October 18, 2021
Uncategorized

कांटो के झूले पर बैठी काछन देवी अनुराधा ने बस्तर महाराजा को दी अनुमति

Spread the love

जिया न्यूज़:-जगदलपुर,

जगदलपुर:-बस्तर दशहरा की महत्वपूर्ण रस्म काछनगादी पूजा विधान काछनगुड़ी में बुधवार को हुई। कांटो के झूलों पर झूलने वाली काछनदेवी (अनुराधा) ने माटी पुजारी कमल चंद्र भंजदेव को बस्तर दशहरा निर्विघ्न रूप से मनाने का आशीर्वाद दिया और अनुमति प्रदान की।
माटी पुजारी कमलचंद्र भंजदेव
काछनदेवी से अनुमति लेने के लिए राजमहल से बाजा, आतिशबाजी और आंगादेव के साथ जुलूस निकला। पैदल चलकर माटी पुजारी कमलचंद्र भंजदेव मावली माता मंदिर पहुंचे, यहां देवी की पूजा-पाठ के बाद काछनगुड़ी के लिए निकले। काछनगुड़ी पहुंचने के बाद देवी का आव्हान किया गया। देवी आने के बाद झूले की सात परिक्रमा कराई गई। काछनदेवी को झूले पर झुलाया गया और माटी पुजारी कमल चंद्र भंजदेव ने देवी से आज्ञा मांगी।
काछनदेवी ने फूल और प्रसाद देकर अनुमति प्रदान की। इससे पहले यहां महिलाओं ने देवी के सेवा गीत गाए। काछनदेवी से अनुमति मिल गई है। इस अवसर पर सांसद दीपक बैज, विधायक रेखचंद्र जैन, सभापति कविता साहू, नवीन ठाकुर के अलावा अन्य जनप्रतिनिधियों के साथ ही माझी चालाकी भी आये थे।

Related posts

कोमा में चली गई अचानक मासूम बच्ची, चिकित्सको ने बचाई जान
बस्तर थाना क्षेत्र के ग्राम उसरी की रहने वाली थी बच्ची

jia

Chhttisgarh

jia

सार्वजनिक जमीन पर स्कूल बनाकर किया कब्जा ,मिल द्वारा बनवाया गया पर्ची सट्टा

jia

Leave a Comment

error: Content is protected !!