November 30, 2021
Uncategorized

मिथिलाँचल व पूर्वांचल समाज ने धूमधाम से मनाया छठ महापर्व
प्रशासन ने की थी चाक-चौबंद व्यवस्था

Spread the love

जिया न्यूज़:-बब्बी शर्मा-कोण्डागाँव,

कोंडागाँव:-जिले के कोण्डागांव में सुर्यदेव व छठ माता की उपासना का महापर्व पर व्रतधारियों ने निर्जला उपवास रखकर बुधवार को अस्ताचलगामी सूर्य को दोपहर बाद से ही पूर्व निर्धारित पोखरों में पहुंचकर कमर भर पानी में खड़े हो कर पश्चिम में अस्त होते हुए सूर्य को अर्क दिया। स्थानीय बंधा तालाब व पलारी तालाब में नगर पालिका ने पहले ही व्रतधारियों की सुविधा के लिए सभी व्यवस्थाऐं कर रखी थीं,प्रशासन द्वारा किसी भी अप्रत्याशित घटना से निपटने के लिए राज्य आपदा मोचन बल भी मुस्तैदी से तैनात किया गया था। वहीं पूर्वांचल समाज के द्वारा स्थानीय बंधा तलाब घाट परिसर में आकर्षक विद्युत सज्जा की गई थी.
ज्ञात हो कि उत्तर भारतीयों के द्वारा इस पर्व को बड़े ही विधि विधान के साथ मनाया जाता है । चार दिनों तक चलने वाले इस महाव्रत के लिए पहले से ही तैयारी करनी होती है ।
आठ नवम्बर से नहाए खाए के साथ इस पर्व की शुरुआत हुई थी,नौ नवम्बर को संध्या काल में अस्त होते सूर्य की पूजा अर्चना के बाद अर्क देते हुए 10 नवम्बर को प्रातः काल में उगते सूर्य को अर्क देने के बाद पर्व का समापन हुआ।
पौराणिक कथा अनुसार प्रथम देवासुर संग्राम में जब असुरों के हाथों देवता हार गए थे, तब देव माता अदिति ने तेजस्वी पुत्र की प्राप्ति के लिए देवारण्य के देव सूर्य मंदिर में छठ माता की आराधना की थी ।
उस तपोराधना से प्रसन्न होकर छठ मैया ने उन्हें सर्वगुण संपन्न तेजस्वी पुत्र होने का वरदान दिया था । इसके बाद अदिति के पुत्रों द्वारा त्रिदेव रूपी आदित्य भगवान ने असुरों पर देवताओं को विजय दिलायी । कहा जाता है कि उसी समय से देव सेना षष्ठी देवी के नाम पर छठ पूजा का चलन भी शुरू हुआ।

Related posts

Chhttisgarh

jia

प्रदेश सरकार की गौठान योजना में ढोल के अंदर पोल बेजुबान पशुओं की आँखों से बहते अश्रु कर रहे हालात बंया

jia

Chhttisgarh

jia

Leave a Comment

error: Content is protected !!