Uncategorized

डिमरापाल मेडिकल कॉलेज में मारपीट मामले में आया नया मोड़
सीपीआर दे रहे डॉ के साथ पहले परिजनों ने मारपीट
कोविड वार्ड के सीसीटीवी कैमरे में हुई घटना कैद

Spread the love

जिया न्यूज़:-जगदलपुर,

जगदलपुर:-सोसल मीडिया में इन दिनों मेडिकल कालेज डिमरापाल में एक कोरोना मरीज की मौत के बाद परिजनों ने डॉक्टरों पर लापरवाही का आरोप लगाते हुए इस बात को कहा कि जब उनका विरोध किया गया तो चिकित्सकों ने ना सिर्फ परिजनों के साथ मारपीट किया बल्कि शव को भी अपने कब्जे में करते हुए मृतक की गर्भवती बेटी को भी न बक्शते हुए उसके साथ मारपीट किया,इस पूरे मामले में जब कोविड वार्ड का सीसीटीवी कैमरा देखा गया तो इस बात का पता चला कि मरीज का इलाज कर रहे डॉ के साथ पहले परिजनों ने मारपीट किया।

मामले के बारे में मेकाज के चिकित्सकों ने बताया कि जिस रात कोरोना मरीज को उपचार के लिए मेकाज लाया गया था वहां तैनात चिकित्सक रात भर उसका मोनिटरिंग कर रहे थे, वही परिजनों को मरीज की हालत खराब होने की बात कहते हुए उसे वेंटिलेटर में रखने की बात कही, जिस पर परिजनों ने साफ तौर पर मना कर दिया, चिकित्सको ने मरीज की हालत खराब होने पर परिजनों को कहा कि उन्हें वेंटिलेटर की काफी जरूरत है लेकिन फिर भी परिजन उसे लगाने से मना ही करते रहे, जिसके बाद डॉक्टरों ने परिजनों से इस बात को लेकर पत्र भी लिखवाया जिसमे परिजनों ने साफ तौर पर मना करते हुए अपने हस्ताक्षर भी किये,

मरीज की हालत खराब होने के बाद जब डॉक्टर, स्टाफ नर्स , वार्ड बॉय अंदर गए, मरीज को जब डॉक्टर के द्वारा सीपीआर देने के दौरान मरीज की बेटी ने पहले तो चिकित्सक को धक्का मारने के बाद अपने चप्पलो से पिटाई करना शुरू कर दिया, जिसकी रिकॉर्डिंग कोविड वार्ड के सीसीटीवी कैमरे मे कैद हो गई,
इस घटना की जानकारी लगने के बाद मेकाज के अन्य सीनियर डॉक्टर मामले को सुलझाने के लिए ऊपर आये, वही विवाद ज्यादा ना बढ़ जाये इसके लिए पुलिस टीम पीपी किट पहनने के बाद हाथ मे डंडा लिए ऊपर आ गए, डॉक्टर व परिजनों के बीच जब इस मामले को लेकर विवाद हो रहा था तब मृतक के परिजनों ने डॉक्टरों को गाली देना शुरू कर दिया, जिसे मना करने पर धक्का मुक्की शुरू होता देख पीपी किट में तैनात जवान बीच बचाव करने लगे, लेकिन परिजनों ने एक वीडियो बनाने के बाद सोसल मीडिया में वायरल कर दिया कि मारपीट करने के साथ ही शव को बंधक बनाया गया है, मृतक की बेटी के साथ डॉक्टरों ने किसी भी तरह से मारपीट नही किया है, जबकि जीजा मानव गाली गलौज के चलते उसके साथ धक्का मुक्की किये जाने की बात सामने आई है।
वही परिजनों ने इस बात का भी आरोप लगाया था कि मारपीट करने के नियत से पीपी किट पहन कर हाथ मे डण्डा लिए जो लोग आए थे वे सभी डॉक्टर थे, लेकिन असल मे वो डॉक्टर नही पुलिस जवान थे, सुबह 8 बजे के लगभग कैम्पस में जो मारपीट हुआ वह भी परिजनों के द्वारा लगातार दुर्व्यवहार के साथ ही मारपीट के चलते हुआ जिसका एक वीडियो को सोसल मीडिया में वायरल किया गया।

Related posts

DRG के जवानों ने 2 अलग -अलग जगह नक्सल स्मारक किया ध्वस्त । पोरदेम और ककारी के जंगलों में किया ध्वस्त ।

jia

भाजपा शासन में पोटाकेबिन व वाटरहेड टैंक निर्माण भ्र्ष्टाचार जांच पर दोषी करार अधिकारियों पर कार्यवाही के बदले कांग्रेस सरकार की मेहरबानी क्यों-मुक्ति मोर्चा उच्च न्यायलय ने कमिश्नर बस्तर को जांच एजेंशी नियुक्त कर, तीन माह में रिपोर्ट के आधार पर कार्यवाही के दिये थे। निर्देश ,दो वर्ष बाद भी जांच अपूर्ण दोषी कौन?-मुक्ति मोर्चा

jia

गरीबो के घर उजाड़ कर ,हवाई यात्रा का जश्न बनाना बस्तर की संस्क्रति नहीं-मोर्चा लापरवाही निगम की ,खामियाजा गरीब गुरुघाशी दास वार्ड के प्रधानमंत्री आवास हितग्राही क्यों भूगते-मोर्चा

jia

Leave a Comment

error: Content is protected !!