July 1, 2022
Uncategorized

जनता कांग्रेस छत्तीसगढ़ “जे” व मुक्ति मोर्चा का जांच दल पहुंचा ग्राम पंचायत गुड़से पांडे कवासी बालिका के मौत का सच्च जानने

Spread the love

जिया न्यूज़:-दंतेवाड़ा,

नक्सली होने के संदेह पर दंतेवाड़ा पुलिस ने पांडे कवासी को किया था गिरफ्तार, पुलिस कस्टडी में हुई पांडे कवासी की मौत। परिजनों व ग्रामीणों ने लगाया हत्या का आरोप

जांच दल पहुंचा ग्राउंड जीरो बातचीत के दौरान नये तथ्य हुए उजागर निष्पक्ष कार्यवाही हेतु CBI से हो जांच

दंतेवाड़ा जिला के कटेकल्याण ब्लॉक गुड़से ग्राम पंचायत के पांडे कवासी की विगत दिनों पुलिस कस्टडी में हुई मौत पर छत्तीसगढ़ जनता कांग्रेस “जे” व बस्तर अधिकार मुक्तिमोर्चा के द्वारा बनी जांच कमेटी आज कटेकल्याण ब्लॉक के गुड़से ग्राम पंचायत पहुंचकर मृतिका के परिजनों व ग्रामीणों से बातचीत कर पुरे घटनाक्रम ‌के विवरण को जानने की कोशिश की बातचीत के दौरान मृतिका के परिजनों ने जिला प्रशासन व पुलिस प्रशासन पर आरोप लगाते हुए बताया कि उनकी बेटी मृतिका स्व० पांडे कवासी का किसी भी नक्सलियों के संगठन से कोई लेना-देना नहीं था।

घटना दिनांक को मृतिका ग्राम पंचायत के अन्य मोहल्ले में परिवारीक कार्यक्रम में शिरकत करने ग ई थी। इस दौरान पुलिस विभाग के कुछ जवानों के द्वारा मृतिका को नक्सली होने के संदेह के आधार पर बीना पुष्टि के गिरफ्तार कर दंतेवाड़ा मुख्यालय कारली स्थित पुलिस कार्यालय में पुछताछ हेतु ले जाया गया। इस दौरान परिजनों की हुई मुलाकात में मृतिका पांडे कवासी ने परिजनों को खुद के साथ हुए मारपीट व प्रताड़ना का जिक्र किया, तत्पश्चात परिजनों द्वारा मृतिका पांडे कवासी को छुड़वाने की कोशिश के दौरान अचानक परिजनों को यह बताया गया कि पांडे कवासी ने फांसी लगा आत्महत्या कर ली है इस पूरे घटनाक्रम पर मृतिका का परिजन एवं जनप्रतिनिधियों के द्वारा पुलिस विभाग द्वारा मृत्यु के कारण को एक सिरे से खारिज करते हुए संपुर्ण घटना को उच्च स्तरीय जांच करवाकर दोषियों के खिलाफ कड़ी कार्यवाही करने की मांग राज्य सरकार से की है मांग।

मृतिका को दफनाने से पुर्व समाजिक क्रिया के दौरान शरीर में गंभीर व आंतरिक चोट व निशान की पुष्टि परिजनों एवं ग्रामीण महिलाओं के द्वारा की गई है जीसे आधार बनाकर ग्राम पंचायत के ग्रामीण द्वारा पुलिस विभाग पर गंभीर आरोप लगाते हुए मृतिका पांडे कवासी की मौत आत्महत्या से नहीं होना मानते हुए हत्या किए जाने की बात कही गई। वह निष्पक्ष न्याय की मांग रखी गई, जिसे सुनकर जनता कांग्रेस छत्तीसगढ़ “जे” व मुक्ति मोर्चा के जांच दल ने संयुक्त रूप से बयान जारी करते हुए कहा कि सम्पुर्ण घटना मानवता को शर्मसार कर देने जैसे घटना है जिसकी जितनी निंदा की जाए उतनी ही कम है। परिजनों के कथन अनुसार सम्पुर्ण घटनाक्रम प्रथम दृष्टया में संदेहास्पद नजर आता है। वहीं पुलिस कस्टडी में पांडे कवासी की आत्महत्या का हो जाना विभागीय की बड़ी चुक को दर्शाता है, सर्वोच्च न्यायालय द्वारा ऐसे घटनाओं के दौरान बने गये नियमों के पालन नहीं किए जाने की जानकारी के आधार पर सम्पुर्ण घटना बड़े संदेह के घेरे में है जिसकी निष्पक्ष जांच राज्य सरकार को उच्च स्तरीय या केंद्रीय CBI से करानी चाहिए। जांच के सभी तथ्यों को बिन्दुवाद पार्टी हाईकमान व मुक्ति मोर्चा के पदाधिकारियों के समक्ष रख पीड़ित परिवारों को न्याय दिलाने हेतु आगे की रणनीति बनाई जाएगी। इस दौरान जनता कांग्रेस जे के जांच कमेटी अध्यक्ष प्रदेश महासचिव श्री नवनीत चांद सदस्य पूर्व जिला पंचायत अध्यक्ष श्रीमती जमुना संकनी, दंतेवाड़ा विधानसभा पूर्व प्रत्याशी सुजीत कर्मा, बस्तर अधिकार मुक्तिमोर्चा जिला संयोजक भरत कश्यप, बीजापुर जिला संयोजक बालकृष्ण बजाज, बीजापुर जिला सहसंयोजक दीपक मरकाम एवं अन्य साथियों व पत्रकार उपस्थित थे

Related posts

200 से अधिक व्यक्तियों की उपस्थिति पर एसडीएम से लेना होगा अनुमति
नव वर्ष के कार्यक्रम स्थल पर केवल एक तिहाई क्षमता की होगी अनुमति

jia

Chhttisgarh

jia

Chhttisgarh

jia

Leave a Comment

error: Content is protected !!