September 28, 2021
Uncategorized

शराब की होम डिलीवरी पर भड़की भाजपा नेत्री, कहा- रद्द करें आदेश

Spread the love

जिया न्यूज़:-योगेंद्र सिंह भदौरिया-सुकमा,

सुकमा:-राज्य सरकार द्वारा शराब दुकान खोलने और होम डिलीवरी के फैसले पर भाजपा नेत्री अधिवक्ता दीपिकाशोरी ने नाराजगी जताई है। उन्होंने कहा कि अनेको घोषणाओं के साथ पूर्ण शराबबंदी का वादा कर सत्ता में आई कांग्रेस और अब जब पूरे प्रदेश की हालत लॉकडाउन के कारण बदहाल है लोगों के घरों में खाने को राशन नहीं है इस दौरान इस संवेदनहीन सरकार ने न सिर्फ शराब दुकान खोलने का फैसला किया है, बल्कि होम डिलीवरी की सुविधा के साथ लाइसेंसधारी कोचिए नियुक्त करने जा रही है,जिससे समाज मे बुरा प्रभाव पड़ेगा ,लॉक डाउन के दौरान घर की रसोई की हालत से ही महिलाओं को जूझना पड़ रहा है ऐसे में सरकार के इस विचित्र फैसले से घरों की हालत क्या होगी यह एक सोचनीय प्रश्न है।सरकार को इस फैसले को तत्काल रद्द करना चाहिए।
उन्होंने कहा कि कांग्रेस जब विपक्ष में थी तब शराबबंदी के लिए कैसी बातें करते थे, उन्हें याद करना चाहिए। कांग्रेस ने गंगाजल हाथ में लेकर पूर्ण शराबबंदी का वादा किया था। कोरोना के कारण जो लॉकडाउन किया गया है शराबबंदी करने हेतु अवसर लेकर आया था। जिसमे लम्बे समय तक शराब न मिलने के कारण शराब के आदी भी इसके बिना रहना सीख रहे थे परन्तु सरकार के इस फैसले से पुनः उनकी सेहत पर बुरा असर पड़ने वाला है। शराब दुकान खोलने का फैसला कर सरकार ने घर-घर में आई शांति और समृद्धि को खत्म करने का काम कर रही है। शराब की होम डिलवरी के आदेश से निश्चित तौर पर शराब की काला बाजारी पुनः शुरू होगी,समाज मे अराजगता का माहौल बनेगा घरों की शांति बिखर जाएगी
इस आदेश पर तत्काल रोक लगाई जानी चाहिए।
सरकार लगातार अपने गलत फैसले से छत्तीसगढ़ की जनता के साथ शर्मसार कर देने वाली हरकत कर रही है
साथ ही छत्तीसगढ़ प्रदेश की जनता की कोई सूध लेने कांग्रेस सरकार को कोई चिंता नही है
सरकार ने शराब की होम डीलीवरी के लिए सोचा परन्तु प्रदेश की जनता को कोरोना वैश्विक महामारी जो पूरे विश्व और छत्तीसगढ़ प्रदेश में फैली हुई है ऐसे समय मे कोरोना के लिये घर घर जा कर वेक्सीनेश के लिए सोचती तो बेहतर होता

Related posts

गंगालूर एरिया कमेटी के नक्सल दम्पत्ति ने किया नक्सल वाद से तौबा, खुशहाल जीवन के लिये पुलिस के समक्ष किया आत्मसमर्पण

jia

जिया न्यूज़ टीम की मेहनत रंग लाई
अनुविभागीय अधिकारी (रा)ने पीड़ित हितग्राही मामले में लिया संज्ञान, अब परिवार आश्वश्त

jia

फिक्की राष्ट्रीय पर्यटन ई-कॉन्क्लेव में छत्तीसगढ़ और ओडिशा थीम पर विश्वनाथ के 7 सवालों पर हुई चर्चा।

jia

Leave a Comment

error: Content is protected !!