September 26, 2021
Uncategorized

कोरोना वारियर्स / फ्रंटलाइन वर्कर्स का अधिकार व सुविधा मांगेंगे शिक्षक
मुख्यमंत्री से शिक्षको के लिए सुरक्षा अभियान

Spread the love

जिया न्यूज़:-दंतेवाड़ा,

300 शिक्षको की हो चुकी मौत

संगठन ने दी सभी दिवंगत शिक्षकों को श्रद्धांजलि

मुख्यमंत्री श्री भुपेश बघेल जी व उनके सीएमओ कार्यालय के ऑफिसियल फेसबुक पेज में टैग करके शिक्षक सुरक्षा अभियान चलाएगा छ ग टीचर्स एसोसिएशन

दंतेवाड़ा :- छत्तीसगढ़ टीचर्स एसोसिएशन के प्रदेश अध्यक्ष संजय शर्मा,प्रांतीय उपाध्यक्ष प्रवीण श्रीवास्तव,जिला अध्यक्ष उदयप्रकाश शुक्ला,सचिव नोहर साहू,प्रमोद भदौरिया, कमल किशोर रावत,शैनी रविन्द्र,पुष्पा सिंह,अजय साहू,विनोद शर्मा,पोरस बिंझेकर, जी.आर.नाग,परमानन्द ध्रुव,उषा देवांगन ने सभी पदाधिकारियों व सदस्यों से अपील किया है कि वे फेसबुक में वीडियो अपलोड करके शिक्षक सुरक्षा अभियान चलाकर कोरोना वारियर्स / फ्रंटलाइन वर्कर्स का अधिकार व सुविधा देने मुख्यमंत्री जी से मांग करेंगे।

मुख्यमंत्री श्री भुपेश बघेल जी व उनके सीएमओ कार्यालय के ऑफिसियल फेसबुक पेज में टैग करके शिक्षक सुरक्षा अभियान चलाते हुए छ ग टीचर्स एसोसिएशन के सभी पदाधिकारी व सदस्यों द्वारा जो पोस्ट किया जाएगा जिसमे सभी शिक्षक यह लिखकर मांग करेंगे कि, मुख्यमंत्री जी

“कोरोना डयूटीरत हमारे शिक्षको को 50 लाख का बीमा कवर नही मिला, कोरोना वारियर्स व फ्रंटलाइन वर्कर्स का दर्जा नही मिला, दिवंगत शिक्षकों के आश्रित को अनुकम्पा नियुक्ति नही दी गई है, अभी के दौर में कोरोना डयूटीरत हमारे शिक्षक साथी सर्वाधिक रूप से संक्रमित होकर जान गंवा रहे है, और उनके लिए शासन से कोई योजना नही है, जो अत्यंत दुखद है, हम अपने सैकड़ो शिक्षको के सुरक्षा के लिए माननीय मुख्यमंत्री जी से बीमा कवर, कोरोना वारियर्स का दर्जा व अनुकम्पा नियुक्ति की मांग करते है”।

ज्ञात हो कि कोरोना ड्यटी में लगे 300 से अधिक शिक्षकों की मृत्यु के बावजूद बीमा का प्रावधान नही होने व तृतीय श्रेणी में अनुकम्पा नियुक्ति के आदेश नही होने से शिक्षकों व उनके परिवार जनों में बेहद आक्रोश है।

कोविड में शिक्षकों का डयूटी लगाया जा रहा है, परन्तु कोरोना वारियर्स का अभी तक दर्जा नही दिया जाना अत्यंत दुर्भाग्य पूर्ण है।

विषय परिस्थिति में ड्यूटी कर रहे है शिक्षक – जब जब आवश्यकता होती है कि अन्य विभाग के भी काम को शिक्षक ही सहर्ष स्वीकार करके अपने इति कर्तव्यो का कुशल निर्वहन करते रहे है।

शिक्षक कर रहे है जोखिम भरा ड्यूटी – जैसे अस्पताल में ड्यूटी, शमशान घाट में ड्यूटी वैक्सीनेशन में ड्यूटी, सेम्पल लेने में ड्यूटी, रेल्वे स्टेशन व बस स्टैंड में ड्यूटी,चेक पोस्ट में ड्यूटी, कांट्रेक्ट ट्रेसिंग में ड्यूटी, कोविड सेंटर में ड्यूटी, कोरेंटाईन सेंटर में ड्यूटी, टेस्टिंग में ड्यूटी, इसके बावजूद शासन ने शिक्षको को नही माना फ्रंटलाइन वर्कर्स।

पर जब भी शिक्षकों के हितों की बात होती है तो शासन, प्रशासन में बैठे जिम्मेदार लोग मुंह फेर लेते है फिर भी शिक्षक कभी अपनी जिम्मेदारी से पीछे नही हटे वे निरन्तर शासन, प्रशासन के निर्देश का पालन कर ही रहे है।

रमा,कर्मा,खोमेन्द्र देवांगन,शंकर चौधरी,सुभाष कोड़ोपी, अमित देवनाथ,भरत कुमार दुबे,साजिद भारती, टीकम दास साहू ने बताया कि प्रदेश में कोरोना डयूटी से 300 से अधिक शिक्षको को मृत्यु हो गई पर उन्हें 50 लाख के बीमा कवर में नही लाया गया, अब तक कोरोना वारियर्स का दर्जा नही दिया गया है, इससे शिक्षको में भारी आक्रोश है।

Related posts

आज विधायक विक्रम ने 92 हितग्राहियों को बांटे वन अधिकार पट्टे, वन अधिकार पट्टा वितरण पर क्षेत्र वासियो में खुशी की लहर

jia

संदिग्धों की अब खैर नही, परपा पुलिस है अब एक्शन मोड़ में
शाम होते ही जारी हो जाता है वाहनों की तलाशी लेना

jia

पौधारोपण कार्य पूर्ण,तार फेन्सिंग अधूरी ,मजदूरी भुगतान अधूरा गीदम रेंज के एक ही कार्य में कई अनियमितता बिना तार फेंसिंग गये पौधा रोपण क्षेत्र को छोड़ दिया गया

jia

Leave a Comment

error: Content is protected !!