September 18, 2021
Uncategorized

Chhttisgarh

Spread the love

रंगों के त्यौहार के लिये सजा नगर का बाजार
केमिकल रंगों की अपेक्षा हर्बल रंगों की ज्यादा मांग

आरती सिंग गीदम

रंगों के पर्व होली के लिये नगर का बाजार सजने लगा है। रंगों के इस त्यौहार में रंग बिरंगे गुलाल,अबीर, टोपी,आकर्षक पिचकारी,भोंपू, के साथ ही बच्चों को मोहित करने वाले कार्टून मुखौटे सहित विभिन्न रंगों के गुलाल दुकानों में सजकर तैयार है। बच्चों को लुभाने के लिये कई प्रकार की पिचकारियां दुकानों में उपलब्ध है। दुकानदारों ने बताया कि इस बार होली के सामानों में पिछले वर्ष की तुलना में कुछ बढ़ोतरी हुई है। लेकिन इसका कोई असर रंगों के त्यौहार पर नही पड़ा हैं । ग्रामीण इलाकों से भी लोग बड़ी संख्या में रंग गुलाल खरीदने पहुँच रहे है। इस बार ग्रामीण और शहरी दोनों ही जगह के लोग हर्बल गुलाल खरीदना ज्यादा पसंद कर रहे है। होली का त्यौहार आपसी भाईचारे का त्यौहार माना जाता है। इस दिन सभी आपसी द्वेष, मतभेद,बैर को भुलाकर आपस मे गले मिलते है और खुशियां बाटते है। पहले लोग फ़ाग गीत और नगाड़ो की थाप के साथ होलिका दहन करते थे,और रंग – गुलाल खेलते थे। लेकिन वर्तमान समय मे धीरे – धीरे इसके स्वरूप में बदलाव आते जा रहा है। वर्तमान पीढ़ी में इसका महत्व कम होते जा रहा है। दुकानदारों ने बताया कि इस बार कोरोना वायरस के कारण चीनी सामानों की मांग बहुत कम है। और कोरोना वायरस के कारण इस बार रंगों की बिक्री भी काफी प्रभावित हुयी है।

Related posts

केदार कश्यप को सपने में भी असम नज़र आ रहा है- साँसद दीपक बैज

jia

धुर नक्सल प्रभावित गांव गुमियापाल में अंदरूनी क्षेत्र से पहुंचे 5000 ग्रामीणों ने विश्व आदिवासी दिवस मनाया बड़े धूमधाम से

jia

Jia news 24

jia

Leave a Comment

error: Content is protected !!