June 18, 2021
Uncategorized

पंचायत बना चारागाह-बोमड़ा
सरकार बदली, वादे बदले,लेकिन पंचायतों के हालात नहीं बदले टंकी तो है पर पानी है लापता

Spread the love

जिया न्यूज़:-दंतेवाड़ा/गीदम,

बिना पानी की व्यवस्था किये लगायी गयी टंकी व फिट किये गये नल

जनता के टैक्स के पैसो की हो रही बरबादी

गीदम ब्लाक मुख्यालय से लगे ग्राम पंचायत जावंगा में पांच आंगनवाड़ी केंद्र व एक उप स्वास्थ्य केंद्र का निर्माण शासन प्रशासन की योजनाओं के तहत हुआ है। इस स्वास्थ्य केंद्र व आंगनबाड़ी केंद्रों में देखने वाली बात यह है कि इसमें इनकी छत में टंकी फिट कर व पाइप लाइन लगाकर नल लगा दिये गये हैं।

लेकिन इनमें पानी सप्लाई का कोई इंतजाम नहीं किया गया है। और इन योजनाओं के बारे में ग्राम में ग्रामीणों व ग्राम के सरपंच को भी इस मामले में कुछ भी पता नहीं है। ग्राम जावंगा के पूर्व सरपंच व आदिवासी समाज के वरिष्ठ नेता बोमड़ा राम कवासी ने शासन प्रशासन पर आरोप लगाते हुए कहा कि यह ग्रामीणों के साथ कैसा उपहास किया जा रहा है कि गांव में योजनाये आती है लेकिन उसके बारे में वहां के सरपंच व ग्रामीणों को भी नहीं पता होता है। और इन योजनाओं को इस तरह से बर्बाद किया जा रहा है कि शासकीय भवनों में टंकी लगा कर नल तो फिटिंग कर दी जाती है लेकिन उसमें पानी पहुंचने का कोई ठोस उपाय नहीं किया गया है। ना तो बोर है, ना ही हैंडपंप इन जगहों में पानी की व्यवस्था कैसे की जाएगी इसके बारे कोई भी जवाब देह अधिकारी कुछ भी कहने की स्थिति में नहीं है। कि इन लगाई गई टंकी और नलों में पानी कहां से आएगा। उन्होंने शासन प्रशासन पर आरोप लगाते हुए कहा कि जब जावंगा जैसी जागरूक पंचायतों में ठेकेदार इस तरह का कार्य कर रहे हैं तो अंदरूनी क्षेत्रों में किस प्रकार का काम किया जा रहा होगा इसका अंदाजा लगा पाना भी मुश्किल है। वहां तो शासन प्रशासन की कई योजनाएं तो सिर्फ कागजों में ही पूरी हो रही होंगी।

बोमड़ा राम ने कहा कि कांग्रेश शासनकाल में ऐसा लग रहा है कि ठेकेदारों को फायदा पहुंचाने के लिए योजनाएं चलाई व बनाई जा रही है आम जनता की सुविधाओं और परेशानियों से सरकार को कोई सरोकार नहीं है। अब देखने वाली बात है कि इस पर शासन प्रशासन किस प्रकार की कार्रवाई करता है।

Related posts

Chhttisgarh

jia

राष्ट्रीय विज्ञान दिवस 2021 पर गीदम ब्लॉक स्तरीय विज्ञान प्रश्नोत्तरी प्रतियोगिता किया गया आयोजन

jia

दुधमुहे बच्चे को लेकर 50 किलोमीटर चल आधार कार्ड बनाने पहुची बेंगपाल गांव की महिलाएं।

jia

Leave a Comment

error: Content is protected !!