November 27, 2022
Uncategorized

लगातार रैलियों के बाद भी विधायक और जिला प्रशासन मस्त ,वहीं ग्रामीण और पुलिस त्रस्त
अपनी मांगों को लेकर हजारो ग्रामीण रैली की शक्ल में फिर पँहुचे बीजापुर

Spread the love

जिया न्यूज:-ईश्वर सोनी बीजापुर,

बिजापुर:-जिला मुख्यालय से महज 5 किलोमीटर दूर स्थित गोरना गांव तक सड़क निर्माण पूरा हो चुका है गुरुवार को बड़ी संख्या में एक बार फिर ग्रामीण एकत्र होकर गोरना तक बनी सड़क का विरोध एंव अन्य मांगों को लेकर सुबह सुबह मुख्यालय पँहुचे राशन पानी के साथ ग्रामीण पहुंचे
विदित हो कि गोरना और मनकेली गांव को जिला मुख्यालय से जोड़ने के लिए शासन प्रशासन ने चाक-चौबंद सुरक्षा के साथ गोरना तक सड़क निर्माण पूरा किया , अब इसी सड़क के विरोध में उस इलाके के ग्रामीण आंदोलन की राह पकड़ चुके हैं , बड़ी संख्या में एकत्र हुए ग्रामीणों ने बताया कि उन्हें गांव में और ना ही गांव तक सड़क की आवश्यकता है और ना ही पुलिस कैंप की बल्कि उन्हें गांव में स्कूल आंगनबाड़ी और अस्पताल जैसी सुविधाओं की आवश्यकता है कैंप स्थापना के संदर्भ में बताते हुए ग्रामीण शंकर कुरसम ने बताया कि कैंप स्थापित होने से गांव में उनकी स्वतंत्रता खत्म हो जाती है वे जंगल में स्वतंत्र होकर अपना जीवन यापन करते हैं जिसे जवान पूरी तरह खत्म कर देते हैं यही नहीं बल्कि ग्रामीण क्षेत्रों में होने वाले पारंपरिक और सांस्कृतिक कार्यक्रमों त्योहारों और शादी जैसे समारोह भी बाधित होते हैं साथ ही गस्त के नाम पर निकले जवानों द्वारा उनके साथ मारपीट की जाती है इसीलिए वे कैम्प का विरोध कर रहे हैं और साथ ही सड़क आने से उनकी समस्याएं और बढ़ जाएंगी और उसका पर्यावरण पर भी सीधा असर पड़ेगा इसीलिए वे सारे ग्रामीण सड़क और कैंप का लगातार विरोध कर रहे हैं उन्होंने यह भी बताया कि अब मुख्यालय बैठकर तब तक आंदोलन जारी रखेंगे जब तक मांगे पूरी नहीं हो जाता और प्रशासन द्वारा उन्हें लिखित में यह आश्वासन दिया जाना होगा कि गांव में कैम्प की स्थापना नहीं की जाएगी तभी इस आंदोलन को खत्म किया जाएगा वरन या आंदोलन लगातार जारी रहेगा
लेकिन मुख्यालय पंहुचत्र सहित कोतवाली टीआई ने दल बल के साथ रैली को रोका और वापस गोरना की ओर रवाना किया इस दौरान ग्रामीणों के साथ पुलिस को झूमा झटकी एंव हल्के बल का प्रयोग भी करना पड़ा जिसके लेकिन ग्रामीण विधायक – कलेक्टर से मिलकर अपनी समस्याओं से अवगत कराने की जिद पर अड़े रहे लेकिन पुलिस के बढ़ते दबाव के चलते उन्हें वापस लौटना पड़ा इस दौरान कोतवाली प्रभारी सहित पुलिस बल उन्हें वापस गोरना की तरफ लेकर धकेल कर ले गए

सिलगेर – बुर्जी – बेचापाल के बाद अब गोरना में धरना चालू

अपनी मांगो को लेकर ग्रामीण सिलगेर – बुर्जि – बेचापाल में कई महीनों से धरने पर बैठे ही थे और अब ये आग जिला मुख्यालय से महज चार किलोमीटर दूर गोरना तक पँहुच गई और गोरना में भी ग्रामीणों का आंदोलन चालू हो चुका है

लगातार रैलियो के बावजूद विधायक और जिला प्रशासन मस्त तो पुलिस और ग्रामीण त्रस्त

ग्रामीण अपनी मांगों को लेकर पिछले कई महीनों से बीजापुर मुख्यालय आना चाह रहे है ताकि अपनी समस्याओ को क्षेत्रीय विधायक विक्रम मंडावी और जिला प्रशासन के सामने रख सके लेकिन उससे पहले ही सरकार के निर्देश पर पुलिस द्वारा रोक लिये जाते है इस दौरान ग्रामीण भूखे प्यासे काफी परेशान नजर आते है वन्ही उन्हें रोकने के लिये पुलिस प्रशासन भी काफी परेशान नजर आती है कई बार लगातर 24 घण्टे जवानों को ड्यूटी करनी पड़ती है और कई समस्याओं का सामना करना पड़ता है
लेकिन इस सब से दूर क्षेत्रीय विधायक और जिला प्रशासन बेफिक्र नजर आते है उन्हें ग्रामीणों के आंदोलनों से कोई मतलब नही कई बार आवेदन तो ले लेते लेकिन उनकी समस्याओं के निराकरण का कोई भी कदम नही उठाते है
ग्रामीणों की 80% मांगे पूरी करने में विधायक और जिला प्रशासन सक्षम तो देर क्यो???
ग्रामीण रैलियों के दौरान जो अपनी मांगों को लेकर आते है उनमें से कई मांगे विधायक एंव जिला प्रशासन चाहे तो ततकाल पूरी करवा सकता है लेकिन ग्रामीणों के बार बार आवेदन देने के बाद भी क्षेत्रीय विधायक एंव जिला प्रशासन गम्भीर नही है और इनकी इस बेफिकर्ता का खामियाजा पुलिस प्रशासन को रैलीया रोककर परेशान होकर झेलना पड़ता है जिसके चलते ग्रामीणों ओर पुलिस के बीच भी कई मतभेद चालू हो जाते है

Related posts

गंगालूर एरिया कमेटी के नक्सल दम्पत्ति ने किया नक्सल वाद से तौबा, खुशहाल जीवन के लिये पुलिस के समक्ष किया आत्मसमर्पण

jia

बिश्वनाथ को मिला यूनेस्को व अंतर्राष्ट्रीय गणितीय यूनिअन से आईडीएम 2021 का आयोजक

jia

इंजीनियरिंग छात्र लूट मामले
दहशत के पर्याय बने,रेकी कर बाहरी छात्रों को कर रहे टारगेट

jia

Leave a Comment

error: Content is protected !!