July 29, 2021
Uncategorized

27 जून को कोई पुलिस नक्सली मुठभेड़ को ग्राम नीलावाया के ग्रामीणों ने बताया फर्जी
ग्रामीणों ने कहा कि पुलिस ने संतोष को निहत्थे पकड़ लिया और उसकी हत्या कर दी
घटना की जांच तक संतोष के शव को सुरक्षित रखने की ग्रामीणों की मांग

Spread the love

जिया न्यूज़:-दंतेवाड़ा,

दंतेवाड़ा-27 जून को पुलिस नक्सली मुठभेड़ में मारे गए संतोष मरकाम की हत्या को ग्राम नीलावाया के ग्रामीणों ने फर्जी मुठभेड़ बताया है।

ग्रामीणों ने इस मुठभेड़ के संबंध में दंतेवाड़ा कलेक्टर दीपक सोनी को ज्ञापन सौंपकर इसकी न्यायिक जांच की मांग की है। गौरतलब है कि विगत कुछ दिन पूर्व ही पुलिस ने संतोष को 5 लाख का इनामी माओवादी बताया था। और पुलिस नक्सली मुठभेड़ में उसके मारे जाने की पुष्टि की थी। पुलिस के अनुसार उस पर अरनपुर थाना क्षेत्र में 25 केस दर्ज है। आज दूसरी ओर नीलावाया ग्राम के सैकड़ों ग्रामीण कलेक्ट्रेट पहुंचे और उन्होंने पोर्देम के जंगल की मुठभेड़ को फर्जी बताते हुए इसकी न्यायिक जांच की मांग की है।

ग्रामीणों को कहना है कि 27 जून को संतोष मरकाम अपने खेत में हल जोतने के बाद घर की ओर जा रहा था और कुछ लोग सादे ग्रामीण वेशभूषा में आए और उसे पकड़ लिया। वहां आसपास के ग्रामीणों ने उसे बचाने के लिऐ झूमाझपटी की लेकिन वो लोग उसे बलपूर्वक पकड़ ले गए और सरपंच सुकेश के घर के पास ले जाकर उसकी गोली मार कर हत्या कर दी। परंतु पुलिस प्रशासन इस हत्या को पोर्देम के जंगलों में नक्सल और पुलिस के मध्य मुठभेड़ बता रहा है जो कि गलत है और यह मुठभेड़ फर्जी है। कलेक्टर महोदय से अनुरोध है कि इस घटना की न्यायिक जांच होनी चाहिए और संतोष के हत्यारों पर नामजद एफ आई आर दर्ज होनी चाहिए। इस दौरान ग्राम नीलावाया के सैकड़ो ग्रामीण कलेक्टर कार्यालय पहुचे।

Related posts

Chhttisgarh

jia

दंतेवाड़ा जिले में जैविक खेती करने वाले किसानों के सामने चुनौतिया

jia

कोरोना संक्रमण से बस्तर को बचाने हेतु सिर्फ लॉक डाउन विकल्प नही-मोर्चा राज्य सरकार ,बस्तर संभागीय जिला प्रशासन ,सभी ब्लॉक स्तर में टेस्टिंग कर ,प्रति दिन आंकड़े करे सार्वजनिक-मोर्चा

jia

Leave a Comment

error: Content is protected !!