September 21, 2021
Uncategorized

बड़ा सवाल! आख़िर इतनी बड़ी चूक का जिम्मेदार कौन? आयोजक, प्रशासन या शासन? – प्रकाशपुंज पाण्डेय

Spread the love

जिया न्यूज़:-रायपुर,

रायपुर:-छत्तीसगढ़ में COVID-19 के मरीज और उसके कारण होने वाली मौतों के आंकड़े दिन ब दिन तेजी से बढ़ रहे हैं। कल जहां 2600 से ज्यादा कोरोना के मरीज मिले थे, वहीं 22 लोगों की इसके कारण मौतें भी हुईं। कोरोना ने कल एक कांग्रेस नेता की भी जान ले ली। मृतक विष्णु साहू, श्याम नगर तेलीबांधा के रहने वाले थे। बताया जा रहा है कांग्रेस नेता 14 मार्च को नवा रायपुर स्थिति शहीद वीर नारायण सिंह अंतर्राष्ट्रीय क्रिकेट स्टेडियम में रोड सेफ्टी क्रिकेट टूर्नामेंट देखने गए थे, लौटने के बाद से ही वो असहज महसूस कर रहे थे। जिसके बाद उन्होंने कोरोना टेस्ट कराया, जिसमें उनकी रिपोर्ट पॉजिटिव आई थी।

छत्तीसगढ़ में हड़कंप तब मच गया जब मशहूर भारतीय क्रिकेटर सचिन तेंदुलकर भी COVID-19 पॉजिटिव पाए गए। अब ड्रेसिंग रूम और होटल में वे जिन खिलाड़ियों के साथ रुके थे और अपने पसंदीदा क्रिकेट स्टार से मिलने के लिए रायपुर और अन्य जगहों से जो रसूखदार लोग होटल और ड्रेसिंग रूम तक पहुंचे होंगे वे सभी अब खतरे में हैं। इसके साथ ही वे लोग जो वहां से निकलने के बाद अन्य लोगों से मिले, वे सभी लोग भी खतरे में हैं। मतलब एक आयोजन जिसकी इस समय कोई बहुत बड़ी जनहित में आवश्यकता नहीं थी, ने करोड़ों लोगों की जान को खतरे में डाल दिया है। अब देखने वाली बात यह है कि जिस होटल में सचिन तेंदुलकर और अन्य खिलाड़ी रुके थे, उन होटलों के कर्मचारियों और मालिक के अलावा जो जो लोग इन खिलाड़ियों और 50000 से ऊपर खचाखच भरे स्टेडियम में संपर्क में आए होंगे, प्रशासन उन्हें चिन्हित कैसे करेगा?

ज्ञात हो कि कई रसूखदार चेहरे भी इस आयोजन में देखने को मिले जिनकी तस्वीर है सोशल मीडिया पर उपलब्ध हैं।

सनद रहे कि रायपुर निवासी सामाजिक कार्यकर्ता प्रकाशपुंज पांडेय ने फरवरी माह में ही इस आयोजन के पूर्व ही प्रशासन द्वारा इस आयोजन के समय को लेकर बड़े प्रश्न चिन्ह खड़े किए थे। आखिर इतनी बड़ी चूक का जिम्मेदार कौन? आयोजक, प्रशासन या शासन?

Related posts

“तानाशाही” या “लोकशाही” में से किसी एक को चुनना होगा, छत्तीसगढ़ की जनता को – चंद्रशेखर शर्मा

jia

लोन वर्राटू के तहतआत्मसमर्पित नक्सली शंकर कुंजाम और अनिल कुंजाम ने की मुख्यमंत्री से बातचीत
बताया जिन हाथों से स्कूल को ढहाया था
उन्हीं हाथों से उसे फिर से बनाया
अब गूंज रहा है वहां बच्चों का ककहरा

jia

गंगालूर के आश्रित गांव पुसनार में स्वास्थ्य शिविर का हुआ आयोजन 88 मरीजों का जांच एवं उपचार किया गया

jia

Leave a Comment

error: Content is protected !!