February 22, 2024
Uncategorized

मुख्यमंत्री वृक्ष संपदा योजना
का बड़ेगुडरा से शुभारंभ,
जंगल हैं तो हम सुरक्षित हैं -सुलोचना

Spread the love

जिया न्यूज:-दंतेवाड़ा,

दंतेवाड़ा:-विश्व वानिकी दिवस पर मुख्यमंत्री वृक्ष संपदा योजना का बड़ेगुडरा में समारोहपूर्वक शुभारंभ किया गया ।समारोह की मुख्य अतिथि सुलोचना कर्मा ने गोंडी बोली में पेड़ लगाने के फायदे बताते कहा कि जंगल हैं तो हम सुरक्षित हैं ।वृक्ष संपदा योजना का सार बताते बचेली रेंजर ने बताया कि मुख्यमंत्री की महत्वपूर्ण योजना अगले 5 साल में प्रदेश के 36 हजार एकड़ में रोपण का लक्ष्य है उन्होंने उपस्थित किसानों को अपने सिंचित-असिंचित जमीन पर तीन तरह के पौधे लगाने के फायदे को सरल शब्दों में कहा कि आप अपने जमीन पर नीलगिरी, चंदन और सागौन के पौधे लगाएं ।

वन विभाग इस कार्य में हर कदम आपके साथ है ।विभाग आपको पौधे देने के साथ उसे बिक्री होते तक आपके साथ होगा ।कुछ जगह नीलगिरी को लेकर फैली भ्रांति को गलत बताते सही जानकारी देते उन्होंने बताया कि आप किसी भी अन्य फसल के मुकाबले इसके लाभ अधिक हैं ।प्रति पौधा प्रति वर्ष हितग्राही के खाते में सरकार 10 रुपये रखरखाव के लिए दूसरे और तीसरे वर्ष भी 7 रुपये भेजेगी। सागौन का पौधा 12साल, चंदन 15तथा नीलगिरी 4 साल में बेचने लायक हो जाती है ।प्रति एकड़ प्रथम वर्ष 25 हजार से अधिक लाभ होता है ।इसके अतिरिक्त मलाबार नीम के भी अनेक लाभ है ।

इस पेड़ से प्लाई बनाई जाती है ।यदि इस वृक्ष का रोपण किया जाता है तो कच्चा माल उपलब्ध होगा और कंपनी यहा आएगी ।प्लांट खुल सकता है ।इसी बीच हितग्राही मनोज ने 3 एकड़ में फसल लगाकर लाभ की बात कहते सरकार और प्रशासन का धन्यवाद कहा ।जिला प्रशासन की ओर से कलेक्टर विनीत नन्दनवार एसडीएम विश्वरंजन ने भी अपने उद्बोधन से इस महत्वपूर्ण योजना के फायदे वताये ।

उन्होंने कहा कि आम तौर पर ग्रामीण बल्ली के लिए पेड़ो को काटते हैं लेकिन यदि भूमि में बांस पौधरोपण करेंगे तो पर्यावरण, परिवेश के साथ बेहतरीन लाभ भी होगा ।हरा सोना के नाम से मशहूर बांस पौधे के अनेक लाभ हैं ।जब सरकार पौधे लगाने से बेचने तक साथ है तो फिर क्या असुविधा ।यह फसल 4 साल में ही तैयार हो जाते हैं ।कार्यक्रम में दंतेवाड़ा वन मंडलाधिकारी सागर जाधव, एसडीओ अशोक सोनवानी सहित तमाम विभागीय कर्मी ग्रामवासी, हितग्राही मौजूद रहे ।

Related posts

Chhttisgarh

jia

कैम्प हटने का मतलब इलाक़ा नक्सलियों को सौंप देने जैसे होगा:फ़ारूख अली
क्षेत्रीय नक्सलियों के साथ बाहरी नक्सली करते हैं भेदभाव और शोषण

jia

तीन इनामी माओवादियों ने की घर वापसी,खुलकर लेंगे सांस

jia

Leave a Comment

error: Content is protected !!