August 8, 2022
Uncategorized

बस्तर में लॉकडाउन से ,लॉक नहीं हुआ कोरोना.. रणनीति का अभाव,नुकसान का सही अनुमान नहीं .. संक्रमण का बढ़ता ग्राफ चिंता का विषय-नवनीत चाँद

Spread the love

जिया न्यूज़:-जगदलपुर,

शीघ्र ही कोरोना पर समीक्षा हेतु सर्वदलीय बैठक बुलाई जाए,मिलकर लड़ने से कोरोना की हार पक्की

जनता कांग्रेस छ ग जे ने बस्तर को लेकर, सरकार के समकक्ष 9बिंदुओं पर सवाल पूछ,कोरोना संक्रमण की पूर्व तैयारी पर उठाये सवाल-नवनीत चाँद

जगदलपुर ।जनता कांग्रेस छत्तीसगढ़ जे के जगदलपुर जिला अध्यक्ष नवनीत चाँद ने बयान जारी करते हुए कहा कि राज्य सरकार व बस्तर के जनप्रतिनिधियों एवं कोरोना टास्क फोर्स द्वारा बस्तर में कोरोना संक्रमण के तीव्र फैलाव के कारण जन मानस नुकसान को सही रूप में अनुमानित न कर ,संक्रमण फैलाव के रोक हेतु समय रहते आवश्यक तैयारी में बरती गई लापरवाही का खामियाजा आज बस्तर की जनता को उठानी पड़ रही है। राज्य सरकार द्वारा जनता के बीच कोरोना संक्रमण के फैलाव पर अंकुश की विफलताओं पर फजियत से बचने हेतु जिला कलेक्टरों को अंतिम वक्त में बिना पूर्व तैयारी के कमान दे दी गई और लॉकडाउन को विकल्प बना जनता पर जबरदस्ती थोपा गया जिसका नतीजा आज यह कि बस्तर जिले के सभी अस्पतालों में मरीजों व उनके परिजनों की इलाज के अभाव व लापरवाही की ढेरों शिकायते प्रशासन को सुननी पड़ रही है।लॉकडाउन लगने व उसके बाद के आकड़ो पर यदि गौर करेंगे तो लॉकडाउन के बाद संक्रमण के ग्राफ में तीव्रता से बड़ी उछाल देखी जा सकती है। ऑक्सीजन की किल्लत के बीच बस्तर के एक मात्र मेडिकल कालेज में मात्र 20 किलो ग्राम उत्पादकता का ऑक्सीजन जनरेटर प्लांट है। जिसकी बढ़ोतरी हेतु अतिरिक्त प्लांट की स्थापना पूर्व से नहीं किया जाना एक बड़ी चूक है। हम आपातकाल में निजी कम्पनी व NMDC पर निर्भर है।विशेषज्ञों की माने तो जिले की जनसँख्या के अनुपात के हिसाब से दो हजार कोविड बेड की आवश्कता के बदले अब भी उसकी आधे से भी कम बेड उपलब्ध है। वही आक्सीजन युक्त बेड की जरूरत मूल बेड के मुकाबले 15 प्रतिशत होनी थी जो आज पर्यंत तक कम है। वहीँ 5 प्रतिशत गम्भीर मरीजों के लिए वेंटिलेटर युक्त बेड की जरूरत है जो आज बेहद कम है। दवाइयों व जरूरी उपकरणों की कमी तो वही सिटी स्कैन मशीन की खराबी ,बाजार में बड़े हुए दर मरीजों के लिए एक बड़ी समस्याएं उतपन्न कर रही है।कोविड सेंटरों में स्वास्थ्य व्यवस्था में कमी व इलाज मै आभाव रोज -रोज की शिकायत बन रही है।टीकाकरण अभियान व टेस्ट की गति धीमी हो गई है। सम्भाग में एक मात्र आर टी पी सी आर टेस्ट सेंटर होने की वजह से जनता को टेस्ट रिपोर्ट में 4 दिन से अधिक वक्त लग रहा है। वहीअस्पतालों में बफर जोन में सभी प्रकार के मरीजों को एक साथ रखा जा रहा है। जहाँ से संक्रमण फैलाव डर बना हुआ है। वही लॉक डाउन का सामान्य जीवन मे गहरा असर दिखने लगा है। मंगाई ,आर्थिक तंगी ,राशन की कमी पर जनता का सब्र धीरे धीरे जवाब दे रहा है। जिला अध्यक्ष ने अपने बयान में आगे कहा हैं कि सरकार ने लॉकडाउन कर जनता से तैयारी का वक्त भी लिया वही रणनीतिगत चूक ने वास्तविक तैयारियों के सरकारी बयानों की हवा निकाल दी है। बस्तर के जनप्रतिनिधि व मुख्य विपक्ष यदि अपने आपसी राजनीतिक बयानों फंसने के बजाए समय रहते व्यवस्थाओं के सुधार हेतु प्रयास हेतु अग्रसर होता तो आज परिणाम कुछ और होता,पैदा परिस्थितियों को ध्यान में रखते हुए जनता कांग्रेस जे पार्टी राज्य सरकार ,बस्तर के जनप्रतिनिधियों व बस्तर प्रशासन से ,अपील करती है कि जल्द से जल्द सर्वदलीय बैठक बुलवा हालात की समीक्षा कर सभी से समन्वय व साथ ले जनता को विश्वास में लरख आगे का कार्य करे। तभी हम सब मिलकर कोरोना से इस जंग में जीत पाएंगे।

Related posts

1 जनवरी को दंतेवाड़ा जिले के हजारों एनपीएस कर्मचारियों ने मनाया काला दिवस काली पट्टी व काला मास्क लगाकर एनपीएस का किया विरोध राष्ट्रीय पुरानी पेंशन बहाली संयुक्त मोर्चा के राष्ट्रीय आह्वान पर हैश एनपीएस ब्लैक डे” लिखकर पीएमओ व सीएमओ को टैग कर चलाया ट्वीटर अभियान

jia

11 से 13 अप्रैल के बीच होगा स्वास्थ्य विभाग का आंदोलन

jia

सुशासन का राग अलापने वाली सरकार के कारिन्दों का एक और कारनामा असहाय माँ-बेटी वर्षों से जी रहे थे पशुओं वाली जिन्दगी

jia

Leave a Comment

error: Content is protected !!