September 22, 2021
Uncategorized

आर्थिक नाकेबंदी कर आदिवासी समाज ने मांगा संवैधानिक हक
पुलिस प्रशासन और समाज प्रमुखों की हुई तीखी बहस

Spread the love

जिया न्यूज़:-राजेश जैन-बिजापुर,

भारी बारिश और पुलिस समझाइस के बाद आदिवासियों ने छोड़ी जिद , साढ़े तीन घंटे नाकेबंदी के बाद ज्ञापन सौंप हुआ समापन

बीजापुर:-अपने संवैधानिक हक को लेकर सोमवार को जिला मुख्यालय सहित सभी ब्लाक मुख्यालयों के मार्गो में सर्व आदिवासी समाज के बैनर तले सैकड़ों की संख्या में आदिवासी एक जुट होकर सुबह साढ़े आठ बजे से भारी वाहनों को नगर प्रवेश से रोकने लगे थे।
सर्व आदिवासी समाज के अध्यक्ष अशोक तलान्डी ने बताया कि बीजापुर के तुरनार चौक, भोपालपटनम के फारेस्ट नाका, आवापल्ली के इलमिडी चौक व भैरमगढ़ के पुसनार में क्रमशः गुज्ज़ा राम पवार, अल्वा मदनैया, नरेंद्र बुरका व आयतू राम तेलामी के नेतृत्व में सैकड़ों की संख्या में आदिवासी समाज के समाज प्रमुखों , युवाओं द्वारा आर्थिक नाके बंदी के लिए भारी वाहनों, मालवाहक वाहनों को आगे बढ़ने से रोक दिया। साढ़े 11 बजे बारिश के कारण बीजापुर में एसडीएम देवेश ध्रुव को ज्ञापन सौंपा गया और समापन किया गया। इसी तरह भोपालपटनम, उसूर व भैरमगढ़ में तहसीलदार को राष्ट्रपति, राज्यपाल के नाम से कलेक्टर के नाम ज्ञापन सौपा गया।
अशोक तलान्डी ने बताया कि छ ग सर्व आदिवासी समाज के प्रदेश इकाई के आव्हान पर पूरे प्रदेश में अपने संवैधानिक हक के लिए समाज ने आज आर्थिक नाके बंदी का कार्यक्रम किया था। लगातार समाज द्वारा प्रदेश के मुखिया मुख़्यमंत्री भूपेश बघेल को ज्ञापन सौंपा गया पर आदिवासियों की मांगों पर भूपेश बघेल सरकार द्वारा कोई पहल न किये जाने से यह कदम उठाने के लिए बाध्य होना पड़ा।क्या है मांगें

सिलगेर घटना में मारे गए आदिवासियों के परिजनों को 50-50 लाख का मुआवजा और परिजनों को योग्यतानुसार शासकी नॉकरी व घायलों को 5 लाख का मुआवजा, नक्सल समस्या के स्थायी समाधान के लिए पहल, पदोन्नति में आरक्षण, बैक लॉग भर्ती किये जाने, आदिवासियों का उत्पीड़न रोकने, वन अधिकार कानून 2006 व पेसा कानून के क्रियान्वयन नियम तत्काल लागू करने जैसे 20 सुत्रीय मांगे रही।

पुलिस के साथ हुई तीखी बहस

बीजापुर स्थित तुरनार चौक में लंबी लगी मालवाहकों की कतारों के बीच एसडीओपी कुंजाम ने आदिवासी समाज से नाकेबंदी खत्म करने की अपील के बाद विभिन्न मुद्दों पर बहस होने लगी। अंततः आदिवासी समाज के लोगों ने सहमति जाहिर कर एसडीएम देवेश ध्रुव को ज्ञापन सौंप कर समापन किया।

Related posts

Chhttisgarh

jia

रेड क्रॉस जिला श्रेष्ठ वॉलंटियर राज्यपाल अवॉर्ड से विश्वनाथ पाणीग्राही सम्मानित ।

jia

राज्य शासन के पुनर्वास नीति से प्रभावित होकर नक्सल संगठन से जुड़े 08 सदस्यों द्वारा पुलिस अधीक्षक कार्यालय सुकमा में किया गया आत्मसमर्पण

jia

Leave a Comment

error: Content is protected !!