June 20, 2021
Uncategorized

Chhttisgarh

Spread the love

शिक्षा विभाग में 406 पदों पर फर्जी नियुक्ति को ले कर बस्तर अधिकार सँयुक्त मोर्चा ने बस्तर कमिश्नर से मिलकर कार्यवाही व दोषियों पर कार्यवाही व भर्तियों को निरस्त करने की मांग —–मोर्चा

2017 कार्यकाल में शिक्षा विभाग में फर्जी नियुक्ति की शिकायत की जांच कार्यालय कमिश्नर में है लंबित

बस्तर कमिश्नर के आदेश पर 1 डिफ्टी कलेक्टर व 2 जिला शिक्षा अधिकारी की जांच रिपोर्ट में नियुक्तियों को नियम विरुध्द व फर्जी बताया गया

दोषी अधिकारी का पुनः पद पर नियुक्ति होना सरकार द्वारा भ्र्ष्टाचार के खिलाफ लड़ने के मुहिम पर उठ रहा है सवाल

सरकार व प्रशासन द्वारा दोषियों पर कार्यवाही न होने पर बस्तर अधिकार सयुक्त मुक्ति मोर्चा करेगा आंदोलन

जिया न्यूज़ जगदलपुर,

जगदलपुर:-बस्तर जिले के शिक्षा विभाग में वर्ष 2017 में तात्कालिक जिला शिक्षा अधिकारी श्री राजेन्द्र झा व तात्कालिक विभाग जवाबदार अधीनस्थ कर्मचारियो द्वारा कलेक्टर दर पर 403 भृत्य पद व 3 अनुकम्पा पद पर शासन द्वारा निर्धारित सभी भर्ती नियमों को ताक में रख अपने चेहतों की फर्जी नियुक्तियों कर दी व जिले के सभी ब्लॉकों में पदस्थापना व शासन से बजट ले तनख्वा भी जारी कर दिया गया हैं। इस गम्भीर विषय को लेकर बस्तर अधिकार सयुक्त मुक्ति मोर्चा द्वारा आज समस्त दस्तावेजों के बस्तर कमिश्नर से मुलाकात कर ज्ञापन सौप सम्बंधित भर्ती को निरस्त करने व दोषियों पर कार्यवाही हेतु ज्ञापन सौपा, मोर्चा के सयोजक व प्रवक्ता नवनीत चाँद पुरे मामले की जानकारी देते हुए कहा कि 2019 में बस्तर कर्मचारी संघटन ने भर्ती की प्रक्रिया में नियमो का पालन नही करने ,जैसे विज्ञापन,चयन समिति,आरक्षण रोस्टर,मेरिट सूची,वेटिंग सूची,वित्तीय विभाग से अनुमति आदि किसी भी नियमो का पालन नही करने का आरोप लगा पूरे मामले जांच हेतु शिकायत कलेक्टर बस्तर व कमिश्नर बस्तर से की थी । जिस के पश्चात कलेक्टर व कमिश्रर बस्तर ने अपने स्तर पर जांच कर सम्पूर्ण मामले की जानकारी सम्बंधित कार्यलय से मांगी गई थी जिसमें सम्बंधित कार्यलय के दो जिला शिक्षा अधिकारी व 1 डिप्टी कलेक्टर द्वारा पूरे मामले की जांच कर जो प्रतिवेदन कलेक्टर व कमिश्रर को उनके पत्र के एवज में सोपे उस रिपोर्ट में शिकायत के बिन्दुओ को सही पाया गया और यह बताया गया है। कि तात्कालिक जिला शिक्षा अधिकारी व कार्यलय कर्मचारियों द्वारा भर्ती प्रक्रिया में किसी भी प्रकार से शासन द्वारा निर्धारित नियमो का पालन नहीं किया गया है। वह पूरी भर्ती ही नियम विरुद्ध है। इस पूरी जांच प्रक्रिया में तथ्यों को सही पाए जाने के बाद भी भाजपा व कंग्रेश की सरकारों में न ही अब तक भर्तियों को निरस्त किया गया है। और न ही अब तक दोषियों पर कोई कार्यवाही कर आपराधिक मामला पंजीबद्ध किया गया है। यह कृत्य बस्तर के बेरोजगार युवक व युवतियों के अधिकार पर कांग्रेस व भाजपा का कटूरघात है। न केवल दोषी अधिकारी की उसी जिले के उसी पद पर विराजमान कर महिमा मंडन किया जा रहा है।बल्कि पूरे जांच को प्रभावित कर अपने कार्यकाल में किये गए बस्तर हित विरोधी भरस्टाचार पर पर्दा डालने का बड़ा मौका प्रदाय किया जा रहा है। मोर्चा प्रवक्ता नवनीत ने बस्तर के जनप्रतिनिधियों पर इस गम्भीर मामले में चुपी पर भी सवाल घड़े कर संरक्षण देने का आरोप लगाते हुए कहा की यदि बस्तर के बड़े भ्र्ष्टाचार के मामले में दोषियों पर कार्यवाही व भर्ती को निरस्त नही किया गया तो बस्तर अधिकार सयुक्त मुक्ति मोर्चा उग्र आंदोलन किया जाएगा,इस कार्यक्रम में मोर्चा सयोजक नवनीत चाँद,बेनी फर्नाडिश, आरिफ पवार,भरत कश्यप, सुजीत नाग,शोभा गंडोत्री,शेफाली चक्रवर्ती,एकता रानी ,के सरिता,उपेंद्र बांधे पप्पन भदौरिया आदि सदस्य उपस्थित थे

Related posts

नेहरू युवा केन्द्र का युवा नेतृत्व शिविर सम्पन्न
पंचायती राज में युवाओं की भूमिका बढ़े- हेमन्त ध्रुव

jia

Chhttisgarh

jia

15 सौ जवानों को अपने बैंड धुन में चलाने वाले एएसआई का हुआ निधन
भर्ती से लेकर सेवा समाप्ति तक बैंड दल का किया नेतृत्व

jia

Leave a Comment

error: Content is protected !!