September 26, 2021
Uncategorized

80 के दशक में बीजापुर से दोरनापाल तक चलती थी बसें
सड़क बन जाने के बाद अब ईलाके के गांव फिर से होने  लगे हैं आबाद

Spread the love

जिया न्यूज़:-राजेश जैन-बिजापुर,

बीजापुर :- एक समय नक्सलियों के द्वारा बासागुड़ा-तर्रेम सड़क पूरी तरह क्षतिग्रस्त कर दी गयी थी और इस सड़क पर आवागमन बंद हो गयी थी। लेकिन अब सुरक्षा बलों की कड़ी चैकसी के बीच बासागुड़ा-तर्रेम सड़क निर्माण पूर्ण हो चुकी है। सड़क निर्माण के दौरान नक्सलियों ने कई बार जवानों को नुकसान पहुँचाने के लिए घटनाओं को अंजाम दिया। इसके बावजूद सुरक्षा बलों के जवानों के हौसले और सजगता के साथ यह सड़क मूर्त रूप ले चुकी है।

इस सड़क के बन जाने के पश्चात क्षेत्र में शिक्षा, स्वास्थ्य, सार्वजनिक वितरण प्रणाली का राशन, पेयजल, बिजली जैसी मूलभूत सुविधाओें को पहुँचाने के लिए जिला प्रशासन भरसक प्रयास कर रही है। अविभाजित मध्यप्रदेश के दौरान 80 के दशक में बीजापुर से बासागुड़ा-जगरगुंडा होकर दोरनापाल तक इस मार्ग पर बसें चला करती थीं और बासागुड़ा एवं जगरगुंडा का बाजार गुलजार रहता था। लाल आतंक के चलते बाद में बसें बंद हो गयी और नक्सलियों ने उक्त सड़क को जगह-जगह काट दिया था। वहीं पुल-पुलिया को पूरी तरह क्षतिग्रस्त कर दिया था। नक्सलियों के दहशत के कारण कई ग्रामीण अपने गांव छोड़कर अन्यत्र चले गये थे। लेकिन अब सुरक्षा बलों की कड़ी सुरक्षा और सक्रिय सहभागिता से बासागुड़ा-तर्रेम सड़क बन चुकी है। जिससे इस ईलाके के गांवों में विकास को बढ़ावा मिला है और ये गांव फिर से आबाद होने लगे हैं।
             

बासागुड़ा के एक वयोवृद्ध सज्जन बताते हैं कि अविभाजित बस्तर जिले के दौरान 80 के दशक में यह क्षेत्र समृद्ध था, बीजापुर से दोरनापाल तक बसें चला करती थीं और वनोपज-काष्ठ का समुचित दोहन हो रहा था। इस ईलाके के किसान अच्छी खेती-किसानी करते थे, वहीं ग्रामीण संग्राहक वनोपज का संग्रहण कर स्थानीय बासागुड़ा बाजार में विक्रय करते थे। बासागुड़ा बाजार वनोपज के कारोबार से परिपूर्ण था। लेकिन आज से लगभग 20 वर्ष पहले लाल आतंक के चलते सड़क बंद हो गयी और गांव के गांव वीरान हो गये थे। अब शासन-प्रशासन के संकल्प से बासागुड़ा-तर्रेम पक्की सड़क का सपना साकार हो गया है और ईलाके में विकास कार्यों को प्राथमिकता के साथ सुनिश्चित किया जा रहा है। यही वजह है कि अब इस क्षेत्र के गांवों के ग्रामीण फिर से आकर बसने लगे हैं। बासागुड़ा निवासी एक बुजुर्ग बताते हैं कि सड़क बन जाने के बाद अब इस क्षेत्र के लोगों में हर्ष व्याप्त है और ग्रामीण क्षेत्र मेें शांति एवं अमन-चैन की आस लेकर फिर से खेती-किसानी को बेहतर ढंग से करने सहित वनोपज संग्रहण एवं अन्य जीविकोपार्जन साधनों की ओर उन्मुख हो गये हैं। क्षेत्र के ग्रामीण सड़क निर्मित करने सहित ईलाके में विकास को बढ़ावा देने के लिए सरकार को धन्यवाद देते हैं।

Related posts

पुरानी पेंशन की माँग को लेकर 30 जून को चलेगा ट्वीटर पर महाअभीयान

jia

घरों में कैद हुए लोग,शहर में छाई वीरानी, मैदान में डटे हैं पुलिस कर्मी

jia

लोन वर्राटू अभियान से प्रभावित होकर 02 इनामी माओवादीयों सहित कुल 03 माओवादीयों ने पुलिस उप महानिरीक्षक(के.रि. पु. ब.) व पुलिस अधीक्षक दंतेवाड़ा के समक्ष किया आत्मसमर्पण

jia

Leave a Comment

error: Content is protected !!