October 18, 2021
Uncategorized

6 वी बार अनुराधा देगी बस्तर में दशहरा मनाने की अनुमति
6 अक्टूबर को पथरागुड़ा के काछन गुड़ी में सम्पन्न होगा यह रस्म

Spread the love

जिया न्यूज़:-जगदलपुर,

जगदलपुर:-परपा क्षेत्र के बड़े मोरठपाल में रहने वाली 13 वर्षीय अनुराधा इस बार फिर बेल के काटो में झूलकर बस्तर दशहरा मनाने की रस्म को अदा करेगी, वही अनुमति लेने बस्तर महाराज आतिशबाजी के साथ ही राजपरिवार के सदस्यों के साथ ही जनप्रतिनिधियों, माझी चालकी के साथ आएंगे।
अनुराधा दास ने बताया कि जब वह 6 वर्ष की थी, तब से वह इस रस्म को निभा रही है, आज 13 वर्ष होने के साथ ही वह मोरठपाल के ही पूर्व माध्यमिक शाला बड़े मारेंगा में कक्षा 7 वी की छात्रा है, अनुराधा ने बताया कि वह इस रस्म को निभाने के लिए अपने पिता शिव प्रसाद दास के अलावा अपनी माँ को लेकर आई है, जहाँ एक एक के अंतराल में उपवास रहकर इस रस्म को निभाएगी, यह रस्म शहर के पथरागुड़ा स्थित जेल बाड़ा के पास बने काछन गादी में मनाया जाएगा, जहाँ शहर के अलावा विदेशों से लोग इस रस्म को देखने आते है, वही इस पूरे स्थल को बेरिकेट के साथ ही जवानों की तैनाती किया जाता है, जहाँ बाद में बस्तर महाराज कमल चंद्र भंजदेव के साथ ही राजपरिवार के साथ माता से अनुमति लेने के लिए आएंगे, जहाँ माता के रूप में अनुराधा बस्तर महाराज की काटो के झूले में झूलकर उन्हें फूल देकर इस रस्म को मनाने की अनुमति देगी,
वही बताया गया है कि पथरागुड़ा के भंगाराम चौक में स्थित इस गुडी (मंदिर) को काछन गुड़ी कहते है। इसका निर्माण काकतीय (चालुवय) वंश के राजा दलपत देव के द्वारा 18 वीं शताब्दी अर्थात सन् 1772 के आसपास किया गया था। वर्ष 2005 में शासन के द्वारा जीर्णोद्वार किया गया, दशहरा पर्व के अंतर्गत काछन देवी के द्वारा काँटेदार झूले की गद्दी पर आसीन होकर दी जाने वाली ” कंटक जयी ” होने का आर्शीवाद् काछन गादी पूजा विधान कहलाता है। जो आश्विन अमावस्या के दिन होता है। काछन देवी’ रण की देवी कहलाती है। ऐसा माना जाता है आश्विन अमावस्या को पनका जाति कि कुवांरी कन्या को देवी की सवारी आती है। देवी को काछन गुड़ी के समक्ष कॉटो के झुले पर लिटाकर झुलाया जाता है। इस दिन शाम के समय राजपरिवार, बस्तर दशहरा समिति के सदस्य , देवी-देवताओं , मांझी, चालकी, नाईक, पाईंक के साथ माँ दन्तेश्वरी मंदिर से निकलकर मुण्डा बाजा एवं आतिशबाजी के साथ काछन गुड़ी पहुंचते है। तथा काँटी के झूले पर सोए हुए काछन देवी से दशहरा पर्व मनाने की औपचारिक अनुमति मांगी जाती है। इस दौरान पनका जाति के पुजारी और गुरु मांई के द्वारा ” धनकुल” गीत गाया जाता है। काछन देवी बस्तर के पनका जाति के आराध्य देवी मानी जाती है।

Related posts

Chhttisgarh

jia

भाजपा जिलाध्यक्ष अटामी ने शिक्षा विभाग की फर्जी निविदा को निरस्त करने की मांग की
शिक्षा विभाग ने कांग्रेसियों को लाभ पहुंचाने, गलत तरीके से करोड़ों की निविदा जारी की

jia

विशाखा स्टील प्लांट के निजीकरण विरोध नीतियो के तर्ज पर नगरनार स्टील प्लांट निजीकरण विरोध का होगा संखनाद-मुक्तिमोर्चा

jia

Leave a Comment

error: Content is protected !!