June 23, 2021
Uncategorized

कांग्रेस की भूपेश सरकार ने कोरोना संकट काल की घड़ी में लाखों गरीब परिवारों को दिया बेहतर रोजगार का अवसर-राजीव शर्मा

Spread the love

जिया न्यूज़:-जगदलपुर,

वन भूमि पर मिले अधिकारों से वनवासियों का संवर रहा जीवन, बीहड़ आदिवासी अंचल के वनांचल क्षेत्रों में तेंदूपत्ता संग्रहण स्थानीय ग्राम वासियों के लिए बना महत्वपूर्ण सहारा.

ताउते और व्यास जैसे चक्रवात के दस्तक ने भी तेंदूपत्ता सग्रहाकों को नही रोक पाई, नतीजा बस्तर संभाग में 28 मई 2021 के स्थिति में 84 प्रतिशत मानक बोरा का संग्रहण किया, जिसके चलते पूरे देश मे लघु वनोपज उपार्जन में छत्तीसगढ़ प्रथम स्थान पर.

बस्तर संभाग में 4 लाख 24 हजार मानक बोरा का संग्रहण, भूपेश सरकार ने दी संग्राहको को नगद भुगतान की स्वीकृति, न्यूनतम समर्थन मूल्य बढ़ने से संग्राहको को 300 करोड़ रूपए की अतिरिक्त आय

जगदलपुर:-राज्य के संवेदनशील मुख्यमंत्री भूपेश बघेल के मंशाअनुरूप तेंदूपत्ता संग्रहण का कार्य तेजी से जारी है अब तक निर्धारित लक्ष्य के अनुरूप तेंदूपत्ता का संग्रहण किया जा रहा है इस वर्ष राज्य में 16 लाख 71 हजार मानक बोरा तेंदूपत्ता के संग्रहण का लक्ष्य है और इसका संग्रहण दर वर्ष 2021 में 4 हजार प्रति मानक बोरा निर्धारित की गई है उक्त बातें जिला कांग्रेस कमेटी के अध्यक्ष राजीव शर्मा ने कहा आगे उन्होंने बताया कि राज्य के यशस्वी मुख्यमंत्री भुपेश बघेल जी ने जिलेवार कोरोना संक्रमण की स्थिति के संबंध में ली गई समीक्षा के दौरान निर्देशित किया था कि राज्य में लघु वनोपजों का कार्य को भी निरंतर जारी रखा जाए ताकि जरूरतमंदों को रोजगार के लिए भटकना ना पड़े और उनकी अतिरिक्त आमदनी भी सुनिश्चित हो इनमें लघु वनोपज के संग्रहण के दौरान कोविड-19 के गाइडलाइन तथा आवश्यक सावधानी का पालन सुनिश्चित करने के लिए भी कहा गया है शर्मा ने कहा कि आदिवासी बहुल छत्तीसगढ़ राज्य में तेंदूपत्ता संग्रहण वनवासियों के जीवकोपार्जन में प्राचीन काल से ही अहम भूमिका निभाता आया है राज्य का 44 फीसदी से ज्यादा भूभाग वनों से आच्छादित है तथा वन संपदा से भरपूर इस राज्य में वन उपज संग्रह लोगों की जीवन शैली का अभिन्न हिस्सा रहा है छत्तीसगढ़ की भूपेश सरकार ने शुरू से ही वन क्षेत्रों में रहने वाले लोगों के विकास को अपने सरकार की प्राथमिकता में रखा है वनांचलों में तेंदूपत्ता संग्रहण का कार्य करने वालों की सुविधा पर सूबे के मुखिया भूपेश बघेल ने हमेशा फोकस किया है और समय-समय पर उनके हित संवर्धन की दिशा में अहम फैसले लिए हैं खासतौर पर कोरोना संकट और लॉकडाउन जैसे विपरीत परिस्थितियों में भी सरकार ने वनवासियों के हितों का ख्याल रखा और विपरीत परिस्थितियों के बावजूद तेंदूपत्ता संग्रहण के कार्य को निर्बाध गति से चलने दिया।
शर्मा ने कहा कि पिछले वर्ष भी विश्वव्यापी कोरोना महामारी के दौर में राज्य सरकार के प्रयासों से रिकॉर्ड तेंदूपत्ता का संग्रहण किया गया था उस दौरान सरकार ने वन संपदा के संग्रहण खरीदी बिक्री को तमाम सुरक्षा मानकों के बीच जारी रखने का फैसला किया आदिवासियों की जीविका का सबसे बड़ा आधार लघु वनोपज के मद्देनजर सरकार ने इस मामले में अपनी नीति नीयत को बेहद साफ रखा लॉकडाउन में मुख्यमंत्री भूपेश बघेल ने विवेकपूर्ण निर्णय लेते हुए तय किया कि आदिवासियों की पूंजी को बेकार जाने नहीं दिया जाएगा लघु वनोपज से आदिवासियों को सालाना होने वाली आय पर किसी तरह के संकट का प्रभाव नहीं पड़ने दिया जाएगा नतीजा यह हुआ कि छत्तीसगढ़ में लघु वन उपज की 90% से अधिक की खरीदी कर पूरे देश में नंबर वन होने का गौरव हासिल कर एक रिकॉर्ड बना लिया था इस साल भी कमोबेश वैसी परिस्थितियों में वनांचलों में तेंदूपत्ता संग्रहण जारी है और स्थानीय लोगों की आर्थिक स्थिति में लॉकडाउन जैसी परिस्थितियों का भी कोई नकारात्मक प्रभाव नहीं देखा गया है कांग्रेस की भूपेश सरकार की दूरदर्शिता सोच से वन अधिकार कानून के तहत वन भूमि पर मिले व्यक्तिगत सामुदायिक और वन संसाधन के अधिकारों से वनवासियों का जीवन संवर रहा है।

Related posts

जिला सशक्तिकरण अभियान छत्तीसगढ़ संयुक्त अनियमित कर्मचारी महासंघ जिला इकाई दंतेवाड़ा द्वारा सशक्तिकरण अभियान का किया गया आयोजन

jia

नक्सलियों के आत्मसमर्पण के बाद पुलिस को मिली एक और सफलता नक्सलियों की मांद में घुस कर मार गिराया एक माओवादी

jia

jia

Leave a Comment

error: Content is protected !!