Uncategorized

सिटी स्कैन टेक्नीशियन की अब तक नही हुई दूसरी भर्ती
मामला महारानी अस्पताल का, एक्सरे टेक्नीशियन दे रहे दिन रात सेवा

Spread the love

जिया न्यूज़:-जगदलपुर,

जगदलपुर:-महारानी अस्पताल में विगत माह कई पदों को लेकर संविदा नियुक्ति निकाली गई, लेकिन इन सभी पदों में की गई भर्ती तो हो गई लेकिन सिटी स्कैन टेक्नीशियन की एक भर्ती तो हुई लेकिन दूसरी भर्ती नही हो पाई है, ऐसे में एक्सरे टेक्नीशियन पर काम का दबाव बढ़ गया है और उनसे दिन रात काम करवाया जा रहा है।

सूत्रों से मिली जानकारी के अनुसार 20 अप्रैल को बस्तर कलेक्टर ने महारानी अस्पताल में कोविड 19 के संक्रमण को देखते हुए बस्तर जिले के स्वास्थ्य केंद्रों में चिकित्सा अधिकारी, माइक्रोबायोलॉजिस्ट, लैब तकनीशियन, लैब अटेंडर, डाटा एंट्री ऑपरेटर, सिटी स्कैन टेक्नीशियन, एम पी डब्लू पुरुष की भर्ती निकाली गई,

इन सभी पदों में भर्ती के लिए 22 से 29 अप्रैल तक भर्ती प्रकिया को रखा गया, इस दौरान सभी पदों में भर्ती तो किया गया, लेकिन सबसे बड़ी गौर करने वाली बात यह है कि जिस सिटी स्कैन टेक्नीशियन को रखा गया है उसे 3 माह के लिए 25 हजार प्रति माह के हिसाब से रखा गया है, जबकि जिस टेक्नीशियन की भर्ती की गई है वह बस्तर का निवासी नही है वह जांजगीर चापा का रहने वाला है, इस टेक्नीशियन सुबह ही अपनी सेवा देता है, जबकि शाम होते ही घर चला जाता है,

ऐसे में 15 हजार रुपये प्रति माह वेतन पाने वाले टेक्नीशियन से शाम से लेकर आपातकालीन के समय इनसे काम कराया जाता है, एक्सरे टेक्नीशियन को किसी भी आपात स्थिति में रात को भी बुलवाकर उनसे सेवा ली जाती है,
जबकि अभी कुछ दिनों पहले ही मेकाज के कुछ वार्डो को महारानी अस्पताल में शिफ्ट किया गया है, जिसमे सर्जरी विभाग भी शामिल है, रात को भी सड़क हादसे में घायल होने वाले मरीजो का एक्सरे व सिटी स्कैन इन्ही टेक्नीशियन के द्वारा करवाया जाता है, जबकि मेकाज के जो टेक्नीशियन है उनको भी यहां कोरोना के चलते कुछ समय के लिए अटैच कर सकते है, लेकिन उनको ना करते हुए एक्सरे टेक्निशियन दोनो कामो को कर रहे है,
इस मामले में महारानी अस्पताल के अधीक्षक डॉ संजय प्रसाद का कहना है कि भर्ती प्रकिया चल रही है, वही सिटी स्कैन करवाने के लिए मेकाज के टेक्नीशियन की मांग की गई है, अनुमति मिलते ही उन्हें बुलाया जाएगा।

Related posts

नगर से लगे हारम के बैरागी पारा में विगत दो दिनों में 40 – 45 मुर्गे मुर्गियों की हुयी मौते

jia

धीरे धीरे लौट रही सहदेव की मुस्कान- बेहतर इलाज के लिये परिजन ले जाना चाहते हैं रायपुर

jia

सिलगेर मामले में ग्रामीणों से सकारात्मक चर्चा
विकास के मुद्दे पर समिति बनाने सहित अन्य कई मांगों पर बनी सहमति

jia

Leave a Comment

error: Content is protected !!