October 18, 2021
Uncategorized

वर्षा पूर्व एसडीआरएफ ने बाढ़ से बचाव एवं आपदा प्रबंधन हेतु किया गया माकड्रिल

Spread the love

जिया न्यूज़:-बब्बी शर्मा-कोण्डागाँव,

कोण्डागांव:-एसडीआरएफ के जवानों ने आगामी बरसात में संभावित बाढ़ एवं आपदा से बचाव के लिए जिले के राष्ट्रीय राजमार्ग के किनारे स्थित बंधा तालाब मे जिलाधीश पुष्पेन्द्र कुमार मीणा एवं पुलिस अधीक्षक सिद्धार्थ तिवारी के निर्देशन में एसडीआरएफ, बाढ़ बचाव दल कोण्डागांव, बाढ़ बचाव दल नारायणपुर द्वारा संयुक्त रूप से मॉकड्रिल कर परीक्षण किया गया। बाढ़ एवं संकट में फंसे किसी व्यक्ति को कैसे बचाया जाये, इसका उपस्थित लोगों के बीच जीवंत प्रदर्शन किया गया।

ताकि वास्तविक संकट के हालात से सामना होने पर किसी प्रकार के चूक की गुंजाइश न रहे इस दौरान बाढ़ बचाव दल के जवानों ने मोटर बोट साथ ही बचाव के लिए उपयोग होने वाले सभी प्रकार की उपकरणों यथा मोटर बोट, सर्चलाइट,आस्कालाइट, अंडर वाटर कैमरा,स्कूबा डाइविंग सूट, लाइफबॉय लाइफ जैकेट का जीवंत प्रदर्शन किया गया। इसके पूर्व सभी जवानों को मौखिक रुप से समझाया गया कि बाढ़ आपदा में बचाव के समय किस तरह से धैर्य पूर्वक कार्य को संम्पादित करना है।
इस संबंध में प्रभारी जिला सेनानी संतोष कुमार मारवल ने बताया की जिले में 15 जून से मानसून की आगमन के पश्चात नारगीं नदी एवं नगरीय जल निकायों के आस पास डुबान का क्षेत्र निर्मित हो जाता है ऐसे में राहत बचाव कार्य महत्वपूर्ण होता है। जिसके लिए पूर्व में ही तैयारियां कर लिया जाना आवश्यक होता है।
माॅकड्रिल के माध्यम से राहत एवं बचाव उपकरणों की जांच कर उनकी कार्यशिलता का परीक्षण किया गया.इस वर्ष रबर बोट के स्थान पर एचडीपीई लाइफ सेविंग बोट का उपयोग करेंगें रबर बोट का किसी नुकली चीज से कट जाने का खतरा था जिसके स्थान पर अतिरिक्त महानिर्देशक अरूण देव गौतम के निर्देश पर 21 नग एचडीपीई लाइफ सेविंग बोट की खरीदी की गयी है। इस एचडीपीई लाइफ सेविंग बोट पर एक बार में आठ लोगों की जान बचायी जा सकती है।
इस मॉकड्रिल में प्रभारी जिला सेनानी एस के मार्बल, जिला सेनानी नारायणपुर मनोहर लाल चैहान के द्वारा आपदा के समय व्यक्तियों को पानी के भीतर खोजने एवं उन्हें सुरक्षा पूर्वक लाइफबोर्ड तक लाने व सही तरीका से लाइफजैकेट पहनने, डूबते हुए व्यक्ति को बचाने का प्रशिक्षण दिया गया। इस अभ्यास में कोण्डागांव के एसडीआरएफके जवानो के साथ, जिला नारायणपुर के जवानोव जिला कोण्डागांव के नगरसेना के जवानों ने भाग लिया।

Related posts

खरीफ फसल के लिए बारिश का लाभ लेते बारसूर के किसान

jia

बस्तर अपने आप में ही विश्वस्तरीय नाम है
क्या बस्तर का नाम इतना छोटा हो गया के नाम बदल दिया गया,नाम बदलना सही नही– अरविंद कुंजाम

jia

Chhttisgarh

jia

Leave a Comment

error: Content is protected !!