October 18, 2021
Uncategorized

Chhttisgarh

Spread the love

एकलव्य आदर्श आवासीय विद्यालय में प्राचार्य के खिलाफ हुई शिकायत

आशीष परिहार कांकेर

कांकेर जिले के अन्तागढ़ में एकलव्य आदर्श आवासीय विद्यालय के प्राचार्य के द्वारा अतिथि शिक्षको ने कलेक्टर से मिल कर शिकायत की है कि अतिथि शिक्षकों को हर महिने वेतन के नाम से पैसा मांगा जाता है एवं हर महिने खाने-पीने के नाम पर शराब और मांस की व्यवस्था करने को कहा जाता है, व्यवस्था नहीं करनेपर जॉब से हटाने की धमकी दिया जाता है। भय से अतिथि शिक्षक प्रारंभ से ही खाने पीने की व्यवस्था कर रहें है।
व्यक्तिगत रूप से अतिथि शिक्षक को एक-दुसरे के खिलाफ भड़काने का कार्य करते है और चुगली एवं सभी अतिथि शिक्षकों को एक-दुसरे के विरूद्ध करने की कोशिश करतें है।
नियमित शिक्षकों से किसी भी प्रकार का बात न करें एवं बात करने पर डांटते है। नियमित शिक्षकों को चुगली करते है आए दिन बात-बात पर विद्यालय से निष्काषित कर देने की धमकी दिया जाता है।सभी अतिथि शिक्षकों को अनुभव प्रमाण पत्र देने से इंकार किया और बाद में प्रति शिक्षकों को 500 रूपएं के एवज मे अनुभव प्रमाण-पत्र देने की बात कहीं गई। जो अतिथि शिक्षक पैसा नहीं दे पाए उन्हें विद्यालय से उनकी सेवा समाप्त कर दिया गया जिसमें ग्रंथपाल, आर्ट एवं काफ्ट के शिक्षक शामिल है।
अन्य अतिथि शिक्षकों को मोबाईल फोन के द्वारा एवं अतिथि शिक्षकों के रूम में आकर पैसा की मांग किया जाता रहा है।
प्राचार्य के द्वारा अतिथि शिक्षकों के साथ व्यक्तिगत द्वेष की भावना करते है। प्राचार्य द्वारा तूच्छ व्यवहार किया जाता है और बच्चों के सामने अतिथि शिक्षकों को ऊंची आवाज में कुछ भी कह दिया जाता है जो कि अतिथि शिक्षक के आत्म-सम्मान को ठेस पहुंचाता है।
प्राचार्य द्वारा यह सूचना निकाला गया कि सभी अतिथि शिक्षक स्कूल समय सुबह 10 बजें से शाम 4 बजें तक रहेंगे और स्कूल के सभी कार्यो मे सहयोग करेंगे। परन्तु अब कहते है कि आप लोगो का वेतन पीरियड का ही बनेगा।
प्रारंभ से स्कूल का आफिस कार्य एवं छठवीं कक्षा भर्ती प्रक्रिया के सभी कार्य 10 से 4 बजें तक कार्य करने हेतु पहले आदेश दिया जाता है जिसमें सभी अतिथि समान रूप से कार्य करते है और सूचना निकाला जाता है कि आपको अपने कालखण्ड के अनुसार ही कालखण्ड का भुगतान किया जाऐगा। जबकि हम सभी अतिथि एवं रेगुलर शिक्षक मिलकर सुबह 10 बजें से शाम 4 बजें तक समान रूप से कार्य करते है।
प्राचार्य द्वारा अतिथि शिक्षक को वार्षिक परीक्षा के लिए प्रश्न-पत्र अपने खर्च से छपवाने को कहते और आगे कहते है कि अपने स्कूल के बच्चों के लिए इतना नहीं कर सकते।
प्राचार्य और संगीत शिक्षक के साथ विद्यालय परिसर में कभी-कभी शराब पीकर आते है। इससे विद्यालय का वातावरण दूषित होता है।
अतिथि शिक्षिका यदि किसी अतिथि शिक्षक के साथ मोटर सायकिल से विद्यालय आती है तो उनके चरित्र पर छीटाकसी एवं दुर्व्यवहार करते है।
अतिथि शिक्षक लैब परिचारक को जनवरी माह से ही बार बार व्यक्तिगत रूप से नौकरी से हटाने की सूचना देते थे तथा जब लैब परिचारक ने पैसा देने की बात रखा तो उनके कार्य को फरवरी माह तक बढ़ाया गया। फरवरी माह के लिए पैसा नही देने पर लैक परिचारक को गद्दार कहा गया। लैब परिचारक को किसी भी रेगुलर शिक्षक की कक्षा नहीं लेने को कहते है।
संगीत शिक्षक का हर महिने में 3 ये 4 दिवस अवकाश करने के बाद भी पूरा 18000 रूपएं वेतन दिया जाता है और हर महिने अतिथि शिक्षकों का पूर्ण दिवस उपस्थित होने के बावजुद भी हर महिने गुरूदक्षिणा के तौर पैसा एवं मांस-मंदिरा की मांग किया जाता है।
प्राचार्य द्वारा अतिथि शिक्षकों से किसी भी कार्य जैसे फोटो प्रिंट, पेंटींग या यात्रा का फर्जी बिल पर हस्ताक्षकर करवाया जाता है।
अतिथि शिक्षकों द्वारा एकलव्य आदर्श आवासीय विद्यालय अंतागढ़ प्राचार्य के खिलाफ मानसिक व शारीरिक रूप से शोषण करने का आरोप लगाया गया और जल्द से जल्द समस्या का निवारण करने का मांग किया गया।
ग्रंथपाल और क्राफ्ट शिक्षक को समय अवधि के पूर्व निष्काषित किया गया। जबकि विज्ञापन पत्र पर 89 दिन की अवधि के लिए रखा जाऐगा ऐसा लिखा हुआ है।
संगीत शिक्षक, ग्रंथपाल एवं क्राफ्ट शिक्षक की नियुक्ति एक ही समय में हुआ जिसमे समय से पहले या शैक्षिणक सत्र पूर्ण होने से पहले ग्रंथपाल एवं क्राफ्ट शिक्षक को उनके पद से निष्काशित कर दिया गया।
अतिथि शिक्षकों ने वर्तमान मे एकलव्य विद्यालय अंतागढ़ में कार्यरत अतिथि शिक्षकों की पुन: नियुक्ति के अनुरोध किया। एकलव्य आवासीय विद्यालय में सभी अतिथि शिक्षकों का चयन विगत सत्र से प्रवीण सूची के तहत हुआ है तथा जोकि सत्र 2019-20 में कार्यरत है, उन्हें आगामी वर्ष में प्राथमिकता देने की मांग किया गया।
ज्ञापन देने के लिए जिला पंचायत कांकेर के उपाध्यक्ष हेमनारायण गजबल्ला, चमन साहू, योगेंद्र, लोमेंद्र यादव, किशन साहू, अमित साहू, अनिल मरकाम और आए हुए अतिथि शिक्षक महेश्वरम, ईश्वर लाल साहू, दीपेश कुमार, होर्मेन्द्र कुमार, यमुना, रोहत कुमार देहारी, प्रेमलाल सोनकर, ओमप्रकाश जैन, तरूण उपस्थित रहें।

Related posts

आत्मसमर्पण कर समाज की मुख्य धारा में जुड़ चुकी पूर्व माओवादी महिला पांडे कवासी ने की आत्महत्या

jia

Chhttisgarh

jia

jia

Leave a Comment

error: Content is protected !!