January 26, 2022
Uncategorized

Chhttisgarh

Spread the love

टेकनार गोवर्धन केंद्र पहुँची रेड जोन की ट्रक के परिचालक बे खोफ बिना मास्क के पिछले लगभग 3 दिनों से घूम रहे..

आखिर छतीसगढ़ में ही पशु आहार पर्याप्त मात्रा में है तो रेड जोन प्रदेश से मंगाने का क्या औचित्य.?

टेकनार व आस पास के लोंगो ने ट्रक के चालाक परिचालक का तत्काल परीक्षण की मांग की..

दन्तेवाड़ा,
करोना वायरस के चलते पूरे देश मे भय का वातावरण निर्मित है ऐसे में प्रदेश में रेड जोन से ग्रीन जोन में प्रवेश पर प्रतिबंधन जो लगा हुवा है ! सूत्रों से मिली जानकारी अनुसार दन्तेवाड़ा के टेकनार के माँ दंतेश्वरी शोध व गोवर्धन केंद्र में मध्यप्रदेश के कटनी से पशु विभाग द्वारा भूसा की गाड़ी मंगाना ओर उसमे भी केंद्र में पिछले 3 दिनो से ट्रक के चालक परिचालक बिना किसी मास्क ओर सुरक्षा के केंद्र व उसके आस पास ग्राम टेकनार में व दन्तेवाड़ा में बेखोप घूमना ग्राम टेकनार व दन्तेवाड़ा के लोंगो में चर्चा के साथ चिंता का विषय बना हुवा है की आखिर पशु विभाग द्वारा मंगाए गए चारे की ट्रक को तीन दिन टेकनार के गोवर्धन केंद्र में खड़े रखने के साथ वाहन चालक व परिचालक को केंद्र में ओर आसपास ग्रामो में कैसे जाने दिया.. जब आम आदमी को गोवर्धन केंद्र में अनुमति नहीं तो फिर तीन दिन से कटनी के आये लोंग गोवर्धन केंद्र में कैसे घूमते रहे.. वही केंद्र के लोंगो से सम्पर्क में थे…दर असल गाड़ी में लदे भूसे को खाली कराने के लिए चालक परिचालक आस पास के ग्रामो सहित तक जाने की बात कही जा रही है..लोंगो का कहना है की तीन दिनों से मध्यप्रदेश के कटनी से आये भूसे की गाड़ी के चालक परिचालक का डाक्टरी परीक्षण जिला प्रशासन कराये.टेकनार के लोंगो में दूसरे प्रदेश से आये गाड़ी के चालाक परिचालक बिना मास्क के घूमने से भय व चिंता दिखाई दे रही है।प्रश्न यह उठ रहा है की आखिर छतीसगढ़ में जब धमतरी व भिलाई में पर्याप्त मात्रा में भूसा की उपलब्धता है तो फिर अन्य प्रदेश से ऐसे महामारी के समय भूसा मंगाना आश्चर्य की बात है की आखिर पशु विभाग कैसे खतरे मोल ले रहा है..जब पर्याप्त मात्रा में छतीसगढ़ से पशु आहार मिल रहा है ओर रोज कम से कम 3 से 4 लारी प्राइवेट गो पलको का चारा दन्तेवाड़ा जिले में आ रहा है तो फिर मध्यप्रदेश से ही पशू चारा क्यो..? पशु विभाग के बदनाम सुदा प्रभारी उप संचालक डॉक्टर अजमेरसिह आये दिन किसी न किस मामले में विवादित दिखते है..!

Related posts

इंद्रावती नदी पर पुल से आसान होगी माड़ की जिंदगियां,समस्याओं से होता था जद्दोजहद

jia

आखिरकार दुवाएं हार गई, प्रिय नेता दीपक कर्मा नहीं रहे…….

jia

स्वास्थ संस्थाओं में कर्मचारीयों को उत्कृष्ट कार्य करने हेतु प्रमाण पत्र देकर सम्मनित किया।

jia

Leave a Comment

error: Content is protected !!