February 23, 2024
Uncategorized

नगर के मेले में दिखी आदिवासी लोक संस्कृति की झलक
दूर दराज के गॉवो से देवी देवताओं को लेकर पहुचे ग्रामीण
आदिवासी नृत्य, उड़िया नाटक का किया जायेगा प्रर्दशन

Spread the love

जिया न्यूज:-दंतेवाड़ा/गीदम,

गीदम:दक्षिण बस्तर अंचल की प्रसिद्ध गीदम मेला मड़ई का प्रारंभ शनिवार को हुआ। नगर के इस मेला मड़ई में दूरदराज इलाके के लगभग 40 से भी अधिक गांव के ग्रामीण अपने आराध्य देवी-देवताओं के साथ शामिल होते हैं। उनके साथ ही पुजारी, सिरहा, गुनिया,गायता भी इस प्रसिद्ध मेला मड़ई में पहुंचते हैं। गीदम ब्लॉक मुख्यालय की इस मेला मड़ई के बारे में कहा जाता है कि इस मेला मड़ई के संपन्न होने के बाद ही दक्षिण बस्तर अंचल में मेला मड़ई का समापन होता है। बस्तर अंचल में मेला मड़ई का अपना ही महत्व होता है। प्राचीन काल से ही मेला मड़ई ग्रामीणों के लिए अपने रिश्तेदारों से मिलने, जरूरी सामान खरीदने का साधन हुआ करते हैं। मेला मड़ई को सफल बनाने के लिए विभिन्न समितियों का गठन किया जाता है जिनकी देखरेख में मेला का आयोजन किया जाता है। मेला मड़ई में पेयजल सुविधा स्थानीय प्रशासन की होती है वही कानून व्यवस्था पुलिस प्रशासन संभालता है। अंचल में आयोजित होने वाले मेला मड़ई में रात में पारंपरिक नृत्य एवम नाट की प्रतियोगिता आयोजित की जाती है। इस बार तीन दिवसीय गीदम मेला मड़ई में शनिवार को मां दंतेश्वरी की डोली नगर पहुंची। जहाँ मां की डोली का भव्य स्वागत किया गया। आज भैरमबाबा मंदिर में पूजा अर्चना के पश्चात माई जी की डोली के साथ नगर की परिक्रमा की गई। इसे स्थानीय भाषा मे परघाव कहा जाता है। लोगों की मान्यता है कि माता की डोली के नगर भ्रमण से नगर में सुख समृद्धि व शांति आती है। नगर परघाव में माता की डोली के साथ आदिवासी ढोल नृत्य आकर्षण का केंद्र रहा। माता के डोली के दर्शन के लिए नगर की जनता का हुजूम उमड़ पड़ा। सभी माता के दर्शन के लिये आतुर दिखाई दिए। मां दंतेश्वरी स्तम्भ में ध्वजारोहण किया गया। शाम के समय आदिवासी नृत्य व उड़िया नाट्य का प्रदर्शन किया जायेगा। इस दौरान छविन्द कर्मा, बोमड़ा राम कावासी, चैतराम आटामि सहित नगर के सभी गणमान्य नागरिक शामिल हुए।

Related posts

Chhttisgarh

jia

छात्रों व आदिवासी महासभा के अध्यक्ष बोमड़ा राम कवासी ने महाविद्यालय को स्थानांतरित करने का किया विरोध

jia

जिया न्यूज़ का असर जरूर, लेकिन नाकाफी । बरसात में सीमेंट पाइप बह जाने का अंदेशा।खराब सड़क निर्माण से ग्रामीण नाराज़ ।

jia

Leave a Comment

error: Content is protected !!