September 21, 2021
Uncategorized

जिले में झमाझम बारिश और आंधी तूफान के साथ ओलावृष्टि से जिले के किसानों को हुआ भारी नुकसान

Spread the love

जिया न्यूज़:-शेख इमरान- बालोद,

बालोद:-दो दिनों तक जिले में झमाझम बारिश और आंधी तूफान के साथ ओलावृष्टि से जिले के किसानों को भारी नुकसान उठाना पड़ा है। जिले के कई क्षेत्रों में ओलावृष्टि होने से खेतो में खड़ी धान की फसलें गिर गई है जिससे किसानों को काफी नुकसान उठाना पड़ेगा।ओलावृष्टि और आंधी तूफान के बाद शाम 5 बजे से देर रात तक जिले में झमाझम बारिश हुई इससे किसानों का जनजीवन अस्त व्यस्त हो गया। धान की अच्छी फसल के लिए किसानों ने कोरोनाकाल मे भी काफी मेहनत कर फसल को तैयार करने एंडी चोटी एक कर दिए लेकिन जिले में किसानों को दोहरी मार झेलनी पड़ी पिछले माह भर से जिले में लॉकडाउन की स्थिति निर्मित है जिससे किसान खेतो में काम के लिए व फसलों को तैयार करने में काफी दिक्कतों का सामना करना पड़ा हालांकि लॉकडाउन के तीसरे व चौथे चरण में किसानो के लिए आंशिक छूट जरूर दी गयी किसानों ने जैसे तैसे धान की फसल को तैयार कर चुके थे लेकिन बीते दो दिनों की बारिश व आंधी तूफान ने किसानों के पूरे मेहनत पर पानी फेर दिया। तैयार फसल में ओले गिरने व आंधी तूफान से भरी नुकसान पहुंचा वहीं बारिश का पानी भी खेतो में लबालब भरा हुआ है जिले के कई क्षेत्रों में किसानों के खेत तालाब में तब्दील हो गया है। दो दिनों तक हुई बारिश और तूफान की कहर के बाद जिले के किसानो को खेतों में पहुंच कर जाम पानी को निकालने व बचे खुचे धान को सुरक्षित रखने काम पर लग चुके हैं।

जिले के किसान जैलूराम साहू और लवसिंग साहू ने बताया कि दो दिन तक हुई झमाझम बारिश और आंधी तूफान के साथ ओलावृष्टि से कई खेतो के खड़ी धान गिर गई है और कई खेतो में धान खड़ी है लेकिन वहां पानी भरे होने के कारण धान की कटाई भी असंभव है खेत मे धान की कटाई नही हो पायेगा जब तक खेत से पूरा पानी नही हटेगा तब तक धान की कटाई भी मुश्किल है। हार्वेस्टर मशीन से भी धान की कटाई करते लेकिन खेत दलदल हो चुका है तो मशीन भी खेत मे नही जा पाएगा। किसानों का कहना है कि जिले में कोरोना के कारण लॉकडाउन लगाया गया है जिससे काम धाम पूरी तरह प्रभावित हो चुका है वहीं प्राकृतिक आपदा से भी नुकसान उठाना पड़ रहा है जिससे भारी दिक़्क़तों का सामना करना पड़ रहा है।
जिले में लगभग 40 प्रतिशत धान की फसले खराब हो चुकी है इससे किसानों को भारी नुकसान पहुंचा है वही बाड़ी में हरे सब्जियों की फसल को भी काफी नुकसान पहुंचा है साग सब्जी की फसल तैयार करने वाले कमलेश सोनकर ने बताया कि बारिश और ओलावृष्टि के कारण साग सब्जियों को तैयार करने जो दवाई का छिड़काव किया उसका कोई फायदा नही हुआ पूरा नुकसान उठाना पड़ा है वहीं फलदार सब्जियों में कीड़े लगने की संभावना है जब सब्जियां खेतो में पूरी तरह तैयार हो जाता है और बारिश हो जाये तो बारिश के बाद कीड़े लग जाते है जिससे किसानों को काफी नुकसान उठाना पड़ता हैं।

Related posts

मेन मार्केट बीजेपी वार्ड होने के चलते नगर प्रशासन के द्वारा सौतेला व्यवहार की जा रही है – निधि संदीप जायसवाल, पिछले 4 दिनों से नगर पालिका अधिकारी के द्वारा मेन मार्केट की सफाई हो जाएगा ही कहा जा रहा है लेकिन अब तक नही हुआ हैं – मनोज छालीवल,

jia

जर्नलिस्ट वेलफेयर यूनियन के रायगढ़ जिलाध्यक्ष बने प्रताप बेहरा,सचिव दुलेन्द्र पटेल तमनार ब्लाक अध्यक्ष मोती लाल चौधरी नियुक्त

jia

किशोर-किशोरी सशक्तिकरण सहित बेटी बचाओ बेटी पढ़ाओ और बाल संरक्षण समिति की बैठक संपन्न

jia

Leave a Comment

error: Content is protected !!