January 20, 2022
Uncategorized

केशकाल एडवेंचर फैस्टिवल का हुआ आगाज्
देश के अनेक राज्यों से पहुंचे पर्यटक बने साक्षी

Spread the love

जिया न्यूज़:-बब्बी शर्मा-कोण्डागाँव,

कोण्डागाँव:-जिला मुख्यालय से साठ किलोमीटर दूर केशकाल की सुरम्य पर्वत श्रिखंलाऔं में केशकाल एडवेंचर फेस्टिवल का शुभारंभ नगरपंचायत अध्यक्ष रौशन जमील खान ने किया, पश्चिम बंगाल,कर्नाटक व देश के अन्य राज्यों से आये पर्यटकों व ट्रैवल ब्लागर का
आदिवासी परम्परा अनुसार स्वागत किया गया।
टाटामारी के मनमोहक विहंगम दृश्यों से मंत्रमुग्ध पर्यटकों ने जब मांझिनगढ़ के शैल चित्रों को देखा तो
दाँतों तले उगलियाँ दबाने को मजबूर हो गये। पर्यटकों ने प्राकृति झरने, गुफाओं,विलक्षण जड़ीबुटि को भी देखा इस अवसर पर जिला पंचायत सीईओ प्रेमप्रकाश शर्मा, एसडीएम केशकाल डीडी मण्डावी, डिप्टी कलेक्टर भूपेन्द्र गावरे सहित अन्य अधिकारी एवं जिले के नागरिक उपस्थित रहे।
इस संबंध में बैंगलुरू से ट्रेवल माई नेशन से अर्चना एवं विधूर तथा ऑफ बीयर एंड अनटोल्ड के अमृता एवं अग्नि ने बताया कि उन्होंने अब तक कई स्थानों पर भ्रमण किया है। परंतु यहां की जनजातिय संस्कृति विलक्षण है तथा मांझिनगढ़ में पहाड़ के ऊपर से एक अलग ही दुनिया होने का अनुभव होता है। यहां से आस-पास के वनों को देखकर क्षेत्र के प्राकृतिक संसाधनों की प्रचुरता का अनुमान लगाया जा सकता है। इसके आगे उन्होंने कहा कि वे रात को टाटामारी में होने वाले बोन फायर एवं रात्रि कैंपिंग के लिये उत्साहित हैं। जिला प्रशासन द्वारा की गई व्यवस्थाओं की उन्होंने प्रशंसा करते हुए कहा कि जनजातिय संस्कृति को सहेजते हुए यहां के स्थानीय युवाओं को पर्यटन समिति के माध्यम से इस कार्यक्रम से जोड़ा जाना सराहनीय है। स्थानीय युवा जो टूर गाइड एवं पर्यटन स्थल संचालन एवं प्रबंधन का कार्य कर रहे हैं उन्हें अच्छी तरह से प्रशिक्षण दिया गया है। उनकी मेहमान नवाजी सभी को पसंद आ रही है।
आगामी दो दिनों में इस फेस्टिवल में बस्तर की पुरानी राजधानी बड़ेडोंगर, प्राचीन भोंगापाल के बौद्ध विहारों, शिल्पग्राम, पारधी जनजातिय ग्राम का भ्रमण, जलप्रपात दर्शन तथा स्थानीय व्यंजनों के साथ एडवेंचर स्पोर्ट के रूप में रॉक क्लाइंबिंग, पैरामोटर, रैपेलिंग, जीपलाईन, कैंपिंग एवं ट्रैकिंग की व्यवस्था की गई है। इसके अतिरिक्त प्रत्येक शाम विभिन्न सांस्कृतिक कार्यक्रमों एवं प्रतिस्पर्धाओं का आयोजन किया जायेगा। इस फेस्टिवल के द्वारा जिला प्रशासन जिले में उपलब्ध पर्यटन की क्षमताओं का विकास कर पर्यटन मानचित्र में इसे पहचान दिलाने का प्रयास किया जा रहा है।

Related posts

बेचापाल के ग्रामीणों को राशन के लिये मीलों पैदल चलने से मिली निजात

jia

नक्सल प्रभावित क्षेत्र में लाल सलाम के बजाय
जय हिन्द की गुज सुनाई देने लगी.

jia

सरकार पहुँची दिव्यांग हेमंत के द्वार,खुशियां मिली अपार,सपने होंगे साकार

jia

Leave a Comment

error: Content is protected !!