June 16, 2021
Uncategorized

खंडहर होते सरकारी भवनों में रहते हैं कर्मी, अनेक बार आवेदन के बाद भी सुनवाई नहीं
यहां जान हथेली पर रखकर रहने को विवश हैं लोग

Spread the love

जिया न्यूज़:-दंतेवाड़ा,

दंतेवाड़ा:-मुख्यालय दंतेवाड़ा आरइएस का सरकारी मकान खंडहर होता जा रहा है लेकिन फिर भी कर्मी यहां अपनी जान हथेली पर रखकर रहने को विवश है ।इस कॉलोनी के अधिकतर मकान जर्जर हो चुके है स्लैब टूट-टूट कर गिरता जा रहा है ।सरिया दिखने लगा है लेकिन इसे मरम्मत करने प्रशासन को सुध नहीं है ।अब तक भगवान के भरोसे निवासरत ये कर्मी किसी अप्रिय घटना के भी शिकार हो सकते है ।

टॉयलेट पूरी तरह से टूटे हुए हैं जिससे पानी एक दूसरे के घरों में घुस रहा है ।सड़ाँन्ध का आलम ऐसा कि नाक बंद करना पड़ता है लेकिन न तो विभाग न ही स्थानीय जनप्रतिनिधि इसमें रुचि लेते है ।

कहना जरूरी है कि इन मकानों में ज्यादातर छोटे कर्मी हैं जिनकी पूछपरख अक्सर नहीं की जाती है ।सरकारी कर्मी होने के कारण ये खुलकर बोल भी नहीं सकते ।यही मजबूरी हैं जिस कारण ये सरकारी भवन मरम्मत के अभाव में लगातार जर्जर हो रहे हैं ।कई दफे समाचार पत्रों में प्रकाशन के बाद भी संज्ञान नहीं लेना प्रशासन की पोल खोलता है ।उम्मीद की जाएगी कि किसी गंभीर हादसे के पूर्व इन भवनों को मरम्मत कर दिया जाए ताकि रहवासी निश्चिंत होकर निवास कर सकें ।

Related posts

भाजपा दंतेवाड़ा का सभी मंडलो में पूर्ण हुआ प्रशिक्षण

jia

लौह नगरी किरंदुल में अभिव्यक्ति महिला जागरूकता कार्यक्रम का किया गया आयोजन….

jia

दशकों पहले बीजापुर में आदिवासियों ने जंगल बचाने फूंका था बिगुल। ” एक साल वृक्ष के पीछे एक व्यक्ति का सिर” के नारे से हुई थी “कोई विद्रोह” की मुनादी।

jia

Leave a Comment

error: Content is protected !!