October 25, 2021
Uncategorized

Chhttisgarh

Spread the love

श्री सिद्धि माता मंदिर में उमड़ी भीड़

रिपोर्टर :-अरुण कुमार सोनी बेमेतरा छत्तीसगढ़

बेमेतरा अंचल के प्रसिद्ध श्री सिद्धि माता मंदिर में जो कि ग्राम चंडी व सलधा के बीच जिला मुख्यालय से महज 13 दूर स्थित है। इस सिद्धि माता मंदिर लगभग 45 वर्षो से होली के दूसरे दिन से ही बकरे की बलि दे कर अपनी आस्था व मन्नत पूरी हो से दी जाती हैं ।वहां होली त्यौहार के दूसरे दिन से दूर दूर से श्रद्धालु गण अपनी आस्था व मन्नत पूरी होने से बकरे की बलि देने की परंपरा है ।श्रद्धालुओं की खासी भीड़ उमड़ पड़ती है ।इस वर्ष भी पंचमी तिथि को लगभग 2000 बकरे की बलि दी जा चुकी हैं ।काफी तादात में श्रद्धालु मंदिर पहुंचकर माता के दर्शन कर रहे हैं। लेकिन श्रद्धालुओं की भीड़ संख्या में पहुंचने की संभावनाओं को लेकर पुलिस प्रशासन में किसी भी प्रकार की गंभीरता नहीं देखी जा रही है। मंदिर प्रशासन भी इस मसले पर गंभीर नजर नहीं आ रही है। जिनके चलते मंदिर प्रांगण पहुंच रहे श्रद्धालुओं को खासी परेशानी उठानी पड़ रही है। मंदिर परिसर में दूर लगभग 3 किलोमीटर क्षेत्र में वाहनों का तथा श्रद्धालुओं का ताता लगा हुआ है ।वही मंदिर परिसर में पार्किंग की भी व्यवस्था नहीं है जिनके चलते श्रद्धालुओं को खेतों के अंदर फसल के ऊपर से चल कर मंदिर प्रांगण तक पहुचने मे खासी परेशानी उठानी अवश्य पड़ रही है। इस बार बारिश ने भी श्रद्धालुओं की परेशानी बढ़ा दी है। एक और जहां खेत में स्थित मंदिर तक पहुंचने के लिए एकमात्र सड़क मार्ग के अलावा और कोई साधन भी नहीं है ।सिंगल रोड होने की वजह से वाहनों का आना-जाना तथा श्रद्धालुओं का आना-जाना जारी है। जिनके चलते सड़क पर जाम लगा रहा है। प्रतिवर्ष इस तरह के हालात बनते हैं किंतु विडम्बना हीं कही जा सकती है। कि न तो पुलिस प्रशासन इसे दुरुस्त करने के लिए कोई पहल कर रहा है ।और ना ही मंदिर प्रशासन इस मसले पर गंभीर नजर आ रहा है । जिला प्रशासन व मंदिर प्रशासन की अनदेखी की वजह से मंदिर परिसर में चोरों की सक्रियता देखने मिलती है । मंदिर परिसर के बाहर कुछ लोगों के लिए यह पिकनिक स्पॉट बन गया है क्योंकि उनके द्वारा शराब का सेवन बेखौफ किया जा रहा है ।इन तमाम हालातों के चलते आसपास के ग्रामीणों तथा खेत मालिकों को खासी परेशानी उठानी पड़ रही है। जिनके खेतों में बैठकर ऐसे लोगों द्वारा शराब का सेवन कर बॉटल फोड़ कर एवं डिस्पोजल गिलास ,थाली की ढेर कर खेतों में फेंक दिया जाता है।

Related posts

Chhttisgarh

jia

अधपके भोजन व कम नास्ते के बीच कोरोना से लड़ रहे वारियर्स
थोड़ा सा खाना खाने के बाद पूरा खाना हो रहा वेस्ट

jia

Chhttisgarh

jia

Leave a Comment

error: Content is protected !!