Uncategorized

प्रथम एवं द्वितीय लहर के दौरान बस्तर संभाग में अबतक 628 व्यक्तियों की हुई मौत
जगरगुण्डा, चिंतलनार, बासागुड़ा अंतर्गत अनेक ग्रामीण कोरोना महामारी से संक्रमित हुये

Spread the love

जिया न्यूज:-जगदलपुर,

जगदलपुर:-बस्तर संभाग के अंतर्गत कोरोना महामारी के बढ़ते संक्रमण को देखते हुये स्थानीय प्रशासन व पुलिस काफी सख्त हुई है। कोरोना महामारी संक्रमण की रोकथाम के उद्देश्य से समय-समय पर शासन-प्रशासन द्वारा जारी निर्देशों का उल्लंघन करने वाले व्यक्तियों एवं संस्था के विरूद्ध होगी कड़ी कार्यवाही भी की गई है,
वही कोरोना को लेकर बस्तर रेंज आईजी सुन्दरराज पी. द्वारा बताया गया कि संभाग के विभिन्न जिलों में कुछ व्यक्तियों एवं संगठन द्वारा क्षेत्र की जनता को डरा-धमकाकर तथा दिक्भ्रमित कर रैली, जुलूस, धरना प्रदर्शन इत्यादि गतिविधियों में शामिल किया जाकर लोगों के स्वास्थ्य के साथ खिलवाड़ किया जा रहा है। इस गतिविधियों में सम्मिलित व्यक्तियों एवं संगठनों के विरूद्ध कड़ी से कड़ी कानूनी कार्यवाही हेतु सर्वसंबंधित को दिशा-निर्देश भी जारी किये गये हैं।
उल्लेखनीय है कि वर्ष 2021 में भी कोरोना महामारी के दूसरे लहर के दौरान बार-बार समझाईश देने के बावजूद भी नियमों की अनदेखी कर ग्रामीणों को रैली में शामिल होने हेतु मजबूर करने के कारणवश जून, 2021 को जिला सुकमा एवं बीजापुर के सरहदी थाना क्षेत्र जगरगुण्डा, चिंतलनार, बासागुड़ा अंतर्गत अनेक ग्रामीण कोरोना महामारी से संक्रमित हुये, उनमें से कुन्देड़ गांव के एक बुजुर्ग व्यक्ति की मृत्यु भी हुई। बस्तर संभाग में दिनांक 21 जनवरी की स्थिति में 2641 एक्टिव कोरोना संक्रमित मरीज पाये गये हैं। कोरोना महामारी संक्रमण के प्रथम एवं द्वितीय लहर के दौरान बस्तर संभाग अंतर्गत अब तक कुल 628 व्यक्तियों की मृत्यु हुई है।
सुन्दरराज पी. पुलिस महानिरीक्षक, बस्तर रेंज द्वारा संभाग अंतर्गत समाज के प्रमुखों, सामाजिक संगठन, बुद्धिजीवियों, स्थानीय जनप्रतिनिधि, राजनीतिक संगठन, क्षेत्रवासियों एवं सर्वसंबंधितों से कोरोना महामारी संक्रमण के रोकथाम की दिशा में सहयोग प्रदाय करने हेतु अपील की गई है।

Related posts

भारतरत्न श्रद्धेय श्री अटल जी की जन्मजयंती के उपलक्ष्य में भाजयुमो मंडल गीदम के कार्यकर्ताओ ने किया फल वितरण

jia

सी.एम.एच.ओ. डॉ० राजन द्वारा बी.एम.ओ. बस्तानार को हटाने के बाद अब नेत्र विभाग के नोडल अधिकारी को हटाने का तुगलकी फरमान कर्मचारी हुए एकत्रित।

jia

प्रदेश सरकार की उदासीनता और लापरवाही की वजह से नहीं बेच पाए आदिवासी अपना हरा सोना रूपी तेंदूपत्ता —-मुडामी

jia

Leave a Comment

error: Content is protected !!