January 20, 2022
Uncategorized

निकाय चुनाव में भाजपा-कांग्रेस में कांटे की टक्कर,निर्दलीय उम्मीदवार बिगाड़ने में लगे दोनों पार्टियों का ग्राफ
भोपालपट्टनम में चर्चाओ का दौर कांग्रेस में 35 साल के समर्पण पर तीन साल पड़ रहे भारी

Spread the love

जिया न्यूज़:-ईश्वर सोनी बीजापुर,

बीजापुर:-भोपालपटनम में नगर पंचायत चुनाव को लेकर गहमा गहमी तेज हो गई है । दो दिन पहले आबकारी मंत्री कवासी लखमा ,विधायक विक्रम मंडावी सहित कांग्रेसियों ने सभी वार्डो में डोर टू डोर प्रचार प्रसार किया। वही भाजपा से पूर्व वनमंत्री महेश गागड़ा ओर जिला अध्यक्ष श्रीनिवास मुदलियार भी अपने कार्यकर्ताओं के साथ पूरी ताकत के साथ प्रचार में लगे हुए है।
वही निर्दलीय प्रत्याशी भी अपने स्तर पर चुनाव प्रचार में लगे हुए है। जो कि भाजपा या कांग्रेस के ग्राफ को बिगाड़ पाने में काफी हद तक सफल भी होते नजर आ रहे है।

भितरघात की संभावना और बगावत से कांग्रेस परेशान नजर आ रही है

नगर में चर्चा है कि कांग्रेस इस चुनाव में बागियो से तो परेशान है ही साथ मे भितरघात का खतरा भी मंडराने लगा
जो कि मंत्री कवासी लखमा के दौरे के दौरान भी देखने मिला।
एक दिग्गज कांग्रेसी नेता ने भी मीडिया के सामने माना की तीन साल पहले पार्टी में आये नेता को विधायक विक्रम मंडावी द्वारा लगातार तवज्जो देने से बाकी समर्पित एंव वरिष्ठ कार्यकर्ता काफी खफा है ।
नगर में काफी चर्चा है कि मंत्री लखमा के प्रचार के दौरान पूर्व नगरपंचायत अध्यक्ष कामेश्वर गौतम की उपेक्षा करते हुए कई वार्डो के प्रचार से दूर रखा गया ।
वही कई जगह पर प्रचार के दौरान मंत्री कवासी लखमा ने भी कहा कि पूर्व अध्यक्ष को वापस रिपीट नही करेंगे और उनको प्रचार प्रसार से अलग रखा जाए।

25 से 35 साल पुराने कांग्रेस के समर्पित कार्यकर्ताओ को दूर कर दल बदलू नेता पर भरोसा करना कांग्रेस को पड़ सकता है भारी

जबकि पूर्व अध्यक्ष कामेश्वर गौतम की छवि काफी साफ सुथरी है और वो शुरू से ही कांग्रेस के समर्पित कार्यकर्ता रहे है।
जिसके चलते उन्होंने अपने 35 साल के राजनीतिक केरियर में 3 बार सरपंच , दो बार नगरपंचायत अध्यक्ष एंव एक बार जनपद सदस्य बनने में सफल रहे ।
वही एक बार सरपंच सीट महिला होने पर स्वयं प्रचार कर अपनी भाभी को सरपंच बनाने में सफल रहे ।
साफ तौर में ये कहा जा सकता है कि नगर में कामेश्वर गौतम की अच्छी खासी पकड़ शुरू से है उन्होंने अपने कैरियर में दो बार सरपंच व नगर पंचायत चुनाव में दिग्गज नेता बसन्त ताटी को भी मात दी ।
लेकिन आज नगर में चल रही चर्चाओ से मीडिया तक खबर आई कि उनके 35 साल के कांग्रेस में समर्पण को तीन साल पहले दल बदल कर पार्टी में आये नेता बसन्त ताटी ने धूमिल करके रख दिया और उनको लगातार उपेक्षित कर नगर के एक वार्ड को छोड़ बाकी वार्डो में प्रचार -प्रसार से दूर रखा गया

कांग्रेस के प्रति समर्पण ऐसा की उपेक्षित होने के बाद भी मिडिया के सामने किया इंकार

इस मामले को लेकर जब मीडिया प्रतिनिधि ने पूर्व अध्यक्ष कामेश्वर गौतम से फोन पर चर्चा की तो उन्होंने अपने निजी कार्य मे व्यस्त रहने एंव अपने ही वार्ड में प्रचार करने की बात कहकर किसी भी उपेक्षा से इनकार कर दिया

नगर में चर्चा कांग्रेस के वरिष्ठों की उपेक्षा
नगर खासी चर्चा है कि कांग्रेस में उपेक्षा के शिकार कामेश्वर गौतम – अफजल खान के अलावा भी कई वरिष्ठ कार्यकर्ता हो रहे है जिसका खामियाजा कांग्रेस को भुगतना पड़ सकता है।

Related posts

कांटो के झूले पर बैठी काछन देवी अनुराधा ने बस्तर महाराजा को दी अनुमति

jia

इंजीनियरिंग के देवता भगवान विश्वकर्मा की जयंती बीजापुर में धूम धाम से मनाई गई

jia

Chhttisgarh

jia

Leave a Comment

error: Content is protected !!