November 26, 2022
Uncategorized

Chhttisgarh

Spread the love

क्वारेटाईन केन्द्र में नहीं है कोई व्यवस्था
नियुक्त कर्मचारियों की लापरवाही से है संक्रमण का खतरा

बब्बी शर्मा की रिपोर्ट

कोण्डागांव कोविड-१९(कोरोना)के चलते पूरे देश मे लॉक डाउन का तीसरा चरण चल रहा है और जिला मुख्यालय से ३० किलोमीटर दूर फरसगांव ब्लाक मुख्यालय में क्षेत्र के ऐसे लोगों के लिए जो अन्य स्थानों से वापस घर आऐ हैं, उनके लिए प्री मेट्रिक कन्या छात्रावास को क्वारेंटाईन सेंटर बनाया गया है और कल ही फरसगांव नगर निवासी एक परिवार अपने चार सदस्यों के साथ उड़िसा ( इंगरा ) से फरसगांव वापस आया और सामुदायिक स्वास्थ केंद्र पहुँचकर अपनी जांच पश्चात सभी को क्वारेंटाईन करवाया.वहां रहने के कुछ ही घण्टो पश्चात क्वारेंटाईन सेंटर में उचित व्यवस्था नहींं होने के चलते वह मजबूर होकर अपने घर चले गये सूचना मिलने पर पत्रकारों ने मौके पर जाकर देखा गया तो क्वारेंटाईन सेंटर में ताला लगा हुआ था और कोई भी जवाबदेह अधिकारी कर्मचारी मौके पर उपस्थित नही था मिली जानकारी के अनुसार शिक्षा विभाग के 6 कर्मचारियों को उक्त स्थान पर लगाया गया था परंतु शिक्षा विभाग के कर्मचारियों की लापरवाही का आलम देखें केन्द्र में राशन तो था परंतु भोजन बनाने के लिए गैस की व्यवस्था नही थी और बड़े बड़े गंज में खाना बना पाना सम्भव नही था रात गुजारने के लिए बिस्तर और मच्छर दानी तक नही दी गई थी खाना बनाने वाला भी कोई नही था भोजन और रहने की समस्त व्यवस्था करने से बचने के लिये अधिकारीयों कीअधिनस्थ कर्मचारियों से सांठ गांठ के चलते दूसरे राज्य से आये परिवार को शाम होते ही घर भेज दिया गया देर रात पत्रकारों की इस बात की जानकारी मिलते ही कर्मचारियो द्वारा सुबह उनको वापस बुला लिया गया कोविड १९जैसी गम्भीर बीमारी की रोकथाम के लिए केंद्र और राज्य सरकार एक ओर पूरी व्यवस्था कर रही है वही दूसरी ओर अधिकारी कर्मचारी लापरवाही कर कोविड १९ का मजाक बना रहे है और संक्रमण को आमंत्रण दे रहे है देखना यह है अब राज्य व जिला प्रशासन लापरवाही करने वाले अधिकारी कर्मचारियो पर क्या कार्यवाही करते है?
तहसीलदार फरसगांव सुन्दर लाल धृतलहरे से बात होने पर कोई केस नही आया है जानकारी दी गई वही अगली सुबह पुछने पर घर यही होगा इस लिए चले गये होंगे वापस आ गये है अभी उनके लिए सभी व्यवस्था कर दी गई है ।
खण्ड शिक्षा अधिकारी केजू राम सिन्हा
मुझे पता नही है जानकारी लेकर बताता हूं बाद में सम्पर्क करने का प्रयास किया गया पर फोन नही उठाया गया
क्वारेंटाईन सेंटर में रह रहे परिवार ने बताया की भोजन बनाने के लिए बड़े बड़े बर्तन दिए गए खाना बनाने वाला कोई नही था और गैस की व्यवस्था नही थी सोने के लिए बिस्तर और मच्छर दानी तक नही थी हमने व्यवस्था की मांग की व्यवस्था नही होने के चलते पूछकर घर चले गये और सुबह सुबह हमको फिर बुला लिया गया ।
एसडीएम फरसगांव पवन कुमार प्रेमी तासिलदार को जांच के लिए कहा गया है जांच आने के पश्चात कर्मचारियों पर कार्यवाही की जायेगी ।

Related posts

आम आदमी पार्टी द्वारा कलेक्टर केएल चौहान को सौंपा गया ज्ञापन ,सालों से काबिज घड़ी चौक के दुकानदारों को व्यवस्थापन करने की मांग!
नगर पालिका द्वारा मत्स्य विभाग के तालाबों को पाटे जाने को गैरकानूनी करार देते दिया गया ज्ञापन

jia

पत्रकारिता आज के दौर में बेहद चुनौती भरा कार्य-चंद्रदेव राय

jia

कांग्रेसी रसोई गैस, पेट्रोल, डीजल की महंगाई की बात करने से पहले, 2013 के भाव भी देख लें
अपनी नाकामी छुपाने, घड़ियाली आंसू बहाकर जनता को गुमराह करने में लगी है कांग्रेस

jia

Leave a Comment

error: Content is protected !!