June 20, 2021
Uncategorized

पंचायत सचिव संघ द्वारा एक सुत्रीय मांग व् नियमितिकरण को लेकर कटेकल्याण एवं कुआकोंडा पंचायत सचिवो के हडताल धरना प्रदर्शन को विभिन्न राजनितिक पार्टियों एवं जनप्रतिनिधियों का मिलने लगा समर्थन।

Spread the love

जिया न्यूज़:-दंतेवाड़ा,

दंतेवाड़ा:-ग्राम पंचायत सचिव संघ द्वारा पिछले 10 दिनाें से अपने एक सुत्रीय मांग नियमितिकरण को लेकर जनपद पंचायत कार्यालय कटेकल्याण एवं कुआकोंडा के सामने पंडाल लगाकर हडताल किया जा रहा है, और पंचायत सचिवो के हडताल धरना प्रदर्शन को अब विभिन्न राजनितिक पार्टियों सहित जनप्रतिनिधियों का समर्थन मिलने लगा है।

आज धरना स्थल पर भाजपा अजजा मोर्चा के प्रदेश महामंत्री नंदलाल मुडामी,जिला पंचायत सदस्य मालती मुडामी,पायके मरकाम,वरिष्ठ भाजपाई रामबाबू सिंह गौतम नगर पालिका दंतेवाड़ा के उपाध्यक्ष धीरेंद्र प्रताप,क्षेत्र के जनपद सदस्य और सरपंचो ने ग्राम पंचायत में कार्यरत सचिव-रोजगार सहायकों की मांगो को लेकर अनिश्चित कालीन धरना प्रदर्शन स्थल पर पहुंच कर समर्थन दिया।

नंदलाल मुडॉमी ने कर्मचारियों की हर लड़ाई में साथ देने का वादा किया, और प्रदेश सरकार की वादाखिलाफी पर जम कर प्रहार किया।
उन्होंने कहा कि, हड़ताल के चलते खासकर ग्रामीण ईलाको में इसका व्यापक असर देखने को मिल रहा है, कई ग्राम पंचायत कार्यालयों के ताले ही नही खुल पा रहे है, ग्राम पंचायत के सचिव और रोजगार सहायकों के हडताल के कारण पंचायतो में कामकाज ठप पड गये है, एक तरह से गांवाें के विकास कार्य अवरूध्द होने लगे है, क्षेत्र में इन दिनाें मनरेगा योजना के तहत गांव गांव में रोजगार मूलक कार्य किया जाता है और इन कार्यो में ग्राम पंचायत के सचिव व रोजगार सहायको का महत्वपूर्ण योगदान होता है।वे दिन-रात एक कर सरकार की योजनाओं को जमीनी स्तर पर क्रियान्वयन करते है जिनकी वजह से सरकारें श्रेय लेती हैं,लेकिन हडताल में चले जाने से सभी योजनाओं सहित मनरेगा योजना के कार्य ज्यादा प्रभावित हो रहे है जिससे क्षेत्र के ग्रामों में अब पलायन की स्थिति निर्मित हो रही है।
हर वर्ष क्षेत्र से बडी संख्या में लोग कामकाज के अभाव में दुसरे प्रदेश रोजगार के लिए पलायन करते है,यह बात लाॅकडाउन के समय जब पलायन किये गये मजदूरों को लाया गया, तब पता चली,
क्षेत्र से हजारों की सख्या में लोग अन्य प्रदेश पलायन कर रहे हैं,इधर पंचायत के सचिवों और रोजगार सहायक के हडताल में चले जाने से गांव के विकास कार्य पूरी तरश से प्रभावित हैं।क्षेत्र से बड़ी संख्या में पलायन से इंन्कार भी नही किया जा सकता।आने वाले समय में गंभीर स्थिति निर्मित हो सकती है,
जिसकी सम्पूर्ण जिम्मेदारी राज्य सरकार की होगी।

Related posts

सुकमा जिले में 17 मई प्रातः 6:00 बजे तक बढ़ा लॉकडाउन
जिले की सभी सीमाएं पूर्णतः रहेगी सील

jia

Chhttisgarh

jia

Chhttisgarh

jia

Leave a Comment

error: Content is protected !!