June 18, 2021
Uncategorized

कोन्टा में नियम कायदों को दरकिनार कर दावत देने पहुंचे मंत्री कवासी लखमा ।

Spread the love

जिया न्यूज़:-सुकमा,

पूरा बस्तर संभाग है कोरोना के आंध्रा वेरियंट की वजह से हाई अलर्ट तो स्वयं मंत्री कवासी लखमा जी आंध्रा बार्डर में स्थित कोन्टा में दावत दे कर क्या साबित करना चाहते हैं।

कोविड-19 (कोरोना) से बचने के लिए सुकमा जिला में लगा है धारा 144 सहित है पूरा जिला लॉक डॉउन उसके बाद भी सभी नियम कायदे कानून का धज्जि उड़ाते घूम रहे हैं मंत्री कवासी लखमा जी

सुकमा जिला में चलता है मंत्री कवासी लखमा जी का कानून जो वो करें सब सही इनके लिए नही है कोई रोक टोक

सुकमा:-कोविड-19 गाइडलाइन का सरेआम उल्लंघन कर रहे हैं मंत्री जी कोविड-19 के नियम सिर्फ आम आदमी के लिए है कांग्रेश के खास लोगों के लिए नहीं पूरा प्रदेश लॉक डाउन है कांग्रेस की गलत नीतियों के कारण आज आम आदमी दो वक्त की रोजी-रोटी के लिए जद्दोजहद कर रहा है जो कोरोना संक्रमित व्यक्ति हैं उचित इलाज के बिना दम तोड़ रहे हैं और मंत्री जी तो सिर्फ दावत और तफरी करने निकल गए हैं ना कोविड-19 के नियमों का ध्यान ना धारा 144 का पालन और नाही सामाजिक दूरियों की परवाह। वैसे कोविड-19 एवं लॉकडाउन में बनाए गए नियमों का पालन करने के लिए मंत्री जी से बोले कौन.? किसी भी अधिकारी को इसमें कोई रुचि भी नही है ऐसा दिखाई पड़ रहा है इस सबसे तो मंत्री जी के सामने प्रशासन बौना नजर आ रहा है क्योंकि सरकार स्वयं नियम कानून की धज्जि उड़ा रहें है तो कोई बोले भी क्या.? अगर यही नियम कानून कोई गरीब व्यक्ति या आम जनता तोड़ती तो अभी तक उसके ऊपर FIR, चालान, डंडा बरसाई सब कुछ हो जाता अब देखो न ऐसा सुनाई आ रहा है कि गादीरास में गरीब जनता अपना पेट भरने के लिए राशन लेने गया था वो भी मास्क लगा कर फिर क्या था बड़े साहब पहुँच गए चालान काटने बेचारे गरीब जनता अपनी पेट की आग बुझाए या चालान कटवाए और मामला भी माननीय मंत्री जी के क्षेत्र का है। एक तरफ पूरे देश में हाहाकार मचा है और एक जिम्मेदार जनप्रतिनिधि जो सरकार में जवाबदार व्यक्ति है उनके द्वारा इस प्रकार का आयोजन प्रायोजित करने व उसमें शामिल होने से आम जनता के मन में क्या संदेश जाएगा एक तरफ हम कोन्टा बॉर्डर को सील कर बाहर से आने वाले आम लोगों को बार्डर में नाका लगाकर रोक दे रहे हैं और उन्हें करोना की नेगेटिव रिपोर्ट लाने को कह रहे हैं जब हमारे जिले के अंदर ऐसे आयोजन होते रहेंगे तो हमारे बार्डर में चेक पोस्ट लगाकर सील करने का क्या औचित्य है।

Related posts

गंगालूर पुसनार मार्ग में मीले दो आईईडी , बीडीएस की टीम ने किया निष्क्रिय

jia

कोरोना संकट काल में भी आसमान छू रहा है छू लो आसमान कोचिंग सेंटर

jia

माओवादियों के दक्षिण सब जोनल कमेटी के ब्यूरो ने जारी की प्रेस विज्ञप्ति
पुलिस पर माओवादी संगठन के खिलाफ दुष्प्रचार करने का लगाया आरोप
राज्य और केंद्र सरकार की शिक्षा नीति पर भी उठाये सवाल

jia

Leave a Comment

error: Content is protected !!