September 22, 2021
Uncategorized

अशिक्षा के अंधकार से मिली आजादी, 16 साल बाद 15 गांव के 935 बच्चों को मिला शिक्षा का अधिकार

Spread the love

जिया न्यूज़:-बीजापुर,

बीजापुर ब्लॉक के 15 गांव में 945 बच्चों को मिला शिक्षा का अधिकार

 बीजापुर:-सलवा जुडूम अभियान और नक्सली दहशत के चलते 16 साल पहले बंद स्कूलों मे से 15 गॉव में स्कूल खोलने में जिला प्रशासन को सफलता मिली है। 16 सालों से इन गॉवों में शिक्षा की बुनियादी सुविधा नही होने से सैकड़ो बच्चे शिक्षा के अधिकर से वंचित थे जिनके हाथों में अब कापी-कलम और किताब आ जाने से उन्हे अशिक्षा के अंधकार से आजादी मिलने की राह आसान हो गयी है। ये गॉव बीजापुर के अतिसंवेदनशील-दुर्गम व पहुंच विहीन ईलाको में शामिल है जहां 16 सालो बाद शिक्षा की बुनियाद फिर से रख पाना आसान नही था लेकिन शासन और जिला प्रशासन के सकारात्मक पहल व ग्रामीणों की सहभागिता ने इसे आसान बनाने में महती भूमिका निभाई ।
बीजापुर से 35 किलामीटर दूर बसे गॉव पेददाजोजेर में सामान्य तौर पर आसानी से पहुंच पाना मुश्किल काम है। इस गॉव तक पहुंचने के लिए नदी-नालों और दुर्गम पगडंडियों के साथ दहशत की चुनौतियों को पार करना पहली चुनौती होती है। यहां 2005 में सलवा-जुडूम अभियान के दौरान नक्सल दहशत के चलते बच्चों की प्रायमरी स्कूल बंद हो गई जिसके बाद स्कूल का नामो-निशान इस गॉव से मिट गया। कलेक्टर की पहल पर इन गॉवों में बच्चों को शिक्षा के अधिकार से जोड़ने की पहल फिर से शुरू हुई और ग्रामिणों का भरोषा जीतने के बाद इन गॉवों में फिर से अशिक्षा के अंधकार को दूर कर शिक्षा की अलख जगाने में कामयाबी मिली। यहां के बच्चों को तिरंगे की पहचान के साथ-साथ कापी, कलम और किताब से भी अंजान थे जिससे यहां की एक पूरी पीढ़ी अशिक्षा के अंधकार के दंश को जेल रही थी। स्कूल खुलने के बाद अब यह अंधेरा उनके जीवन से छट कर उन्हे भविष्य की नयी रोशनी की ओर ले जाने में सफल होगा।
बीजापुर ब्लॉक के धूर नक्सल प्रभावित गॉव पेददाजोजेर, कमकानार, डुवालीपारा, बुरजी, मल्लूर, पालनार, पुसनार, कड़ेनार, चोखनपाल, मेटापाल, मर्रीवाड़ा, कचलारम, गुज्जाकोंटा जैसे गॉवों में 15 स्कूल 16 साल बाद फिर से खोले गये है जिनमें 945 बच्चे शिक्षा की मुख्य धारा से जुड़े। इन गॉवों में छ0ग0 सरकार और जिला प्रशासन की मदद से गॉवों के युवा बेरोजगारों को ज्ञान-दूत के रूप में निश्चित मानदेय पर ग्राम पंचायत के प्रस्ताव पर नियुक्त किया गया है जिनके माध्यम से इन ईलाकों में शिक्षा की रोशनी बच्चों के भविष्य को रोशन करेगी।
इन स्कूलों को खोलने में प्रमुख भूमिका निभाने वाले बीईओ बीजापुर मोहम्मद जाकिर खान ने बताया कि इन ईलाकों में स्कूल खोलने की कवायद में विधायक विक्रमशाह मण्डावी और जिले के कलेक्टर रितेश कुमार अग्रवाल की भूमिका काफी सकारात्मक रही जिनके मार्गदर्शन में  ग्रामिणों के सहयोग से स्कूल खोलने में कामयाबी मिली है। कई सालो से इन ईलाको के ग्रामिणों का सम्पर्क मुख्य धारा से कटे रहने के कारण विश्वास बहाली एक प्रमुख चुनौती थी जिसे पार कर हमने शिक्षा के अधिकार से 15 गॉवों के 945 बच्चों को जोड़ने में सफलता पायी है। जिला प्रशासन ने इन ईलाकों में स्कूल संचालन के लिए डी.एम.एफ. मद से अस्थायी शेड निर्माण की स्वीकृति दी है।

Related posts

नेत्रदान पखवाड़ा में चिकित्सको ने बताया नेत्रदान के फायदे
चित्रकला के माध्यम से लोगो को किया जा रहा है प्रेरित

jia

Chhttisgarh

jia

छत्तीसगढ़ की धान खरीदी में धान बेचने वाले भाजपा नेताओं को धान खरीदी पर आंदोलन में शामिल होने का कोई नैतिक अधिकार नही है-विक्रम

jia

Leave a Comment

error: Content is protected !!