September 21, 2021
Uncategorized

Chhttisgarh

Spread the love

प्राचीन शिव लिंग सहसपुर का जुडवा मंदिर, वस्तु कला की है नायाब धरोहर

रिपोर्टर:-अरुण कुमार सोनी, बेमेतरा, छतीसगढ़

बेमेतरा:-सहसपुर में फनी नागवंशी राजाओ के शासन काल में निर्मित जुंडवा मंदिर हजारो गैलेन से जलाभिषेक किया गया फिर भी प्राचीन शिवलिंग नही डूबा।एक के बाद एक चमत्कारिक घटनाओ के कारण यह मंदिर श्रद्धालुओं की आस्था का केंद्र बना हुआ है।संचालको के अनुसार फनी नागवंशी राजाओ के शासनकाल में निर्मित यह जुड़वां मंदिर प्रतिनिधि स्मारकों में से एक है।मान्यता है कि कवर्धा के फनी नागवंशी राजाओ ने 13,14 वी शताब्दी में बनवाया है। किवंदती हैं कि गर्भ गृह में स्थापित शिवलिंग कभी नहीं डूबा हैं। आठ दशक पहले गांव में भीषण अकाल पड़ा पर

सहसपुर ,नवकेशा,लालपुर,बुंदेली,गाढ़ाडीह सहित आसपास क्षेत्र के गामीणो ने महाशिवरात्रि के दिन गर्भ गृह में स्थापित शिवलिंग को जलाभिषेक कर डूबाने का निर्णय लिया गया था। योजना के मुताबिक मंदिर परिसर से लगभग 300 मीटर की दूरी पर स्थित जलाशय तक कतारबद्ध खड़े होकर जलाभिषेक किया गया।सुबह से शाम तक शिवलिंग पर हजारो गैलन जल चढ़ाया गया लेकिन शिवलिंग को जल से डुबोने का प्रयास असफल रहा।हजारो गैलन पानी कंहा गया किसी को पता नहीं चला ।तब गांव वालों ने यह धारणा बनाई कि शिवलिंग को पानी से डूबने का निर्णय एक अहंकार था। इसके बाद से गर्भ गृह में स्थापित शिवलिंग की आस्था बढ़ती चली जा रही हैं। तब से हर साल महाशिवरात्रि में मेला लगता है। आसपास के ग्रामीण शिवलिंग का जलाभिषेक करने पहुँचते हैं।परंपरा के मुताबिक अभी भी श्रद्धालु मंदिर के गर्भगृह से जलाशय तक कतारबद्ध खड़े होकर जलाशय के पानी से शिवलिंग का अभिषेक करते हैं।यह मंदिर स्वयंभू शिवलिंग मंदिर के धरातल पर गर्भ गृह में 3 फिट नीचे है। मंदिर का छत कला से अंतरित हैं।मंदिर के बाहर के बाहरी हिस्से में नटराज शिव और दांयी ओर चतुर्भज की गणेश कि भित्ति चित्र हैं। यह नृत्य की मुद्रा में है। सावन माह शुरू होते ही यहां दर्शन को श्रद्धालुओ का तांता लगा रहता है।यह देवकर से 7 किलोमीटर दूरी पर सहसपुर का प्राचीन मंदिर है।देवकर नवकेसा होते हुए सहसपुर पहुँचाया जा सकता हैं। जुड़वां मंदिर पूर्वाभिमुखी हैं। एक मंदिर के गर्भगृह में स्वयंभू शिवलिंग स्थापित हैं। दूसरे में प्रतिमा नही थी ।बाद में गांव वालों ने हनुमान जी की प्रतिमा स्थापित की है। मंदिर में अंतराल गर्भ गृह और मण्डप हैं। नागर शैली में आमलक एवम कलश युक्त शिखर है। मण्डप का धरातल गर्भ गृह से लगभग 8 फ़ीट ऊंचा हैं।शिव मंदिर के मंडप में पत्थर से बने कालम हैं। प्रत्येक कालम में नाग उकेरे गये हैं। मंदिर के प्रवेश द्वार में चतुर्भज शिव एवम दांये छोर पर ब्रम्हा जी और बांये छोर पर विष्णु की प्रतिमा विराजमान हैं। नीचे में नवग्रह विपरीत क्रम में अंकित है।गर्भ गृह में जलधारी शिवलिंग हैं। दरवाजे की कलाकृति भोरमदेव मंदिर कबीर धाम कवर्धा समान है।भोरमदेव मंदिर की तरह बाहरी हिस्से पर कोई कलाकृति नही है।

Related posts

गुम नाबालिक को 48 घंटे के भीतर पुलिस ने खोज निकाला
पुलिस ने आरोपी को तत्काल गिरफ्तार किया

jia

बस्तर जिले में चल रहे फाइनेंस कम्पनी के मैनेजर से मिला बस्तर अधिकार सयुक्त मुक्ति मोर्चा का दल

jia

नरेन्द्र बने किशोर न्याय बोर्ड के मनोसामाजिक विशेषज्ञ

jia

Leave a Comment

error: Content is protected !!