July 29, 2021
Uncategorized

सुकमा में सीआरपीएफ ने खड़ी की मिशाल जरूरतमन्दों को कर रही रक्त दान

Spread the love

जिया न्यूज़:-संजय सिंह भदौरिया-सुकमा,

सुकमा:-इन दिनों सुकमा जिले में सीआरपीएफ की टीम सिर्फ लोगों की सुरक्षा ही नही अपितु रक्त दान कर उनके जीवन की रक्षा करने में भी अपनी महती भूमिका निभा रही है

विदित हो कि 02 वीं वाहिनी , सीआरपीएफ के जवानों के द्वारा सुकमा जिले में बीमार असहाय ग्रामीणों को लगातार रक्तदान कर मानवता का परिचय दिया जा रहा है। विगत दिनों ग्राम कोयाबेकूर के 52 वर्षीय लखमा को कमजोरी होने के कारण जिला अस्पताल सुकमा में भर्ती कराया गया था , जिसे 02 वीं वाहिनी के.रि.पु.बल के कमाण्डेन्ट टशी ज्ञालिक के आह्वान पर स.उ.नि एस मुथवेल द्वारा रक्त दान किया गया , परन्तु उक्त ग्रामीण के स्वास्थ में सुधार नही हुआ व उसे अतिरिक्त रक्त की आवश्यकता पड़ी । जिसकी सूचना अस्पताल प्रशासन ने पुनः 02 वीं वाहिनी के कमाण्डेन्ट को दी जिस पर सीआरपीएफ ने तुरंत स्थिति की गंभीरता को भापते हुए वाहिनी के जवानों को इसके बारे में बताया । इस पर 02 वीं बटालियन के अब्दुल नबी एवं जीडी रामपाल रक्तदान के लिए आगे आये एवं स्वेच्छा से रक्तदान कर उक्त बुजुर्ग ग्रामीण की जान बचाई । समय – समय पर जब भी इस प्रकार की आकस्मिक स्थिति आती है तो सीआरपीएफ के जवानों के द्वारा रक्तदान कर स्थानीय नागरिकों की जान बचाकर मानवता का परिचय दिया जाता रहा है जिसकी क्षेत्र में ग्रामीणों के द्वारा सराहना भी की जा रही है

रक्तदान कर प्रसूता की भी बचाई जान

कुछ दिनों पूर्व ग्राम चकनगुड़ा थाना गादीरास की रहने वाली गर्भवती महिला मिटकी देवी पत्नी अमन यादव को प्रसव हेतु सुकमा जिला चिकित्सालय में भर्ती कराया गया था जिसकी प्रसव के दौरान खून की कमी होने के कारण जिला अस्पताल सुकमा में गहन चिकित्सा केन्द्र में भर्ती कराया गया उसे रक्त की सख्त आवश्कता थी जिसकी जानकारी सीआरपीएफ के अधिकारियों को हुई व स्थिति की गंभीरता को देखते हुए अपने जवानों को इसके बारे में बताया जिस पर जीडी कौशिक मंडल रक्तदान के लिए आगे आये एवं अपनी स्वेच्छा से रक्तदान कर उक्त महिला की जान बचाई ।

Related posts

Chhttisgarh

jia

बारदाना में भी घोटाला, प्रदेश के सभी कर्मचारी निराश,धान खरीदी में पूरा फेल

jia

जगन्नाथ स्वामी के परंपरानुसार हुआ नेत्रोउत्सव पूजा विधान, सोमवार को होगी रथ यात्रा
जगन्नाथ मंदिर के छ: खंडों में सात जोड़े कुल बाईस प्रतिमाओं को किया जायेगा रथारूढ़

jia

Leave a Comment

error: Content is protected !!