July 29, 2021
Uncategorized

गुमशुदाओ में सबसे ज्यादा संख्या महिलाओं की
अभी भी 121 लोग बचे है, जिनकी खोजबीन कर रही पुलिस

Spread the love

जिया न्यूज़:-जगदलपुर,

जगदलपुर:-छोटी – छोटी बातों पर घर छोड़कर या प्रेम – प्रसंग में फंसकर कई माता – पिता के कलेजे के टुकड़े बिना बताए घर से चले जाते है। जिसके बाद परिवार के लोग अपने बच्चों को खोजने के लिए पुलिस की मदद लेते है। लेकिन ऐसे ही कुछ बच्चों को जहां कई परिवार अपना लेते है तो वहीं कई परिवार उनसे पूरी तरह से रिश्ता तोड़ लेते है। इन सबके अलावा लापता हुई लड़कियां अपना नाम ही बदल लेती है। जिससे पुलिस को उनको ढूंढने में काफी परेशानियों का सामना करना पड़ता है। इस सब के बावजूद बस्तर पुलिस इन्हें ढूंढने में कोई कसर नही छोड़ी है। बस्तर जिले के हर थाने में गुमशुदगी के कई मामले दर्ज किए जाते है, इसमें से कई मामले ऐसे भी है जिसमे बस्तर पुलिस बाहर राज्य में जाकर गुमशुदाओ को वापस लाने में कोई कसर नही छोड़ी है, इन गुमशुदाओ मे अगर देखा जाए तो सबसे ज्यादा आंकड़ा महिलाओं का है, जो गुमशुदाओ का सबसे ज्यादा है।
कई मामलों में तो पुलिस अभी भी प्रयास में लगी हुई है, देखा जाए तो ढाई वर्षो में सैकड़े के लगभग बालक, बालिका, महिला, पुरूष अभी भी है, जिसकी पतासाजी में बस्तर पुलिस लगातार प्रयास कर रहे है, जिसमे गुमशुदाओ को जल्द से जल्द खोज निकालने की बात कही जा रही है।
बात किया जाए अगर विगत ढाई वर्ष की तो वर्ष 2019 में 5 बालक, 71 बालिका, 60 पुरुष व 146 महिलाएं गुम होने का मामला दर्ज किया गया था, जिसमे बस्तर पुलिस ने 4 बालक, 69 बालिका, 49 पुरुष व 132 महिलाओं को खोज निकाला, जिसमे 1 बालक, 2 बालिका, 11 पुरूष व 14 बालिका बचे है, जिनकी खोजबीन चल रही है, वर्ष 2020 की बात करे तो 6 बालक, 78 बालिका, 66 पुरुष व 144 महिलाएं लापता हो गई थी, जिसमे से बालक तो पूरे मिल गए थे, बालिका 76, पुरुष 57 व महिलाएं 122 थे, जिसमे 2 बालिका, 9 पुरुष व 22 महिलाएं अभी भी बचे हुए है,
वर्ष 2021 जून तक की बात करे तो बालक 3 , बालिका 49, पुरुष 36 व 102 महिलाएं गुम हुई, जिसमे 2 बालक, 39 बालिका, 20 पुरुष व 69 बरामद किया गया, जिसमे अभी 1 बालक, 10 बालिका, 16 पुरुष व 33 महिलाएं अभी बचे हुए है,
इन ढाई वर्षो में 766 गुम हुए थे, जिसमे 645 लोग बरामद किए जा चुके है, जबकि 121 लोग अभी भी बाकी है, जिनके बारे में कुछ भी पता नही चल पाया है,
इन बचे लोगो को खोजने के लिए भी अभियान चल रहा है, लेकिन विगत 2 वर्षों से कोरोना के चलते अभियान को कुछ समय के लिए रुक गया था, लेकिन फिर से इस अभियान को वापस तेज किया जाएगा, जिससे कि गुमशुदाओ को फिर से खोजने का काम शुरू कर दिया जाएगा।
गुमशुदाओ के मामले में अतिरिक्त पुलिस अधीक्षक ओ पी शर्मा ने बताया कि गुमशुदाओ को खोजने के लिए थाना प्रभारी को फिर से आदेशित कर दिया गया है, जिसमे गुमशुदाओ को फिर से खोजने की बात कही गई है।
उन्होंने बताया कि ऐसे भी मामले सामने आए है जिसमें देखने को मिला है कि आरोपियों द्वारा बालिकाओं को बड़े – बड़े सपने दिखाकर उन्हें अन्य शहर लेकर चले जाते है। जहां उन्हें दलालों के पास छोड़कर बंधक बना दिया जाता है। ऐसे अपराध मारडूम और दरभा थाने में दर्ज किया गया है।

Related posts

फिर एक मवेशी हुई तेज रफ्तार की शिकार
कामधेनु गौ शाला के सदस्य ले गए उपचार के लिए

jia

कोतवाली पुलिस द्वारा गुम बालिका को 09 घंटे के भीतर पता तलाश कर उनके परिजनों को सुपुर्द किया गया

jia

लोन वर्राटू अभियान से प्रभावित होकर 02 इनामी माओवादीयों सहित कुल 03 माओवादीयों ने पुलिस उप महानिरीक्षक(के.रि. पु. ब.) व पुलिस अधीक्षक दंतेवाड़ा के समक्ष किया आत्मसमर्पण

jia

Leave a Comment

error: Content is protected !!