October 25, 2021
Uncategorized

मुद्दा विहीन भाजपा और उनके नेता आपातकाल को लेकर लोगों में झूठ, जुमले और भ्रम फैला रहे है – कांग्रेस

Spread the love

जिया न्यूज़:-राजेश जैन-बिजापुर,

बीजापुर:-मुद्दा विहीन भाजपा और डॉक्टर सुभाऊ कश्यप आपातकाल को लेकर लगातार लोगों में झूठ, जुमले और भ्रम फैला रहे है। आपातकाल तत्कालीन परिस्थितियों के अनुसार उठाई गई संवैधानिक व्यवस्था थी। पर आज पूरे देश में अघोषित आपातकाल लगा हुआ है। संविधान के अनुच्छेद 352 के तहत तत्कालीन केन्द्र सरकार ने आपाताकल लगाया था। आपातकाल को देश की संसद की मंजूरी के बाद केन्द्रीय मंत्रिमंडल की सलाह पर राष्ट्रपति के द्वारा लगाया गया था। वर्तमान में भाजपा की केन्द्र सरकार तो पूरे देश में अघोषित और संविधानेत्तर आपातकाल लगा कर रखी है। असहमति के स्वर को दबाने के लिये केन्द्रीय जांच एजेंसियों सीबीआई और ईडी का धौंस विपक्ष के नेताओं को दिखाया जाता है। देश की महत्वपूर्ण संवैधानिक संस्थाओं की स्वात्यता को नष्ट कर दिया गया है। स्वतंत्र भारत के इतिहास में पहली बार हुआ है कि देश की सर्वोच्च न्यायालय के चार न्यायधीशों को अपनी बात कहने मीडिया और देश की जनता के सामने आना पड़ा। चुनाव आयोग की निष्पक्षता संदिग्ध हो गयी। समाचार माध्यमों की स्वतंत्रता लगभग समाप्त की दी गयी। मोदी सरकार की मंशा और यशोगान समाचार चैनलों पर जबरिया थोपा गया एजेंडा बन गया है। देश के किसान 8 महिने से अधिक समय से सड़कों पर है, सरकार उनकी बात सुनने को तैयार नहीं। इससे बड़ा अलोकतांत्रिक कदम और आपातकाल क्या हो सकता है कि प्रजातंत्र की सबसे बड़ी पंचायत संसद के उच्च सदन में बिना बहस के पारित करवायें गये कानून को लागू करने की जिद में मोदी सरकार देश की 77 फीसदी आबादी किसानों की आवाज को अनसुनी कर रही है। लोकतांत्रिक आंदोलन के स्वर को दबाया जा रहा। जनता द्वारा चुनी गयी सरकारों और जनादेश को धन बल के सहारे तथा राजभवनों से संविधानेत्तर हस्तक्षेप करवा कर सरकारों को हड़पने की भाजपा और उसकी केन्द्र सरकार के अघोषित आपातकाल के सबसे बड़े उदाहरण है मध्यप्रदेश, कर्नाटका में कांग्रेस की सरकारों को विधायक खरीद कर हथियाना हो या गोवा, मणीपुर में बड़े दल होने के बावजूद कांग्रेस की सरकारें नहीं बनने देना भाजपा के अलोकतांत्रिक चरित्र को बताते है। फर्जी और कूटरचित दस्तावेजों को सोशल मीडिया में दुष्प्रचार करने के प्रमाणिक अपराध के लिये रमन सिंह के खिलाफ दर्ज एफआईआर पर सरोज पांडेय को आपातकाल नजर आता है, लेकिन ईलाज और दवाई तथा ऑक्सीजन की मांग करने वाले सैकड़ों लोगों के खिलाफ उत्तरप्रदेश में दर्ज एफआईआर पर भाजपा की बोलती क्यों बंद है? गंगा में हजारों लाशें बहने का खौफनाक मंजर देश के हर गली मुहल्लों से निकलने वाली लाशें क्या किसी आपातकाल से कम थी? कोरोना महामारी में लोगों की ऑक्सीजन और दवाईयों से हो रही मौतों पर देश की शीर्ष अस्पतालों के द्वारा केन्द्र सरकार को लगातार लगाई गयी फटकार उन्हें आपातकाल नहीं लगता, लोग ऑक्सीजन की कमी, दवाईयों की कमी से मरते रहे पूरी केन्द्र सरकार प्रधानमंत्री बंगाल के चुनाव में बड़ी-बड़ी रैलियां करने में व्यस्त रहे। महामारी में केन्द्र की इस आपराधिक लापरवाही में भाजपा नेताओं को आपातकाल नजर नहीं आया। भाजपा और उनके नेताओं को केवल झूठ, जुमले और भ्रम का प्रचार करने के अलावा और कोई काम आता ही नहीं भाजपा के पास जनहित के एक भी मुद्दे नहीं है।

Related posts

जिला अस्पताल को मिली सीटी स्कैन मशीन की सौगात, जिले को मिलेगी सीटी स्कैनिंग मशीन की सुविधा क्षेत्र वासियों नहीं जाना होगा शहर से बाहर

jia

युवती के घर मे घुसकर छेड़छाड़ करने वाला आरोपी गिरफ्तार

jia

अधपके भोजन व कम नास्ते के बीच कोरोना से लड़ रहे वारियर्स
थोड़ा सा खाना खाने के बाद पूरा खाना हो रहा वेस्ट

jia

Leave a Comment

error: Content is protected !!