October 21, 2021
Uncategorized

महिला सशक्तिकरण को मूर्त रूप देने के साथ साथ मल्टी ऐक्टिविटीज़ केंद्र के रूप में गौठान विकसित हो ऐसा प्रयास है – अनिता तेलम

Spread the love

जिया न्यूज़:-बीजापुर,

उसूर के गौठनों में 1578 क्विंटल वर्मी कम्पोस्ट का महिला समूहों ने किया उत्पादन

बीजापुर:-छत्तीसगढ़ सरकार की बहुप्रतीक्षित गोधन न्याय योजना अब “गढ़बो नवा छत्तीसगढ़” की परिकल्पना की ओर बढ़ता दिख रहा है। प्रदेश के सबसे अंतिम व संवेदनशील क्षेत्र कहे जाने वाले उसूर क्षेत्र के गौठान में काम करने वाले लगभग पंद्रह महिला स्वःसहायता समूह की 159 महिलाओं ने अलग अलग गौठनों में अब तक 6333 क्विंटल गोबर की ख़रीद कर उस गोबर से 1578 क्विंटल वर्मी कम्पोस्ट खाद का उत्पादन कर लगभग 640 क्विंटल खाद का विक्रय किया है जो उसूर जैसे पिछड़े और संवेदनशील क्षेत्र के लिए छोटी ही सही पर एक उपलब्धि ज़रूर है। उसूर क्षेत्र के गौठनों को आजीविका के केंद्र के रूप में विकसित किया जा रहा है जिसमें वर्मी खाद, सुपर कंपोस्ट, सब्जी बाड़ी, पशुपालन, सीमेंट ईट निर्माण, चारा उत्पादन आदि काम कर स्वः सहायता समूहों की महिलायें अतिरिक्त आय अर्जित कर रही है। गौठनों में मछली पालन, मुर्गी पालन, पशुपालन, मिनी राईस मिल, लेमान ग्रास आदि कार्य प्रस्तावित है। अंडा विक्रय से गौठान की महिला समूहों ने रुपये 300000 से अधिक की आय अर्जित कर चुकी है।
जनपद पंचायत उसूर की अध्यक्ष सुश्री अनिता तेलम ने भूपेश बघेल सरकार की गोधन न्याय योजना की तारीफ़ करते हुए कहा कि “महिला सशक्तिकरण को मूर्त रूप देने के साथ साथ मल्टी ऐक्टिविटीज़ केंद्र के रूप में उसूर क्षेत्र के गौठान विकसित हो ऐसा प्रयास है, लगातार महिलाएँ समूह बनाकर गौठनों से जुड़ रही है और शासन की योजनाओं का लाभ ले रही है गौठान भविष्य में स्थाई रोज़गार देने का केंद्र बनेगा।”

Related posts

प्रशासनिक हिदायत के बाद भी ईद में निकला जुलूस-विहिप

jia

सईयां भये कोतवाल तो फिर डर काहे का वाली तर्ज पर कोविड़ नियमों को ताक पर रख चल रहा था शादी समारोह.
प्रशासन ने दबिश दे कर किया जुर्माना

jia

Chhttisgarh

jia

Leave a Comment

error: Content is protected !!