटनम, पंजाब इंजीनियरिंग कॉलेज और पंजाब यूनिवर्सिटी चंडीगढ़, केरल स्कूल ऑफ मैथमेटिक्स कोझिकोड द्वारा आयोजित किया गया। देश भर के विभिन्न विश्वविद्यालयों, संस्थानों और संगठनों के कई गणितज्ञों, वैज्ञानिकों, अनुसंधान विद्वानों, प्रोफेसरों, शिक्षकों और प्रख्यात वक्ताओं ने रामानुजन यात्रा के दौरान अपने विचार, पत्र और शोध कार्य प्रस्तुत किए हैं।

Related posts

Chhttisgarh

jia

Chhttisgarh

jia

नक्सलियों के नापाक इरादों को पुलिस ने किया विफल,40किलो के आईईडी बम को बीडीएस की टीम ने किया निष्क्रिय

jia

Leave a Comment

error: Content is protected !!