January 22, 2022
Uncategorized

कांग्रेसी रसोई गैस, पेट्रोल, डीजल की महंगाई की बात करने से पहले, 2013 के भाव भी देख लें
अपनी नाकामी छुपाने, घड़ियाली आंसू बहाकर जनता को गुमराह करने में लगी है कांग्रेस

Spread the love

जिया न्यूज़:-दंतेवाड़ा,

दंतेवाड़ा:-भाजपा ने कांग्रेसियों को रसोई गैस को महंगी बताने से पहले 2013 के भाव भी देखने की नसीहत दी है। भाजपा जिला अध्यक्ष चैतराम अटामी ने कांग्रेसियों से कहा कि महंगाई पर घड़ियाली आंसू बहाने वाले कांग्रेसी नेताओं को पता होना चाहिए मोदी सरकार के आने से पहले 2014 में कांग्रेस के नेतृत्व वाली यूपीए सरकार में रसोई गैस की कीमतें आसमान पर थीं। उन्होने कहा कि चाहें तो आज भी इंडियन ऑयल की वेबसाइट पर देख सकते हैं 2013 में रसोई गैस का दाम 1 हजार रुपये के पार था। तुलनात्मक रूप से देखा जाए तो समय के साथ बढ़ोत्तरी के बाद भी आज रसोई गैस की कीमत उस समय से कम है। भाजपा जिला अध्यक्ष अटामी ने पेट्रोल की कीमत को लेकर भी कांग्रेस को आड़े हाथों लिया। उन्होंने कहा कि मई 2004 में यूपीए जब सत्ता में आई और मनमोहन सिंह प्रधानमंत्री बने तो दिल्ली में पेट्रोल की कीमत 33.71 रुपये प्रति लीटर थी। वहीं नरेंद्र मोदी ने मई 2014 में सत्ता संभाली तो पेट्रोल दिल्ली में 71.41 रुपये प्रति लीटर बिक रहा था। दस साल के यूपीए शासन के अंतराल में पेट्रोल की कीमत में 38 रुपये बढ़ चुकी थी। कांग्रेस शासन में 2004 के 33 रुपये के मुकाबले पेट्रोल की कीमत बढ़कर 2014 में यह 71 रुपये पहुंच गई। दूसरी तरफ, प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के नेतृत्व वाले एनडीए सरकार के पिछले सात साल की तुलना करें तो इस दौरान तेल के दाम 71.41 रुपये से सिर्फ करीब 89 रुपये तक पहुंचे हैं। यानी इसमें करीब 18 रुपये की ही बढ़त हुई है। ये सारी बातें कांग्रेसियों को अच्छे से पता है। भाजपा जिला अध्यक्ष अटामी ने कहा कि सच्चाई तो ये है कि कांग्रेस अब तक राज्य में कुछ भी नया नही कर पाई है और इसी नाकामी को छुपाने के लिए वो महंगाई और वेक्सीन के नाम पर घड़ियाली आंसू बहाकर जनता को गुमराह करने का प्रयास कर रही है। उन्होंने कहा की जीवनोपयोगी वेक्सीन को बर्बाद कर लोगों के जीवन के साथ खिलवाड़ करने वली कांग्रेस बता सकती है आज तारीख तक उसने कितने वेक्सीन खरीदे हैं। शुरुवात से लेकर अभी तक जितने भी वेक्सीन लोगों को लगे हैं और लग रहे हैं वे सभी केंद्र के मोदी सरकार की ही देन है। इस पर भी केंद्र के मोदी सरकार को वेक्सीन न देने की बात कह कर उनको बदनाम करने पर तुले हुए हैं। हम आंकड़ों के साथ इस बात का दावा करते हैं अगर केंद्र पर मोदी सरकार सत्ता पर नही होती तो कांग्रेस, चीन और कोरोना के हाथों देश की जनता को मरने के लिए छोड़ चुका होता। केंद्र की भाजपा सरकार ने कोरोना जैसी विकराल संक्रमण काल के दौरान भी पड़ोसी अवसरवादी देशों से देश की सुरक्षा, देश की संप्रभुता, जनता की जान और देश की शान को विश्व के समक्ष मजबूती से पेश कर दिखाया है। अगर केंद्र में भाजपा के अलावा कोई अन्य सरकार होती तो ऐसे संकट काल मे देश की हालत बत्तर से बत्तर हो गई होती। भजपा अध्यक्ष अटामी ने कांग्रेसियों को नसीहत देते हुए कहा है कि वे अपने शासन काल के दौरन की महंगाई दर का अवलोकन कर ले उसके बाद बात करें।

Related posts

आचार्य महाश्रमण जी को जैन श्री संघ गीदम द्वारा दी गईभावभीनी विदाई
विदाई देते जैन समाज भावुक हो उठा लोगों ने उनके पद चिन्हों पर चलने का लिया संकल्प

jia

आपदा काल में लोगों को रोजगार देने के बजाय रोजगार छीन रही है कांग्रेस सरकार -ओजस्वी भीमा मंडावी।

jia

आंधी तूफान से कुआकोंडा ब्लॉक में हुई क्षति का मुडामी ने लिया जायजा

jia

Leave a Comment

error: Content is protected !!