September 26, 2021
Uncategorized

Chhttisgarh

Spread the love

भ्रष्टाचार कर मलाई खाने वालों में मचा हड़कंप

जिलाधीश ने की उच्चस्तरीय जांच टीम गठित

जिया न्यूज़-बब्बी शर्मा:-कोण्डागांव,

कोण्डागांव:-जिला कोण्डागांव के अन्तर्गत केशकाल नगर पंचायत में चल रहे आर्थिक घोटालों की चर्चा बहुत लम्बे समय से जनसामान्य करते आ रहे हैं, जिस की लिखित शिकायत पर नवनियुक्त युवा जिलाधीश द्वारा उच्चस्तरीय जांच दल का गठन कर जांच हेतु आदेश बहुत ही जल्द जारी कर दिया जायेगा। मिली जानकारी अनुसार नगर पंचायत क्षेत्र में विकास कार्यों व नगरवासियों को मूलभूत सुविधायें सुलभ कराने हेतु सरकार द्वारा जारी की जाने वाले धनराशि में से अधिक से अधिक धनराशि का बंदरबांट कर लेने के लिए कूटरचित प्रस्तााव, प्राक्लन तैयार कर गुुुणव्ता विहीन काम कर कागजी खानापूर्ति कर धनराशि का आहरंण कर लेने की कारगुजारियां थमने का नाम नहीं ले रही है. जिससे नगरवासी हैरत में हैं। नगरपंचायत केशकाल में पदस्थ उप अभियंता पर बगैर स्थल निरीक्षंण किये मंशानुरूप प्राक्लन बनानेऔर प्राक्लन के विपरीत घटिया निर्माण कार्यों को माप पुस्तिका में भर घोटाले में अपनी मुख्य भूमिका अदा करने का भी आरोप लगाया जा रहा है.उप अभियंता की हठधर्मिता के चलते ही विद्दुत विभाग के कार्यालय जाने वाले मार्ग पर बनी सड़क,बांबी तालाब सौंदर्यीकरण तथा शेड निर्माण,उन्नयन का फर्जी प्राकलन प्रस्ताव बना लिया गया और कूटरचित अभिलेख तैयार कर निविदा निकालने,स्वीकृृत करने तथा कार्य आदेश जारी करने का खेल भी मिलजुलकर कर लिया गया.जिसके संबंध में कलेक्टर का ध्यान आकर्षित किये जाने की खबर है। नगरपंचायत केशकाल के सुरडोंगर सिंचाई जलाशय में बगैर तकनिकी प्रस्ताव प्राकलन एवं स्वीकृति के पिकनिक स्थल विकसीत करने के नाम पर जिस तरह से प्रशासकिय शक्तियों का दुरूपयोग करते हुए काम आरंभ करना दिया गया और नगर पंचायत के पार्षद निधि से तथा जिला योजना मंण्डल की धनराशि भुगतान कर आधे अधूरे काम को बंद करा दिया गया उसको लेकर नगरवासियों में रोष व्याप्त हैं।नगरपंचायत केशकाल में पार्षद निधि और अध्यक्ष निधि से कराये गये काम भी दिखाई नहीं देते और जो दिखाई देते भी हैं उनकी लागत राशि और हुये निर्मांण कार्य को देखकर लोग दांतों तले उंगली दबा लेते हैं और आश्चर्य व्यक्त करते हैं।
अभी हाल में ही कोंण्डागांव जिले की कमान संभालने वाले युवा कलैक्टर प्रफुल्ल कुमार मीणा(भा०प्रा० से०) से यह निवेदन किया गया है कि केंद्र एवं राज्य सरकार से आदिवासी बाहुल्य कोंडागांव जिले एवं उसके अंतर्गत आने वाले नगरीय निकाय क्षेत्र के विकास के नाम से आने वाली लाखों करोड़ों रूपयों की राशि में से बहुत बड़ा हिस्सा बंदरबांट में चला जाता है बची-खुची राशि से गुणवत्ता विहीन निर्माण कार्य कर महज लीपापोती की जाती है जिस पर अंकुश लगाना यंहा के विकास व लोगों की खुशिहाली के लिए जरूरी है।
कलेक्टर को शिकायत होने और जांच दल गठन की प्रक्रिया शुरू होने की खबर से नगरपंचायत केशकाल के अधिकारियों एवं ठेकेदारों को लगते ही खलबली मच चुकी है और अब अपने आपको बचाने की जुगत में जुट गये हैं।कार्यालय के दस्तावेजों,निर्माण स्थल तक लीपापोती करने की कवायद शुरू कर दी है।

Related posts

नागफनी पंचायत सचिव की कार्यप्रणाली से ग्रामवासी नाराज,जिला कलेक्टर से करेंगे शिकायत

jia

Chhttisgarh

jia

वार्ड क्रमांक 11 में स्थित आंगनबाड़ी के जीर्णोद्धार कार्य का अध्यक्ष साक्षी सुराना ने किया भूमिपूजन।

jia

Leave a Comment

error: Content is protected !!