June 17, 2021
Uncategorized

बस्तर के किसानों व कर्मचारियों से निभाये राज्य सरकार अपना किया वादा-मुक्तिमोर्चा

Spread the love

जिया न्यूज़:-जगदलपुर,

दरभा व तोकापाल ब्लाक पहुंच ,बस्तर अधिकार मुक्तिमोर्चा ने सचिव,रोजगार सहायक संघ की मांग को दिया समर्थन ,धान खरीदी केंद्र में किसानों की सुनी समस्या-नवनीत

बारदानो की कमी धान उठाओ में लापरवाही बस्तर का किसान नहीं करेगा बर्दाश्त, ग्राम सभा बुलाओ अधिकार पाओ अभियान की होगी शुरूआत– मुक्ति मोर्चा

जगदलपुर:-बस्तर अधिकार मुक्तिमोर्चा के संभागीय संयोजक नवनीत चांद व जिला संयोजक भरत कश्यप के नेतृत्व में दरभा व तोकापाल ब्लाक पहुंच मुक्ति मोर्चा के दल द्वारा सचिव व रोजगार सहायक संघ के नेतृत्व में जारी भुख हड़ताल में शिरकत कर उनकी जायज मांगों का समर्थन देते हुए संभागीय संयोजक नवनीत चांद ने कहा कि बस्तर 5वी अनुसूची क्षेत्र के अंतर्गत संविधान के विशेष दर्जा प्राप्त करता है जहां ग्राम सभा को सर्वोच्च सभा का स्थान प्राप्त है ऐसे में सर्वोच्च सभा का सचिव अनियमित कैसे हो सकता है। राज्य के वर्तमान पंचायत मंत्री द्वारा विपक्ष के नेता रहते हुए घोषणा पत्र बनाने से पूर्व राज्य के कर्मचारियों से विचार-विमर्श कर कांग्रेस पार्टी का जनघोषणा पत्र जारी किया था। जिसमें उन्होंने संयम कहां था। सरकार बनने के 10 दिनों के अंदर सभी अनियमित कर्मचारियों को नियमित कर दिया जायेगा। सरकार के 2वर्ष बीत जाने के बाद भी पंचायत मंत्री द्वारा किये गये वादे को पूरा ना करना ना केवल राज्य बल्कि 5वी अनुसूचि क्षेत्र के निवासियों के साथ किया गया धोखा है। जिसका बस्तर अधिकार मुक्तिमोर्चा घोर निन्दा करता है। राज्य सरकार व उनके बस्तर के जनप्रतिनिधियों को घोषणा पत्र के वादों को याद दिलाने हेतु 5वी अनुसूची क्षेत्र के अंतर्गत संविधान के दिए गये अधिकारों का प्रयोग करते हुए बस्तर के ग्राम पंचायतों में जन-जागरूकता फैलाकर ग्राम सभा बुलाओ अधिकार पाओ अभियान आगामी दिनों में प्रारंभ किया जायेगा। इस अभियान में ना केवल सचिवों बल्कि रोजगार सहायक/ आंगनबाड़ी कार्यकर्ता/ मितानिन/अतिथि शिक्षक/ सहायक आरक्षक/ व अन्य जमीनी स्तर पर शासकीय योजनाओं को जमीनी स्तर पर क्रियावन करने वाले कर्मचारियों के जायज मांगों को ग्राम सभा बुलवा अनुमोदन करवा बस्तर के जनप्रतिनिधि, जनजाति सलाहकार समिति व बस्तर विकास प्राधिकरण के माध्यम से राज्य के मुख्यमंत्री व राज्यपाल को मांग पुरे करने हेतु प्रस्ताव प्रेसित किया जायेगा। वहीं मुक्ति मोर्चा के द्वारा दोनों ही ब्लाक के धान खरीदी केन्द्रों का निरीक्षण किया गया व किसानों की समस्या सुनी गई। किसानों ने बताया कि बारदाना की कमी व डंप धान उठाओ में लापरवाही व प्रतिदिन धान खरीदी की लिमिट तय किये जाने से किसानों को धान बेचने में बेहद दिक्कत का सामना करना पड़ रहा है। जिला संयोजक भरत कश्यप ने संपुर्ण समस्याओं पर बस्तर के जनप्रतिनिधियों की उदासीनता व जिला प्रशासन की लापरवाही को जिम्मेदार ठहराते हुए कहा कि, दरभा ब्लाक के नेगानार धान खरीदी केन्द्रों में अब तक 4416 क्विंटल धान खरीदी किया गया है। व धान उठाओ की मात्रा 240 क्विंटल है। वहीं तोकापाल ब्लाक के तोकापाल धान खरीदी केन्द्र में 31,451 क्विंटल धान खरीदा गया है, उठाओ मात्र 8 हजार क्विंटल हुआ है। ब्लाक के सभी धान खरीदी केन्द्रों का लगभग यही हाल है, हालात को देखते हुए यह कहना उचित है कि ज़िले के धान खरीदी केन्द्रों की व्यवस्था को सुनिश्चित करने हेतु व किसानों के समस्या का समाधान करने के उद्देश्य से बस्तर के जनप्रतिनिधियों का दौरा व राज्य सरकार का यह कथन “”खरीदेंगे किसानों का धान का एक एक दाना कम ना पड़ेगा बारदाना”” जैसा घोषणा, हवा हवाई जुमला था। बस्तर अधिकार मुक्तिमोर्चा सरकार जनप्रतिनिधि व जिला प्रशासन से अपिल करता है कि किसानों की समस्या निराकरण करते हुए भुख हड़ताल में बैठे कर्मचारियों का समाधान करे। उक्त कार्यक्रम में मुक्ति मोर्चा के पदाधिकारियों के रूप में सुनिता दास, नरेंद्र मिश्रा, रोशन सचदेव, शैलेन्द्र वर्मा, सुरेंद्र तिवारी, महेंद्र मौर्य, महेंद्र सोनी, शंकर कश्यप, आदि कार्यकर्ता व किसान, सचिव, रोजगार सहायक संघ के सदस्यों उपस्थित थे

Related posts

छत्तीसगढ़ की धान खरीदी में धान बेचने वाले भाजपा नेताओं को धान खरीदी पर आंदोलन में शामिल होने का कोई नैतिक अधिकार नही है-विक्रम

jia

Chhttisgarh

jia

“द ह्यूमन सोसाइटी” के सदस्यों ने मंत्री टी एस सिंह देव से मिलकर दी दीपावली की बधाई – प्रकाशपुंज पाण्डेय

jia

Leave a Comment

error: Content is protected !!